28 C
New Delhi
Wednesday 8 July 2020

सुप्रीम कोर्ट से नहीं मिली क्रिकेटर श्रीसंत को राहत

पहले की सुनवाई के दौरान सलमान खुर्शीद ने कहा था कि बीसीसीआई के प्रतिबंध की वजह से श्रीसंत ने पिछले पांच सालों से क्रिकेट नहीं खेला है

नई दिल्ली— सुप्रीम कोर्ट ने क्रिकेटर श्रीसंत को कोई राहत नहीं दी है। श्रीसंत को आजीवन प्रतिबंध लगाने के बीसीसीआई के फैसले के खिलाफ दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट को निर्देश दिया है कि वो 2013 के आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मामले पर जुलाई तक फैसला करे। सुप्रीम कोर्ट इस मामले की अगली सुनवाई अगस्त में करेगा। सुनवाई के दौरान श्रीसंत की ओर से वरिष्ठ वकील सलमान खुर्शीद ने मांग की कि श्रीसंत को स्कॉटलैंड काउंटी लीग मैच में खेलने की अनुमति दी जाए। तब चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली बेंच ने कहा कि श्रीसंत को क्लीनचिट देने के खिलाफ दायर अपील पर दिल्ली हाईकोर्ट को फैसला करने दें।

पहले की सुनवाई के दौरान सलमान खुर्शीद ने कहा था कि बीसीसीआई के प्रतिबंध की वजह से श्रीसंत ने पिछले पांच सालों से क्रिकेट नहीं खेला है। ये उनके खिलाफ पर्याप्त दंड है। बीसीसीआई ने सुप्रीम कोर्ट से कहा था कि ये खुला मसला है जिसमें फोन की बातचीत से ये साफ हो गया है कि उन्होंने आईपीएल 2013 में पैसे लेकर जान-बूझकर नो बॉल डाल रहे थे। स्पॉट फिक्सिंग के आरोपों की जांच के बाद बीसीसीआई ने श्रीसंत पर आजीवन प्रतिबंध लगाया था। इस प्रतिबंध को श्रीसंत ने केरल हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट की सिंगल बेंच ने बीसीसीआई के आदेश पर रोक लगा दी। सिंगल बेंच के फैसले के खिलाफ बीसीसीआई ने डिवीजन बेंच में अपील की जिसने सिंगल बेंच के फैसले को निरस्त करते हुए आजीवन प्रतिबंध के फैसले को सही ठहराया था। डिवीजन बेंच के इस फैसले के खिलाफ श्रीसंत ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी।

हिन्दुस्थान समाचार

Follow Sirf News on social media:

For fearless journalism

%d bloggers like this: