सहारनपुर को साम्प्रदायिक, जातीय रूप दे रहा विपक्ष — योगी सरकार

0

लखनऊ — उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने सहारनपुर मामले में विपक्ष पर पलटवार किया है। सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने मंगलवार को यहां कहा कि विपक्ष इस मामले को अनायास ही साम्प्रदायिक और जातीय रूप देने में लगा है।

सिंह ने कहा कि सहारनपुर घटना के मामले में दोनों पक्षो के ख़िलाफ़ कार्रवाई हो रही है। सरकार ने पुलिस से कहा है कि पारदर्शिता के साथ इस मामले में निष्पक्ष जांच होनी चाहिये। उन्होंने कहा कि सहारनपुर में पूर्व में भी इस तरह की घटनायें हुई हैं। सरकार पूरी तरह से सजग है और माहौल बिगाड़ने वालों को छोड़ा नहीं जायेगा। लेकिन, चुनाव में अपनी हार से निराश विपक्ष इसे फालतू में साम्प्रदायिक और जातीय मोड़ देने में लगा है।

ग़ौर तलब है कि सहारनपुर में हाल में हुए विवाद के बाद बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज वहां का दौरा किया था। इस दौरान उन्होंने प्रदेश की सत्तारुढ़ भाजपा पर जातिवाद और पक्षपात वाली मानसिकता का आरोप लगाया था। मायावती के इस दौरे के बाबत पूछने पर सिंह ने कहा कि विधान सभा चुनाव में मायावती ने अपनी सियासी जमीन खो दीं। ऐसे में वह उसे पुनः पाने के लिए घड़ियाली आंसू बहा रही हैं। लेकिन, उन्हें अब इसका कोई फायदा मिलने वाला नहीं है।

एक दूसरे सवाल के जवाब में सिंह ने कहा कि सहारनपुर की घटना में पुलिस कार्रवाई में कोई देर नहीं हुई थी। उन्होंने कहा कि पुलिस तत्काल हरकत में आ गई थी और पूरी कार्रवाई निष्पक्षता के साथ की जा रही है।

उधर भाजपा के प्रदेश मुख्यालय में 23वें दिन जनता दरबार के दौरान सहारनपुर घटना पर पंचायती राज, लोक निर्माण विभाग राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) भूपेन्द्र सिंह चौधरी ने पत्रकारों से कहा कि जीरो ग्राउण्ड पर रिर्पोटिंग करिए, सत्य दिख जाएगा। कानून ईमानदारी से काम कर रहा है।

राज्य सरकार ने मृतक आशीष के परिजनों को 15 लाख और घायलों को 50 हजार रुपये की मदद देने की घोषणा की है।

Previous articleसहारनपुर हिंसा के लिए योगी सरकार ज़िम्मेदार — मायावती
Next articleसहारनपुर तनावपूर्ण, दलित-राजपूत भिड़ंत जारी