15 C
New Delhi
Monday 16 December 2019
India वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी के ख़िलाफ़ लड़ने को जगह-जगह...

वाराणसी से प्रधानमंत्री मोदी के ख़िलाफ़ लड़ने को जगह-जगह से आए तरह-तरह के नमूने

वाराणसी से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के ख़िलाफ़ लड़ने को तत्पर कोई यह चाहता है कि ज़िन्दगी में कुछ कर गुज़रे तो कोई यह चाहता है कि लोगों को एक संदेश मिले

वाराणसी | कुछ दिनों तक सुर्ख़ियों में रहने के लिए हो या फिर सचमुच के विरोध के लिए, वाराणसी ने नरेंद्र मोदी से दो-दो हाथ करने के इच्छुक उम्मीदवारों की एक दिलचस्प लाइन लगी हुई है — तमिलनाडु के किसानों के एक समूह से लेकर अदालत की अवमानना ​​के लिए दोषी ठहराए गए एक उच्च न्यायालय के न्यायाधीश और यहां तक ​​कि एक बर्खास्त बीएसएफ सिपाही कतार में खड़े हैं।

कलकत्ता हाई कोर्ट के रिटायर्ड जज सीएस कर्णन हाल ही में इस लाइन में जुड़े हैं। उच्चतम न्यायालय द्वारा अवमानना ​​के लिए दोषी पाए जाने वाले पहले न्यायाधीश कर्णन भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ लड़ना चाहते हैं। उन्हें जून 2017 में छह महीने की जेल की सजा हुई थी।

तमिलनाडु के 63 वर्षीय पूर्व न्यायाधीश के लिए वाराणसी उनका दूसरा युद्ध का मैदान है। उन्होंने पहले ही मध्य चेन्नई लोकसभा सीट के लिए अपना नामांकन दाखिल कर दिया है। वह 2018 में उनके द्वारा बनाई गई एंटी-करप्शन डायनामिक पार्टी के लिए चुनाव लड़ रहे हैं।

वाराणसी ही क्यों?

वाराणसी को चुनने के लिए कर्णन के कारण बहुत स्पष्ट नहीं हैं। यहाँ उनकी कोई उपस्थिति नहीं है, कोई नेटवर्क या संगठन शक्ति नहीं है।

पीएम से मुलाकात करने का कारण पूछने पर उन्होंने कहा, “वाराणसी एक हाई-प्रोफाइल सीट है। मैं इसका जवानों के मुद्दों को उजागर करने के लिए एक मंच के रूप में उपयोग कर सकता हूं। मैं जीत नहीं सकता, लेकिन मैं एक संदेश भेजना चाहता हूं।”

वाराणसीइसके अलावा मोदी को चुनौती देने के लिए तमिलनाडु के किसानों का एक समूह है, जिन्होंने 2017 में दिल्ली में विरोध प्रदर्शन किया था। तमिलनाडु के 111 किसानों के एक समूह और फ्लोरोसिस पीड़ित अंसला स्वामी वाराणसी में मोदी से लोहा लेने के लिए तैयार हैं। इस समूह का नेतृत्व पी अय्याकन्नू कर रहे हैं और महँगी गाड़ियों में घूमने वाले ये ‘ग़रीब किसान’ भी वाराणसी से लड़ेंगे।

कुछ और भी हैं, जैसे कि नलगोंडा (तेलंगाना) और प्रकाशम (आंध्र प्रदेश) के फ्लोरोसिस के शिकार जिनका नेतृत्व एक्टिविस्ट वड्डे श्रीनिवास और जलागम सुधीर कर रहे हैं। भूजल का फ्लोराइड संदूषण दो राज्यों में एक गंभीर मुद्दा है और उनका उद्देश्य है एक ऐसे मंच से इस बारे में बात करना जो देशवासियों के ध्यान का केंद्रबिंदु होगा।

कुछ वाराणसी से इसलिए खड़े हैं कि किसी उपेक्षित मुद्दे पर राष्ट्रीय स्तर पर लोगों का ध्यान जाए, कोई यह चाहता है कि ज़िन्दगी में कुछ कर गुज़रे तो कोई यह चाहता है कि लोगों को एक संदेश मिले — जैसे कि बीएसएफ के पूर्व कॉन्स्टेबल तेज बहादुर यादव चाहते हैं। यादव एक निर्दलीय के रूप में चुनाव लड़ना चाहते हैं।

वाराणसीवे पिछले साल तब सुर्खियों में आए जब उन्होंने जवानों को परोसे गए “घटिया भोजन” की आलोचना करते हुए एक वीडियो अपलोड किया। जांच अदालत द्वारा उनके आरोपों को झूठा घोषित किए जाने के बाद उन्हें सेवा से बर्खास्त कर दिया गया था।

और अधिक हाई प्रोफाइल दावेदारों में भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद हैं। 30 मार्च को वाराणसी में एक रोड शो का मंचन करने वाले आजाद ने घोषणा की कि “मोदी की हार की उलटी गिनती शुरू हो गई है”। उन्होंने अपने उग्र भाषणों के कारण दलित युवाओं को आकर्षित किया। उन्होंने तब भी ध्यान आकर्षित किया जब कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने उनसे मुलाकात की।

अन्य दिलचस्प उम्मीदवार विश्वंभर नाथ मिश्र हैं जो बीएचयू के प्रोफेसर हैं और वाराणसी में संकट मोचन मंदिर के महंत हैं, जो गंगा को साफ करने के लिए अभियान चला रहे हैं। हालांकि स्थानीय ख़बरों की मानें तो ये कांग्रेस की टिकट पर चुनाव लड़ सकते हैं, आधिकारिक तौर पर कुछ भी पुष्टि नहीं की गई है।

वाराणसी में 19 मई को मतदान होगा।

Subscribe to our newsletter

You will get all our latest news and articles via email when you subscribe

The email despatches will be non-commercial in nature
Disputes, if any, subject to jurisdiction in New Delhi

Leave a Reply

Opinion

Justice That Is Instant Is Travesty

But neither the state nor society can wash their hands off this social craving for settling scores in the name of doing justice to the victim

Karnataka Voters Punished INC, JDS Leaders

Even the BJP was not confident of the result even as their leaders kept saying for public consumption they were winning all the 15 seats

The United States Of The World

The United States, stereotyped as the land of plenty and plentiful guns, is still a destination of choice for people from across the world

प्याज़ के आँसू न रोएँ — महंगाई से किसान, उपभोक्ता दोनों को फ़ायदा

जिस अल्प मुद्रास्फीति की वजह से वे सरकार से बहुत खुश थे, उसी 1.38 प्रतिशत की खाद्यान्न मुद्रास्फीति के कारण किसानों को अपने पैदावार के लिए समुचित मूल्य नहीं मिल रहे थे

CAB Can Correct Wrongs Of NRC

… if the government can fix the inept bureaucracy and explain what happens to those marked as aliens, as the neighbours are not taking them back
- Advertisement -

Elsewhere

Savarkar to Sena: Kick out INC from Maharashtra govt

Grandson of the freedom fighter Ranjit Savarkar advised Uddhav Thackeray today that if he were to throw out INC, BJP wouldn't vote against it

Mayawati calls INC bluff on Savarkar

Mayawati said it was duplicitous to curse Savarkar on the one hand and be in a coalition government with a pro-Savarkar party in Maharashtra

NEFT transaction 24×7 beginning 16 December

NEFT is a method of online transaction, in which you can transfer to another bank account up to Rs 2 lakh online at a time

Decision to amend Citizenship Act 1,000% honest: PM Modi

'We have brought this law to give citizenship to minorities of Pakistan, Afghanistan and Bangladesh who have endured a lot of persecution'

Nirbhaya case convicts: Why 2 will take longer to die

Further, a source in the jail said while four rapists and killers of Nirbhaya are supposed to hang on one day, they have ordered 10 ropes

You might also likeRELATED
Recommended to you

For fearless journalism

%d bloggers like this: