Wednesday 25 November 2020
- Advertisement -

कानपुर में 6 साल की मासूम बच्ची की निर्मम हत्या, शव से फेफड़े ग़ायब

चेहरे पर भी किसी नुकीले हथियार से वार किया गया है। पैरों में रंग लगा होने के कारण तंत्र मंत्र के चक्कर में हत्या की आशंका जताई जा रही है

- Advertisement -
Crime कानपुर में 6 साल की मासूम बच्ची की निर्मम हत्या, शव से...

उत्तर प्रदेश के कानपूर जिले से एक ताज़ा मामला सामने आया है जिसमें घाटमपुर क्षेत्र में 6 वर्ष की मासूम बच्ची की निर्मम हत्या कर दी गई। घाटमपुर क्षेत्र के भदरस गाँव से 14 नवंबर की शाम से लापता 6 वर्ष की मासूम बच्ची का शव गाँव के बाहर खेत में पाया गया। बच्ची की निर्मम हत्या कर उसके दोनों फेफड़े निकाल लिए गए हैं। चेहरे पर भी किसी नुकीले हथियार से वार किया गया है। पैरों में रंग लगा होने के कारण तंत्र मंत्र के चक्कर में हत्या की आशंका जताई जा रही है।

कानपुर ज़िला मुख्यालय से क़रीब 50 किलोमीटर दूर भदरस गाँव निवासी करन कुरील की बेटी श्रेया उर्फ भूरी (6) 14 नवंबर की शाम घर के बाहर खेल रही थी। घर के कुछ लोग खेत की ओर गए थे तथा महिलाएं दीया जलाने की तैयारी कर रही थीं। परिवार वालों के अनुसार जब दीया रखने के लिए के लिए बच्चों को बुलाया गया तो उसकी दोनों बेटियां आईं लेकिन बीच की बेटी भूरी नहीं आई। इसके बाद खोजबीन शुरू हुई। रातभर गाँव और परिवार के लोग खोजते रहे लेकिन बच्ची का कुछ पता नहीं चला।

आज सुबह गाँव के लोग खेत की ओर निकले तो गन्नू तिवारी के सरसो खेत में बच्ची का लहूलुहान शव देखा गया। घटनास्थल पर काफ़ी ख़ून बिखरा था। शरीर पर कपड़े नहीं थे। सूचना मिलते ही परिवार के लोग भी पहुँच गए। पूरे गाँव में कोहराम मच गया। बच्ची के सीने के दोनों ओर जख्म थे। आशंका है कि उसके दोनों फेफड़े निकाल लिए गए हैं। पैरों में महिलाओं, बेटियों द्वारा लगाया जाने वाला रंग लगा हुआ है। शव के पास नमकीन के ख़ाली पैकेट पड़े हुए हैं। इससे काला जादू करने वालों की करतूत की आशंका जताई जा रही है।

बच्ची की हत्या की ख़बर पर सैकड़ों लोगों की भीड़ एकत्रित हो गई। छुट्टी का दिन होने के नाते बाहर से भी लोग अपने गाँव आए हुए हैं। करीब डेढ़ हज़ार लोगों की भीड़ जमा है। गाँव के लोगों का कहना है कि जब तक बड़े अधिकारी घटनास्थल पर नहीं आते, तब तक शव नहीं उठने दिया जाएगा।

सूचना मिलने पर सुबह ही घाटमपुर कोतवाली पुलिस पहुँच गई। मौके की स्थिति को देखते हुए फ़ॉरेंसिक और डॉग स्क्वायड को सूचना दी। सुबह करीब 9.30 बजे एसएफएल टीम और डॉग स्वक्वायड के लोग पहुंचे। खोजी कुत्ता कोई संकेत नहीं दे सका। डॉग स्क्वायड यूनिट के प्रभारी का कहना है कि उनके पहुँचने से पहले सैकड़ो लोग घटनास्थल से गुज़र चुके थे। इस नाते खोजी कुत्ते को उस स्थान पर कोई गंध नहीं मिली।

कानपुर के भदरस गाँव के बाहर ही भद्र काली का प्राचीन मंदिर भी है। हालांकि बच्ची का शव गांव के बाहर मिला है। मंदिर में पूजा जैसी कोई स्थिति नहीं देखी गई है। मंदिर घटनास्थल से लगभग 1 कि०मी० दूर है।

- Advertisement -

Latest news

- Advertisement -

मुसलमानों को ‘सेक्युलर’ बनाने का अजीब चीनी प्रकल्प

चीन की इस नगरी में सुबह की रस्म शुरू हुई जब दर्जनों पुरुषों ने पारंपरिक सफेद टोपी में मस्जिदों में चुपचाप दाख़िल हुए और...

Related news

मथुरा आश्रम में 2 साधुओं की विषैले दूध की चाय पीकर मृत्यु

मृतकों में से एक के भाई ने आरोप लगाया है कि आश्रम के भीतर घटनास्थल से विष का दुर्गंध आ रहा है और षड़यंत्र के तहत साधुओं की हत्या हुई है
- Advertisement -
%d bloggers like this: