Saturday 5 December 2020
- Advertisement -
Home Videos What if Patel, instead of Nehru, had been the first PM of...

What if Patel, instead of Nehru, had been the first PM of India?

Vallabhbhai Jhaverbhai Patel or Sardar Patel, as we all refer to him respectfully, was born on 31 October 1875 in Nadiad District Kheda. He served as the first deputy prime minister of India. A barrister and a senior leader of the Indian National Congress who played a leading role in the country’s struggle for independence and guided its integration into a united, independent nation, the Sardar acted as Home Minister during the political integration of India and the India-Pakistan War of 1947.

But why Patel is so fondly recalled even after 70 years of his death is because of the strong resolve he showed as the home minister in integrating with India more than 600 princely states, especially Hyderabad, which was then ruled by Nizam and supported by anti-Indian Razakars.

आज़ादी से पहले मोहनदास करमचंद गाँधी के अनुयायी होने के बावजूद उन्होंने पाकिस्तान के ख़िलाफ़ जो बुलंद इरादे का प्रदर्शन किया, उसके लिए देश उनके प्रति ऋणी है। देश भर में अधिकांश लोगों का यह मानना है कि यदि जवाहरलाल नेहरू की जगह सरदार पटेल भारत के प्रथम प्रधानमंत्री होते तो आज हमारा देश कुछ और होता। भारतीय जाति और मज़हब के नाम पर नहीं बंटे होते और हर भारतीय की सर्वोपरि निष्ठा राष्ट्र के प्रति होती, न कि अपनी जाति, बिरादरी, मज़हब, कुनबा आदि के प्रति।

Vallabhbhai Patel के 75 वर्ष के जीवनकाल के आधार पर यह हमारी कल्पना कितनी वास्तविक है? उनके जीवन का एक अध्याय, जहां वे नेताजी सुभाष चन्द्र बोस से उलझ गए थे क्योंकि एक तो कांग्रेस के अंदर वे गांधी गुट के थे और दूसरा उनके बड़े भाई विट्ठल भाई पटेल ने सुभाष बोस को जो अनुदान राशि दी थी, उसको लेकर भी दोनों राष्ट्र नेताओं में मनमुटाव था। हमें पता है कि स्वतंत्रता से पहले और बाद के पटेल के व्यक्तित्त्व में काफ़ी अंतर था। यदि 1945 के बाद भी नेताजी की ख़बर देशवासियों को होती तो क्या सरदार और नेताजी के बीच बेहतर संबंध हो सकते थे?

Other than this, what was the sequence of events that led to Jawaharlal Nehru becoming the first prime minister instead of Patel? To discuss these and other aspects of the original Iron Man of India, the Unifier of India, the man who moulded the British civil services to create the prevalent IAS system, we have with us journalist and Satyanweshi Bharat’s founder Kumar Shri Kant, veteran journalist, ex-BBC Vijay Rana, author Shantanu Gupta, political analysts Ashish Kumar Singh, गोरखपुर यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर, इतिहासकार और लेखक कौस्तुभ नारायण मिश्र, सुहेलदेव भारत समाज पार्टी के जैनेन्द्र अर्कवंशी और राजनैतिक व धार्मिक विषयों के समीक्षक अखिलेश गौतम।

%d bloggers like this: