31 C
New Delhi
Sunday 5 July 2020

सुप्रीम कोर्ट ने शराब की दुकान बंद कराने पहुंचे याचिकाकर्ताओं पर लगाया जुर्माना

सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताते हुए कहा, “इस याचिकाकर्ता पर भी एक लाख का जुर्माना लगाया जाता है और याचिका खारिज की जाती है

सुप्रीम कोर्ट ने लॉकडाउन के दौरान शराब की दुकानें बंद रखने संबंधी याचिकाएं शुक्रवार को खारिज कर दी, साथ ही याचिकाकतार्ओं पर एक-एक लाख रुपये का जुमार्ना भी लगाया।

सुप्रीम कोर्ट के न्यायमूर्ति एल नागेश्वर राव, न्यायमूर्ति संजय किशन कौल और न्यायमूर्ति बी आर गवई की खंडपीठ ने यह कहते हुए प्रकाश कुमार और गौतम सिंह की अलग-अलग याचिकाएं यह कहते हुए खारिज कर दी कि इस प्रकृति की कई याचिकाएं केवल प्रचार के लिए दायर की जा रही हैं।

याचिकाकर्ताओं ने सोशल डिस्टेंसिंग नियमों के उल्लंघन का हवाला देते हुए शराब दुकानों को बंद करने की मांग की थी।

इसे भी पढ़े: धार्मिक भावनाओं को आहत करने के आरोप में रेहाना फातिमा बीएसएनल से बर्ख़ास्त

न्यायमूर्ति राव ने याचिका पर सुनवाई के दौरान कहा, “हमारे पास इस तरह की कई याचिकाएं हैं। ये सभी प्रचारोन्मुख हैं। हम जुमार्ना लगाएंगे।” सुप्रीम कोर्ट ने पहले प्रकाश कुमार पर एक लाख रुपये का जुमार्ना लगाया। गौतम सिंह की भी इसी प्रकार की याचिका कुछ मिनट के बाद आ गयी और न्यायालय ने नाराजगी जताते हुए कहा, “इस याचिकाकर्ता पर भी एक लाख का जुर्माना लगाया जाता है और याचिका खारिज की जाती है।”

प्रशांत कुमार ने लॉकडाउन के संचालन के दौरान सामाजिक दूरी नियमों के कारण शराब की दुकानों को बंद करने का निर्देश देने का आग्रह करते हुए शीर्ष अदालत का दरवाजा खटखटाया था।

इसे भी पढ़े: इलाहाबाद हाईकोर्ट — मस्जिद में लाउडस्पीकर से अजान इस्लाम का हिस्सा नहीं

दिल्ली हाईकोर्ट ने दिल्ली सरकार से शराब की ऑनलाइन ब्रिकी और होम डिलीवरी पर 15 मई तक फैसला लेने के लिए कहा है। दिल्ली में शराब के दाम 70 % बढ़ाने को लेकर लगाई गई जनहित याचिका दिल्ली हाईकोर्ट ने सरकार को नोटिस जारी किया है। सरकार ने अपना जवाब दाखिल करने के लिए 14 दिन का समय मांगा। इस मामले पर अगली सुनवाई 29 मई को होगी।

गृहमंत्री ने लॉकडाउन 3.0 के दौरान 4 मई से शराब की दुकानें खोलने की अनुमति दी थी। गृहमंत्री ने कहा था कि कंटेनमेंट जोन यानी वो इलाके जहां कोरोना सक्रमितों की संख्या ज्यादा है वहां शराब की दुकानें नहीं खोली जाएंगी। इसके अलावा रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में दुकानें खोली जाएंगी। साथ ही सोशल डिसतेनसिंग का भी पालन करने के लिए कहा था। शराब की दुकाने खुलने के बाद कई सारे मामले सामने आए जहां सोशल डिसतेनसिंग की धज्जियां उड़ाई गई थी।

Follow Sirf News on social media:

For fearless journalism

%d bloggers like this: