31 C
New Delhi
Sunday 5 July 2020

योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी

योगी आदित्यनाथ ने 21 साल की उम्र में ही परिवार को छोड़ दिया था। इसके बाद वे गोरखपुर आ गए यहां वो सन्यासी हो गए

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को जान से मारने की धमकी मिली है। आपातकालीन नंबर 112 के व्हाट्सएप पर यह धमकी दी गई। व्हाट्सएप के इस धमकी भरे मैसेज में सीएम को एक विशेष समुदाय के लिए खतरा बताया गया है। धमकी देने वाले की पहचान नहीं हुई है। लखनऊ के गोमती नगर पुलिस स्टेशन में केस दर्ज कर लिया है। मामले की जांच जारी है।

धमकी भरा मैसेज आते ही कन्ट्रोल रूम से तुरन्त इसकी सूचना पुलिस अफसरों को दी गई। पुलिस ने धमकी देने वाले के नम्बर पर पड़ताल शुरू कर दी गई। इस मामले में पुलिस ने गोमती नगर पुलिस स्टेशन में धारा 505(1)b 506,और 507 के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

इंस्पेक्टर धीरज कुमार की ओर से दर्ज एफआईआर के मुताबिक यूपी 112 के सोशल मीडिया डेस्क के व्हाटसएप नम्बर पर 7570000100 पर मोबाइल नम्बर 8828453350 से गुरुवार रात 12:32 पर धमकी भरा मैसज आया। मैसेज में लिखा था कि मैं योगी आदित्यनाथ को बम से हमला कर जान से मार दूंगा… । फिर उसने योगी को कुछ लोगों की जान का दुश्मन बताया। पुलिस इस नम्बर की पड़ताल कर रही है। आरोपी के बारे में कई जानकारी पुलिस को मिल गई है। ट्रू कॉलर पर इस नम्बर को चेक करने पर लिखा आता है-हाय गाय… जस्ट एबुसिंग… । पुलिस कमिश्नर सुजीत पाण्डेय ने बताया कि एफआईआर दर्ज कर पड़ताल की जा रही है।

इसे भी पढ़े: Bus scam? FIR against Priyanka’s PS, UP Congress chief

यूपी स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में कोरोनावायरस संक्रमण के कुल 5,515 मामले हैं, जिनमें से 2,173 ऐसे मरीजों के मामले हैं जिनका इलाज चल रहा है और 3,204 मरीज ठीक हो चुके हैं। राज्य में इस संक्रमण की वजह से अब तक जान गंवाने वालों की संख्या 138 हो गयी है।

मौत के 11 नये मामलों में दो गोरखपुर में, एक एक आगरा, कानपुर, लखनऊ, फिरोजाबाद, अलीगढ., एटा, प्रतापगढ, अयोध्या और चित्रकूट के हैं।

इसे भी पढ़े: योगी ने औरैया हादसे पर आईजी से मांगी रिपोर्ट

योगी आदित्यनाथ ने 21 साल की उम्र में ही परिवार को छोड़ दिया था। इसके बाद वे गोरखपुर आ गए यहां वो सन्यासी हो गए। एक बार उनके पिता अपने बेटे को वापिस घर बुलाने के लिए मनाने गए लेकिन आदित्यनाथ ने ऐसा करने से मना कर दिया और पिता को समझाकर घर वापिस भेज दिया था। ये घटना 24 साल पहले की बताई जाती है।

Follow Sirf News on social media:

For fearless journalism

%d bloggers like this: