Friday 22 October 2021
- Advertisement -

Tag: ghazal

एक ग़ज़ल ایک غزل

मुझ पे इल्ज़ामे-मैपरस्ती है क्या करूँ अब जो दिल में खिंचती है आतिशें चांदनी बरसती हैं इश्क़ नौहागिरों1 की बसती...
[prisna-google-website-translator]