30 C
New Delhi
Saturday 4 July 2020

योगी से मिलने के बाद तिवारी परिवार अंतिम संस्कार के लिए तैयार

योगी आदित्यनाथ जी ने मामले में हर संभव कार्रवाई का आश्वासन दिया है। हम उनसे मिलकर आश्वस्त महसूस कर रहे हैं — कमलेश तिवारी की विधवा किरण

पूर्व हिंदू महासभा अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या के दो दिन बाद राज्य में राजनीतिक कोलाहल के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को मृतक के परिवार से अपने सरकारी आवास पर भेंट की और आश्वासन दिया कि दोषी व्यक्तियों को बख़्शा नहीं जाएगा।

तिवारी की माँ, उनकी पत्नी और तीन बेटों ने मुख्यमंत्री के साथ क़रीब 30 मिनट बिताए और हत्यारों को मृत्युदंड देने की मांग की। आदित्यनाथ ने बैठक के दौरान परिवार को हर संभव मदद का आश्वासन दिया और कहा कि पुलिस मामले की गंभीरता से जांच कर रही है।

मुख्यमंत्री से मिलने के बाद पत्रकारों से बात करते हुए मारे गए नेता की विधवा किरण ने कहा, “योगी आदित्यनाथ जी ने मामले में हर संभव कार्रवाई का आश्वासन दिया है। हम उनसे मिलने के बाद आश्वस्त महसूस कर रहे हैं। हमारी मांग है कि हत्यारों को मृत्युदंड दिया जाए।”

तिवारी की माँ कुसुम ने कहा, “मैंने योगी जी से कहा कि मुझे अपने बेटे के लिए न्याय चाहिए और हत्यारों को सख़्त सज़ा मिलनी चाहिए।”

अयोध्या टाइटल सूट मामले में सुप्रीम कोर्ट में अपीलकर्ताओं में से एक तिवारी की प्रस्तुति के एक दिन बाद लखनऊ में उनके घर के अंदर उनकी हत्या कर दी गई थी। शनिवार को सूरत में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया। मौलाना मोहसिन शेख़ (24), राशिद अहमद पठान (22) और फ़ैज़ान शेख़ (21) को उत्तर प्रदेश पुलिस, गुजरात एटीएस और सूरत के क्राइम ब्रांच ने एक संयुक्त अभियान में गिरफ्तार किया

तिवारी के बेटे और परिवार की सुरक्षा के लिए सरकारी नौकरी, NIA द्वारा उनकी हत्या की जाँच सहित उनकी नौ मांगों को पूरा करने के लिए मुख्यमंत्री योगी से मिलने के बाद तिवारी के परिवार उनके अंतिम संस्कार के लिए तैयार हुए।

इस बीच पुलिस ने कहा कि रविवार को यह पता चला कि हमलावर नाका हिंडोला इलाके के एक होटल में ठहरे थे। “होटल के कर्मचारियों के अनुसार, दोनों ने अपना नाम शेख अशफाकुल हुसैन और मुईनुद्दीन पठान के रूप में बताया था। हत्या के दिन, दोनों होटल से बाहर चले गए, भगवा कुर्ता पहन लिया और उनके हाथ में मिठाई का एक डिब्बा था,” यूपी के पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने बताया।

“वे 17 अक्टूबर को होटल आए और 18 अक्टूबर दोपहर को चले गए। खून से सना हुआ भगवा रंग का कुर्ता उनके बिस्तर पर पड़ा था। तौलिये में भी खून के धब्बे हैं। मौक़े से एक नए मोबाइल फोन का एक बॉक्स भी मिला। जांच के क्रम में यह एक बड़ी सफलता है। पुलिस जल्द ही हत्यारे तक पहुंच जाएगी,” उन्होंने कहा।

आदित्यनाथ ने शनिवार इस हत्या को “आतंक पैदा करने का कार्य” करार दिया और कहा कि मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल की घोषणा करते हुए दोषी को दंडित किया जाएगा। “राज्य में भय और आतंक का माहौल बनाने वाले तत्वों से सख्ती से निपटा जाएगा और उनकी योजनाओं को कुचल दिया जाएगा।” मुख्यमंत्री ने कहा कि इस तरह की घटना को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और इसमें शामिल लोगों को बख्शा नहीं जाएगा।

Follow Sirf News on social media:

For fearless journalism

%d bloggers like this: