Thursday 9 December 2021
- Advertisement -
HomeSportsकोहली ने अज़हरुद्दीन का फ़ॉलोऑन रिकॉर्ड तोड़ा

कोहली ने अज़हरुद्दीन का फ़ॉलोऑन रिकॉर्ड तोड़ा

कोहली ने करियर में आठ बार प्रतिपक्ष से फ़ॉलोऑन करवाए जिसमें दो टेस्ट सीरीज़ भी शामिल हैं; उन्होंने अज़हरुद्दीन के सात मैचों का रिकॉर्ड तोड़ा

भारतीय गेंदबाज़ों ने सोमवार को राँची के जेएससीए इंटरनेशनल स्टेडियम में तीसरे टेस्ट के तीसरे दिन दक्षिण अफ्रीका से लगातार दोबारा बल्लेबाज़ी करवा कर विराट कोहली के नाम एक और रिकॉर्ड दर्ज किया। भारतीय कप्तान ने मुहम्मद अज़हरुद्दीन के बतौर भारतीय कप्तान सबसे अधिक फ़ॉलोऑन लागू करवाने के रिकॉर्ड को इसी के साथ तोड़ दिया

कोहली ने अपने करियर में आठ बार प्रतिपक्ष से फ़ॉलोऑन करवाए जिसमें दो टेस्ट सीरीज़ भी शामिल हैं। उन्होंने अज़हरुद्दीन के सात मैचों के रिकॉर्ड को आज तोड़ा। एमएस धोनी के नाम पांच और सौरव गांगुली के नाम चार फ़ॉलोऑन्स दर्ज हैं।

दक्षिण अफ्रीका को दूसरे और तीसरे टेस्ट दोनों में फ़ॉलोऑन करने के लिए कहा गया। यह 18 साल में पहला उदाहरण है जब किसी टीम से लगातार दो टेस्ट में फ़ॉलोऑन करवाया गया। दक्षिण अफ्रीका को फ़ॉलोऑन देने वाली आख़री टीम ऑस्ट्रेलिया थी।

26 वर्षों में यह पहली बार हुआ जब भारत ने लगातार दो टेस्ट में फ़ॉलोऑन लागू किया है। यह आख़री बार एक घरेलू श्रृंखला में श्रीलंका के ख़िलाफ़ हुआ था।

कोहली द्वारा प्रतिपक्ष को फ़ॉलोऑन दिए जाने के पिछले सात अवसरों में भारत ने पांच बार जीत हासिल की जबकि मैच दो बार ड्रॉ में समाप्त हुआ।

दक्षिण अफ्रीका तीसरे टेस्ट की पहली पारी में केवल 162 रन बनाने में सफल रहा। उमेश यादव ने तीन विकेट लिए जबकि मुहम्मद शमी, रवींद्र जडेजा और शाहबाज़ नदीम ने दो-दो विकेट लिए।

दक्षिण अफ्रीका के केवल तीन बल्लेबाज़ दोहरे अंक के स्कोर को दर्ज करने में सफल रहे। ज़ुबैर हमज़ा ने अपना पहला टेस्ट अर्धशतक जमाया लेकिन दूसरी पारी में शून्य पर आउट हो गए। नए खिलाड़ी जॉर्ज लिंडे और टेम्बा बावुमा ने क्रमशः 37 और 32 रन बनाए। बावुमा दूसरी पारी में तीन गेंदों का सामना कर एक भी रन बना न सके।

दूसरी पारी में विकटों की झड़ी लगाने के बाद फ़ाफ़ द्यु प्लेसी की अगुवाई वाली टीम को पारी की हार का सामना करना पड़ा।

1 view

Sirf News needs to recruit journalists in large numbers to increase the volume of its reports and articles to at least 100 a day, which will make us mainstream, which is necessary to challenge the anti-India discourse by established media houses. Besides there are monthly liabilities like the subscription fees of news agencies, the cost of a dedicated server, office maintenance, marketing expenses, etc. Donation is our only source of income. Please serve the cause of the nation by donating generously.

Support pro-India journalism by donating

via UPI to surajit.dasgupta@icici or

via PayTM to 9650444033@paytm

via Phone Pe to 9650444033@ibl

via Google Pay to dasgupta.surajit@okicici

President Kovind said it was deeply painful for him to learn of the loss of lives in the helicopter crash in Tamil Nadu.

https://economictimes.indiatimes.com/news/india/nation-has-lost-one-of-its-bravest-sons-president-vice-president-pm-condole-general-bipin-rawats-demise/articleshow/88170452.cms?utm_source=contentofinterest&utm_medium=text&utm_campaign=cppst

As I have previously explained, academia does not select for intellectual @us_navyseals. Rather, intellectuals are taught to be sheepish, meek, tepid. Be quiet. Stay in your lane. Don't rock the boat. Bold and irreverent thinkers are frowned upon. It's grotesque.

James@JimityBlack

@GadSaad Why are most university professors such weirdos dr saad?

Dear @hydcitypolice and @CyberCrimeshyd,

Mustafa Riaz from Hyderabad is celebrating demise of CDS Gen Bipin Rawat by abusing him & also wishing same for Prime Minister.

Later, he changed bio of his profile & also changed his name to Anshul Saxena.

Link: https://www.twitter.com/draxler_77

2
Read further:

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Now

Columns

[prisna-google-website-translator]
%d bloggers like this: