टेरीज़ा मे को नहीं मिला बहुमत ब्रिटेन के संसद में

0
264
टेरीज़ा मे

लंदन — ब्रिटेन में समय-पूर्व करवाए जा रहे आम चुनाव में मतों की गिनती चल रही है और अधिकांश सीटों के नतीजे मिल गए है और शेष कुछ सीटों के रूझान भी मिल रहे हैं। बर्तानिया की प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे की पार्टी की कुछ सीटों की संख्या घटने के साथ यह इस बार त्रिशंकू संसद होने की प्रबल संभावना है। इस चुनाव में मुख्य विपक्षी पार्टी लेबर पार्टी की संख्या बढ़ी है। यह जानकारी मीडिया रिपोर्ट से शुक्रवार को मिली।

मतगणना की ताजा स्थिति के अनुसार अभी तक कंजर्वेटिव पार्टी को 310 सीटें, लेबर पार्टी को 258 सीटें, लिबरल डेमोक्रेट्स 12 सीटें और एसएनपी को 34 सीटें मिली हैं, जबकि ब्रिटेन के हाउस कॉमन्स में कुल सीटों की संख्या 650 है और बहुमत के लिए 326 सीटों की जरूरत है।

बीबीसी के अनुसार कंज़र्वेटिव नेता टेरीज़ा मे मेडेनहेड सीट से फिर चुनी गईं हैं, जबकि लिबरल डेमोक्रेट के दिग्गज और पूर्व उप-उप्रधानमंत्री निक क्लेग चुनाव हार गए हैं। स्कॉटिश नेशनल पार्टी (एसएनपी) के उप नेता भी चुनाव में पराजित हो गए हैं।

विदित हो कि इससे पहले संसद में कंजर्वेटिव पार्टी के पास 331, लेबर पार्टी के कब्जे में 232, लिबरल डेमोक्रेटिक और एसएनपी की झोली में क्रमश: 8 और 56 सीटें थीं।

उल्लेखनीय है कि ब्रेक्सिट पर आए फैसले के मद्देनजर गत 19 अप्रैल को मध्यावधि चुनाव कराने का फैसला किया गया था। ब्रिटेन के ‘फ़िक्स्ड टर्म पार्लियामेंट्स एक्ट’ के अनुसार, आम चुनाव हर पांच साल बाद मई के महीने में कराए जाते हैं और अगला चुनाव 2020 में होना था।

बीबीसी के अनुसार प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने कहा, “अगर कंज़र्वेटिव पार्टी को पूर्ण बहुमत मिलता है तो पार्टी देश में स्थिरता का लिए काम करेगी। इस समय देश को सबसे ज़्यादा ज़रूरत राजनीतिक स्थिरता की है।”

लेबर पार्टी के नेता जेरेमी कोर्बिन ने टेरीज़ा मे से इस्तीफ़ा देने की मांग की है। उन्होंने कहा, “टेरीज़ा मे ने पूर्ण बहुमत के लिए समय से पहले चुनाव कराया था, लेकिन उनकी सीटों, वोटों और समर्थन में कमी आई है। उन्हें इस्तीफ़ा देकर जनता का सच्चा प्रतिनिधित्व करने वाली सरकार बनने का रास्ता देना चाहिए।”