2.2 C
New York
Saturday 4 December 2021

Buy now

Ad

HomePoliticsIndiaजन्माष्टमी पर हिंदू दोस्त को गोश्त खिलाती थीं इस्मत चुग़ताई

जन्माष्टमी पर हिंदू दोस्त को गोश्त खिलाती थीं इस्मत चुग़ताई

इस्मत चुग़ताई ने क़ुबूल किया कि उन्हें पता था कि फल, दालमोठ और बिस्कुट में कोई छूत जैसा नहीं था तो वे जन्माष्टमी के दिन अपनी हिंदू दोस्त को धोखे से मांस खिला देती थी

|

जन्माष्टमी के अवसर पर उर्दू लेखिका, उपन्यास्कार व फ़िल्म निर्माता इस्मत चुग़ताई की जीवनी के कुछ अंश बीबीसी ने प्रकाशित किए जिससे यह बात उजागर हुई कि वे अपनी हिंदू पड़ोसन के यहाँ से भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति को चुरा लाती थीं और जन्माष्टमी के दिन धोखे से अपनी हिंदू दोस्त सुशी को मांस खिला देती थीं।

बीबीसी द्वारा उर्दू लेखिका इस्मत चुगताई की आत्मकथा काग़ज़ी है पैरहन के अनुवाद के अनुसार इस्मत चुग़ताई ने क़ुबूल किया कि उन्हें पता था कि फल, दालमोठ और बिस्कुट में कोई छूत जैसा नहीं था तो वे जन्माष्टमी के दिन अपनी हिंदू दोस्त को धोखे से मांस खिला देती थी। लेखिका का कहना है कि ऐसा करने से उसे बेहद सुकून मिलता था।

फल, दालमोट, बिस्कुट में इतनी छूत नहीं होती, लेकिन चूंकि हमें मालूम था कि सूशी गोश्त नहीं खाती इसलिए उसे धोखे से किसी तरह का गोश्त खिलाके बड़ा इत्मीनान होता था.

इस्मत चुग़ताई की आत्मकथा से [सौजन्य: बीबीसी हिन्दी]

लेखिका लिखती हैं कि उनके घर में के पीछे अहाते में बक़रीद पर बकरे काटे जाते थे और उसके बाद उस माँस को कई दिनों तक बाँटा जाता था। उन दिनों उनकी पड़ोसन, हिन्दू लाला की बेटी सूशी घर के अंदर बंद कर दी जाती थी ताकि मांसाहारी उसे स्पर्श न करे।

यह बात इस्मत चुग़ताई को नागवारा थी. अगर इस्लाम में मांसाहार जायज़ है तो हिन्दुओं के लिए भगवान् श्रीकृष्ण के आविर्भाव दिवस पर भी ऐसी कोई पाबंदी नहीं लगनी चाहिए — मानो एक ऐसा जूनून मुसलमान लेखिका पर सवार था! बिना हिन्दू सहेली का धर्म भ्रष्ट कराए उन्हें तसल्ली नहीं होती।

इस्मत चुग़ताई लिखती हैं कि जन्माष्टमी के अवसर पर हिंदुओं में काफ़ी धूमधाम से मनाया जाता था। पकवानों की ख़ुशबू को सूंघकर अंदर जाने का मन करता था। इतने में एक बार सूशी दिखी तो लेखिका ने सहेली से पूछा कि क्या बात है तो वह बोली कि ‘भगवान आए हैं’। यहाँ भी लेखिका हीन भावना से ग्रसित हुईं।

“भगवान!” मुझे बेइंतहा एहसास-ए-कमतरी (हीनभाव) सताने लगा. उनके भगवान क्या मज़े से आते-जाते हैं. एक हमारे अल्ला मियां हैं, न जाने कहां छिपकर बैठे हैं. न जाने कौन-सी रग फड़की कि खिसक के मैं बरामदे में पहुंच गई.

इस्मत चुग़ताई की आत्मकथा से [सौजन्य: बीबीसी हिन्दी]

लेखिका लिखती हैं कि वे चोरी से सूशी के बरामदे तक पहुँच गईं। मुसलमान लड़की (कमसिन इस्मत चुग़ताई) ने देखा कि सभी हिन्दुओं के माथे पर टीके लगे हुए हैं और एक औरत ने सूशी के माथे पर भी टीका लगा दिया।

इस्लामी सीख के अनुसार शरीर के जिस भाग में टीका लगता है वह भाग ‘जहन्नुम’ (नरक/hell) को जाता है। यही सोचकर टीके को इस्मत चुग़ताई ने मिटाना चाहा परन्तु अचानक कुछ सोच कर रुक गई।

फिर माथे पर टीका लगा होने का फायदा उठाते हुए इस्मत चुग़ताई बेधड़क पूजाघर तक चली गईं और वहाँ चाँदी के पालने में झूला झूल रहे भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ती चुरा ली। इसी बीच सूशी की नानी ने उन्हें ऐसा करते हुए पकड़ लिया औऱ वहाँ से हटाकर बाहर कर दिया।

इस बीच कई साल गुज़रने के बाद जब इस्मत चुग़ताई अलीगढ़ से आगरा वापस गई तो वह सूशी की हल्दी की रस्म में गई। इस दौरान वे उसी कमरे में गईं जहाँ श्रीकृष्ण का मंदिर था।

लेखिका ने लिखा कि मुसलमान होने के नाते और बुतपरस्ती गुनाह है। इस्मत चुग़ताई उर्दू लेखिका व फ़िल्मकार थीं। उनका जन्म उत्तर प्रदेश के बदायूँ ज़िले में वर्ष 1915 में हुआ था और उनकी मृत्यु साल 1991 में हुई थी।

296 views

Sirf News needs to recruit journalists in large numbers to increase the volume of its reports and articles to at least 100 a day, which will make us mainstream, which is necessary to challenge the anti-India discourse by established media houses. Besides there are monthly liabilities like the subscription fees of news agencies, the cost of a dedicated server, office maintenance, marketing expenses, etc. Donation is our only source of income. Please serve the cause of the nation by donating generously.

Support pro-India journalism by donating

via UPI to surajit.dasgupta@icici or

via PayTM to 9650444033@paytm

via Phone Pe to 9650444033@ibl

via Google Pay to dasgupta.surajit@okicici

पीएम श्री @narendramodi जी ने देहरादून, उत्तराखंड में 18 हजार करोड़ रूपये की 18 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। #ModiInUttarakhand

இந்து பெயர்கள் உள்ள குடும்ப அட்டைகளுக்கு மட்டுமே ,

பொங்கல் பரிசு வழங்க வேண்டும் .

@CMOTamilnadu

#FranklySpeakingWithManish | Modi Challenger: Mamata or Rahul? Who can be the fulcrum of Opposition unity?

@ManishTewari gets candid with @NavikaKumar on Frankly Speaking.

Don't miss the super exclusive interview on TIMES NOW @ 10 PM.

#ModiPutinTalks | China encircles India …. Bullies India on border.

India turns to 'friends' … Old ally Putin comes calling. Can India count on Russia?

@KanwalSibal, @PavanK_Varma, @MD_Nalapat & @GeneralBakshi join @RShivshankar on #ConverseIndia at 2:30 PM.

Live | पीएम मोदी उत्‍तराखंड से सीधा लाइव , देखें : https://twitter.com/i/broadcasts/1ypKdEWYMXpGW

#PMModi #ModiInUttarakhand

Source : PMO Twitter

Read further:

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Now

Columns

[prisna-google-website-translator]
%d bloggers like this: