33 C
New Delhi
Monday 6 July 2020

काशी में स्वच्छता अभियान ज़ोरों पर

वाराणसी — जैसा कि आप सब को ज्ञात है, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश को साफ़-सुथरा बनाने व रखने के लिए “स्वच्छ भारत” अभियान का प्रारंभ गत वर्ष किया था। उनके लोक सभा क्षेत्र वाराणसी में यह काम तेज़ गति, सुचारू और व्यवस्थित रूप से चल रहा है।

गंगा के अस्सी घाट पर इस कार्यक्रम का उद्घाटन हुआ था. कार्यक्रम में उनके स्वयं के शामिल होने से आम नागरिकों में भी उत्साह का संचार हुआ एवं वाराणसी तथा पूरे भारत भर से लोग वातावरण को साफ़ रखने की कोशिश में जुट गए।

स्वच्छता अभियान के उपरान्त बनारस के घाटों के दृश्य

मैं ने भी इस अभियान में बढ़-चढ़ कर भाग लिया. प्रस्तुत है हमारी कोशिशों की कुछ झलकियाँ 

महाश्मशान ‘हरिश्चंद्र घाट एवं मणिकर्णिका घाट’ पर स्वच्छता अभियान

घाटों पर किये जा रहे रहे किसी भी प्रयास (मरम्मत, सफाई) के दौरान ऐतिहासिक मौलिक स्वरुप बिगड़ना स्वीकार्य नहीं — शोभा ठाकुर

29 जून — डीजल रेल इंजन कारखाना नागरिक सुरक्षा दल की ओर से डीरेका सूर्य सरोवर में श्रमदान कार्यक्रम ; सभी सदस्यों ने सफाई करने के साथ ही स्वच्छ भारत मिशन को सफल बनाने की शपथ ली

10 जुलाई — काशी हिन्दू विश्वविद्यालय : अलग-अलग संकायों के छात्र घाटों को स्वच्छ बनाने में लगे

14 जुलाई — काशी के रामनगर स्थित बाल सुधार गृह में रहने वाले बच्चों ने परिसर में पौधारोपण कर पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया; परिसर में क़रीब 50 से अधिक पौधे रोपे गए। बच्चों ने उन पौधों को रोपने के साथ-साथ उनकी देखभाल करने का भी संकल्प लिया।

16 जुलाई — प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वागत में “नमामि गंगे” की ओर से गंगा पार रेत से आकृति बनाई गई

16 जुलाई — महिलाओं ने अपना समर्थन दिया स्वच्छ आँगन अभियान को ; प्रत्येक शनिवार को सर्वप्रथम “कलेक्टर घाट की सफाई” तत्पश्चात सायं 6:30 बजे आरती

20 जुलाई — वाराणसी में स्वच्छता अभियान के अंतर्गत प्रातःकालीन शाखा मैदान को साफ़ किया गया।

मुंशी प्रेमचंद के पैतृक ग्राम लमही में प्रतिदिन स्वच्छता अभियान चला व गाँव में सर्वत्र स्वच्छता एवं जागरूकता देखि गई।

भदैनी घाट में स्वच्छता अभियान के तहत स्वच्छ, संपन्न तथा स्वस्थ भारत के लिए प्रयास किए गए।

20 – 25 जुलाई —माइ क्लीन इंडिया” के तहत स्वयंसेवकों की टीमों ने 5 गाँवों की सफ़ाई की गई।

24 जुलाई — वाराणसी कैंटनमेंट रेलवे स्टेशन पर “वृहत स्वच्छता अभियान” के तहत एक नवीन स्वरुप में चमक उठा परिसर एवं यार्ड क्षेत्र; प्रतिदिन इलाक़े का निरीक्षण हुआ; डीएम प्रांजल यादव ने लक्ष्मीकुंड में सीवर का पानी आने से रोकने की स्थायी व्यवस्था करवा के उसे तत्काल साफ कराने के निर्देश दिए।

स्वच्छ धरोहर अभियान के तहत @emerging_yuvas टीम द्वारा चंद्रशेखर आज़ाद की जयंती पर उनकी प्रतिमा को निर्मल किया गया।

26 जुलाई — उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की अपील पर समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता पूरे प्रदेश में पौधारोपण कर रहे हैं।

27 जुलाई — स्वच्छ धरोहर अभियान — @emerging_yuvas द्वारा “विजय दिवस” पर अमर जवान स्मारक को निर्मल किया गया।

30 जुलाई — काशी को हरा-भरा बनाने के लिए एक पहल — शहर में जगह-जगह वृक्ष लगाए जाएंगे तथा लोगों को वृक्षारोपण के लिए प्रेरित किया जाएगा || लंका चौराहे के दोनों तरफ वृक्षारोपण करने के बाद स्थानीय दुकानदारों को वृक्षों के देखरेख का दायित्व भी सौंपा गया।

3 अगस्त — वाराणसी के मेयर ने देश में प्रौद्योगिकी-आधारित शौचालय व्यवस्था की आधारशिला रखी; इसके अंतर्गत लोगों के शौच व्यवहार पर भी निगरानी रखी जाएगी। रानी भवानी जय नारायण बालिका विद्यालय और राजेंद्र प्रसाद घाट में दूरवर्ती निरीक्षण एवं जलहीन मूत्रालय की व्यवस्था का उद्घाटन हुआ। आगे लक्सा बाज़ार में यह प्रणाली स्थापित की जाएगी।

5 अगस्त — चौबेपुर (भंदहाकला ग्राम पंचायत) पूर्व माध्यमिक और प्राथमिक विद्यालय में वृक्षारोपण — छायादार और औषधीय प्रजातियों के 25 पौधे लगाए गए।

पर्यावरण सरंक्षण हेतु “नमामि गंगे” के अंतर्गत देश की सांस्कृतिक नगरी काशी में हरियाली कार्यक्रम || नमामि गंगे से जुड़े लोगों ने आमजन को पर्यावरण संरक्षित करने को लेकर जागरूकता अभियान भी चलाया ; अधिक से अधिक वृक्ष लगायें।

रसूलगढ़ प्राथमिक विद्यालय में शिक्षकों और विद्यार्थियों ने वृक्षारोपण किया।

पेड़ हमारी धरोहर हैं – कौशल्या देवी

विकास शिक्षण समिति और सरस्वती कन्या इण्टर कॉलेज के संयुक्त तत्वावधान में विद्यालय परिसर में वृक्षारोपण।

अगस्तइस दिन से आरम्भ हुए सावन मेले के दौरान मंदिरों की तरफ़ जाने वाले मार्गों पर चूना एवं कीटनाशक दवाओं का छिड़काव प्रतिदिन हुआ; शहर के सभी प्रमुख मंदिरों और उनके आसपास, नगर निगम द्वारा 3 पाली में झाड़ू लगवाई गई। यह कार्य अब भी जारी है और जारी रहेगा।

7 अगस्त — बाल गंगाधर तिलक छात्रावास के परिसर में राष्ट्रीय सेवा योजना और कृषि संकाय के सहयोग द्वारा वृक्षारोपण किया गया। यहाँ 120 वृक्ष लगाए गए।

8 अगस्त — काशी हिन्दू विश्वविद्यालय में वृक्षारोपण कार्यक्रम के द्वारा स्वयंसेवकों ने छात्रावास सुंदरीकरण का अभियान शुरू किया।

11 अगस्त — डीज़ल रेल इंजन कारखाना (डीरेका) के प्रांगण में सभी अधिकारियों व कर्मचारियों के संग उनके परिजनों ने सफाई अभियान चलाया।

7 – 15 अगस्त  8 ब्लाकों में कुल 3.5 लाख पौधे विश्व हिन्दू परिषद काशी महानगर इकाई ने लगवाए। प्रत्येक घर में तुलसी एवं फलदार पौध लगाने हेतु जागरूकता अभियान चलाया गया। सीडीओ एवं बीडीओ के नेतृत्व में करसड़ा ग्राम की बुनकर कालोनी में 127 एवं दानगंज के कटारी ग्राम में 200 पौध लगाईं गयी; 1,000 पौध का लक्ष्य तय हुआ। इस “पर्यावरण सप्ताह” में सम्पूर्णानन्द स्पोर्ट्स स्टेडियम में 20 पौधे लगाए गए; लक्ष्य कुल 101 का है। पूरे क्षेत्र के 10,000 पौध का लक्ष्य रखा गया है।

[stextbox id=”alert” caption=”कार्यक्रम सूची”]20 जुलाई – 9 अगस्त  गाँव में 27 स्वच्छता अभियान; 47 स्वच्छता जाकरूकता अभियान एवं 17 पौधरोपण अभियान
10 अगस्त – 18 सितंबर  वाराणसी में 5 कुंडोँ का जीर्णोद्धार एवं 24 गंगा घाटोँ पर ‘स्वच्छता अभियान’[/stextbox]

मेरे समूह ने वृक्षारोपण अभियान के अंतर्गत 9 गाँवों में ८०० पौधे लगाए

20 – 30 सितम्बर काशी के 21 घाटोँ पर ‘साप्ताहिक स्वच्छता अभियान’ एवं ‘जन-जागरूकता’ हेतु विभिन्न कार्यक्रम चलाए गए।

गंगा की निर्मलता हेतु ‘नमामि गंगे’ द्वारा ‘जन-जागरण अभियान’ आरंभ हुआ। टीम की सहभागिता से स्वच्छता अभियान चला।

हरिश्चंद्र स्नातकोत्तर महाविद्यालय इकाई द्वारा चलाए अभियान में 2100 विद्यार्थियों ने भाग लिया।

चितईपुर ग्रामसभा पंचायत द्वारा प्राचीन कंदवा तालाब एवं मंदिर की सफ़ाई के लिए अभियान आरंभ हुए; ग्रामीण लोग इसके सहभागी बने।

‘लोलार्क षष्ठी’ के अवसर पर स्नान के बाद पुनः ‘लोलार्क कुण्ड’ स्वच्छ किया गया एवं जन-जागरूकता अभियान चलाया गया।

बकरीद के अवसर पर नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग द्वारा अतिरिक्त स्वच्छता अभियान चलाया गया; 100+ कर्मी अतिरिक्त इस काम में लगे।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय छात्रावासोँ में निरंतर वृक्षारोपण जारी रहा; विश्वेश्वरैया छात्रावास में 101 पौधे लगाए गए।

पर्यावरण संरक्षण के अंतर्गत विभिन्न संगठनों द्वारा आवश्यक स्थानों पर ‘वृक्षारोपण अभियान’ जारी है।

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों द्वारा वाराणसी के 14 ग्रामों में आज ‘पौधारोपण’ एवं ‘स्वच्छता-जागरूकता’ अभियान।

5 घंटे चले ‘स्वच्छता अभियान’ के अंतर्गत बीएचयू के विद्यार्थियों की मेहनत से ‘लोलार्क कुंड’ एवं ‘तुलसी घाट की गलियाँ’ चमक उठीँ।

विद्यार्थियों के समूह द्वारा हरहुआँ क्षेत्र के ग्रामों में ‘वृक्षारोपण’ हेतु ‘जन-जागरूकता अभियान’ चलाया गया।

विगत 10 माह के अंतर्गत काशी के 46 पार्कोँ की सफाई की गई। दुर्गाकुंड स्थित तुलसी मानस मंदिर पार्क की सफाई की गई। अब चलेगा ‘हरियाली अभियान’।

काशी में 1.5 लाख नवीन पौध की सुरक्षा हेतु लोहे के ट्री-गार्ड के प्रस्ताव प्रेषित करने हेतु कार्य आरंभ हुआ।

“स्वच्छ काशी, हरित काशी” और  के तहत 7 कुण्ड और 32 घाट की सफ़ाई कराई गई और  के अंतर्गत 52 गाँवों को 1 महीने में निर्मल बनाया गया।

शहर को स्वच्छ रखने हेतु ‘सारनाथ स्थित बरईपुर’ में स्थापित होगा ठोस कचरा प्रसंस्करण प्लांट। जैविक खाद बनेगी; मुस्कान ज्योति संस्था को इस वृहत कूड़ा निस्तारण की ज़िम्मेदारी दी गई है। 2 अक्टूबर को प्लांट का शुभारंभ हुआ।

‘स्वच्छ काशी-सुंदर काशी’ के संकल्प को विस्तार देते हुए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा 4 स्थानों पर ‘स्वच्छता अभियान’ चलाये गया। इस स्वच्छता अभियान में प्रेम समर्पण सेवा संस्थान के सदस्यों ने भी सहभागिता सुनिश्चित की।

काशी हिन्दू विश्वविद्यालय परिसर में समस्त शौचालयोँ की दिन में 2 बार सफाई की गई। 10 हजार पौधे भी यहाँ लगाए जा रहे हैं।

अस्सी घाट पर सुलभ इंटरनेशनल द्वारा निर्मित शौचालय का लोकार्पण किया गया एवं लंका क्षेत्र में स्वच्छता अभियान चलाया गया।

पर्यावरण सप्ताह में हरिश्चंद्र घाट, हनुमान घाट, शिवाला घाट, जैन घाट, तुलसी घाट, अस्सी घाट पर स्वच्छता अभियान चलाया गया एवं जागरूकता फैलाई गई।

मणिकर्णिका घाट एवं आसपास की गलियों में कूड़ेदान का वितरण किया गया एवं “स्वच्छता के प्रति जागरूक” किया गया।

स्वच्छता अभियान के अंतर्गत सारनाथ स्थित प्राचीन सारंगनाथ महादेव मंदिर के सामने ‘शिव कुंड’ की सफाई की गई।

कबीरनगर पार्क एवं अर्दली बाजार में महावीर मंदिर स्थित कुंड को साफ किया गया ॥ इन स्थानों को एक नवीन सुन्दरता प्राप्त हुई।

मैदागिन, कंपनी बाग, ईश्वरीगंज, मच्छोदरी, बेनियाबाग स्थित तालाबों की स्वच्छता का कार्य आरंभ हुआ।

रामलीला की तैयारी के तहत ‘रामबाग स्थल’ का समतलीकरण, सफाई के साथ-साथ ‘रामबाग पोखरे’ की सीढ़ियों की सफाई संपन्न हुई। विश्व-प्रसिद्ध रामनगर की रामलीला के मद्दे नज़र स्थानीय पालिका प्रशासन द्वारा रामलीला स्थलों की सफाई का कार्य आरंभ।

‘स्वच्छ प्रांगण हरित प्रांगण’ अभियान के अंतर्गत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा मैदागिन स्थित हरिश्चंद्र पीजी कॉलेज में डस्टबिन वितरण किया गया।

भारत माता मंदिर में फैली गंदगी, मंदिर के बाहर बने बस शेल्टर की सफाई की गई। शेल्टर को साफ़-सुथरा रखने के लिए पान विक्रेता को डस्टबिन दिए गए। ‘स्वच्छ काशी सुंदर काशी’ नारे के साथ पूर्व में युवाओं की इसी टीम ने लहरतारा स्थित बस शेल्टर पर श्रमदान कर शेल्टर का कायाकल्प किया था।

‘स्वच्छ प्रांगण हरित प्रांगण’ के तहत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा हरिश्चंद्र महाविद्यालय में सफाई अभियान चलाया गया।

‘स्वच्छ काशी, सुन्दर काशी’ के अंतर्गत काशी में 100 स्थानों पर ‘वाटर एटीएम’ के पश्चात काशी के सभी घाटोँ पर बायो टायलेट लगेंगे। युवाओं ने मिलकर कैंट-लहरतारा रोड पर बने बस शेल्टर का कायाकल्प कर दिया है।

अस्सी घाट में स्वच्छ भारत मिशन वाराणसी द्वारा 660 कूड़ेदान वितरित किए गए।

100 कूड़ेदान मैजिक बाक्स (भाभा आणविक अनुसंधान केंद्र द्वारा तैयार) के रुप में कार्य करेंगे। ठोस कचरा मात्र 2 दिन में खाद बन जाएगा।

स्वच्छता घर से घाट की ओर! सृष्टि संरक्षणम् नामक संस्था की तरफ से ‘स्वच्छता सप्ताह’ के अंतर्गत विभिन्न कार्यक्रम आरंभ हुए।

पार्क स्वच्छता अभियान चलाया गया; काशी में 46 पार्क स्वच्छ करने के पश्चात काशीवासियों ने गुरुधाम पार्क की सफाई की।

छावनी परिषद द्वारा मिंट हाउस, कैंट स्टेशन, वरुणा क्षेत्र आदि इलाकों में जागरूकता अभियान चलाया गया।

भारत माता मंदिर के सामने स्थित कूड़ाघर को हटाने के लिए भगत सिंह यूथ फ्रंट के सदस्यों ने नगर आयुक्त से मुलाक़ात की।

नगर आयुक्त डा श्रीहरि प्रताप शाही के नेतृत्व में मछोदरी तालाब पर चला स्वच्छता अभियान। तालाब स्वच्छ हुआ।

सगरा तालाब, कंपनी बाग तालाब, पुष्कर तालाब, संकुलधारा पोखरा, भिखारीपुर पोखरा, टिकरी तालाब, राय साहब का पोखरा, भास्कर पोखरा, महावीर मंदिर स्थित पोखरा, ईश्वरगंगी तालाब, पितरकुंड, सोनिया कुंड पर स्वच्छता अभियान।

छावनी परिषद द्वारा ‘सदर बाजार’ स्थित ‘अंबेडकर कालोनी’ एवं ‘सद्भावना पार्क’ की सफाई की गई (गली, सड़क, नाले साफ)। करियप्पा मार्ग पर छावनी परिषद के कर्मचारियों द्वारा रोड की वृहद सफाई एवं सड़क किनारे पत्थरों पर रंग-रोगन किया गया।

नमामि गंगे जागरूकता अभियान के तहत वरुणा किनारे स्थित 10 मंदिरों पर सोलर लाइट एवं शौचालय निर्माण का काम शुरू हुआ; प्रशिक्षित 35 युवा 50 गाँवों में सक्रिय रहेंगे एवं वृक्षारोपण सहित विभिन्न कार्यक्रम आयोजित होगें।

काशी में स्वच्छता अभियान के अंतर्गत 2 अक्टूबर को 5 योजनाओं का शुभारंभ एवं बायोडिग्रेबल युक्त 100 कूड़ेदान का वितरण हुआ।

2 अक्टूबर को स्वच्छ भारत अभियान के 1 वर्ष पूर्ण होने पर ‘स्वच्छता गीत’ जनता के समक्ष आएगा।

‘सुबहे-बनारस’ कार्यक्रम से पहले प्रातःकालीन आरती की तैयारी

Follow Sirf News on social media:

Avatar
Anupam Pandeyhttp://anupamkpandey.co.in
​​IT analyst with mentoring responsibilities at IEEE, an associate at CSI India

6 COMMENTS

For fearless journalism

%d bloggers like this: