क्या राहुल गांधी के समर्थकों ने वायनाड में पाकिस्तान के झंडे का इस्तेमाल किया?

कांग्रेस के कोट्टयम विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि इस झंडे का इस्तेमाल राहुल गांधी के वायनाड से नामांकन के दौरान क्यों हुआ

0
120
पाकिस्तान IUML झंडे

वायनाड | राहुल गांधी के अभियान ने एक नया विवाद खड़ा कर दिया है। जब वायनाड में कुछ समर्थकों ने एक सितारा और एक अर्धचंद्र वाले झंडे लहराते हुए उनकी उम्मीदवारी की खुशी मनाई तो कई ने उन्हें पाकिस्तान के झंडे समझा और इस प्रदर्शन की भर्त्सना की।

यूडीएफ सहयोगियों में से एक इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (आईयूएमएल) है जिसके ध्वज में एक तारा और एक अर्धचंद्र है। ये वे झंडे हैं जो कांग्रेस अध्यक्ष के कुछ समर्थकों द्वारा लहराए गए थे।

‘यह पाकिस्तान का झंडा नहीं, पर इसकी भी क्या ज़रूरत थी?’

कांग्रेस के कोट्टयम विधायक पीसी जॉर्ज ने कहा कि उन्हें नहीं पता कि राहुल के प्रचार के दौरान आईयूएमएल ने उनके झंडे का इस्तेमाल क्यों किया। उन्होंने कहा, “राहुल वायनाड से चुनाव लड़ रहे हैं और अधिकांश लोग मुस्लिम हैं और जाहिर है कि उन्हें उनके समर्थन की आवश्यकता होगी, लेकिन मैं आईयूएमएल झंडे का उपयोग करने की आवश्यकता नहीं समझता। मुझे यह भी समझ नहीं आया कि राहुल को वायनाड से चुनाव क्यों लड़ना पड़ा।”

“लेकिन इस सब में सबसे ज्यादा आश्चर्य की बात यह है कि IUML ध्वज की तुलना पाकिस्तान के झंडे से की जाती है और लोग इसे ऐसे समय में उठा रहे हैं जब देश के बीच तनाव इतना अधिक है,” जॉर्ज ने कहा।

जॉर्ज ने यह भी कहा कि कांग्रेस ने पहले आईयूएमएल से अनुरोध किया था कि वे अपने झंडे का इस्तेमाल न करें, लेकिन पार्टी ने आगे बढ़कर इसका इस्तेमाल किया।

भाजपा की प्रतिक्रिया

केरल के भाजपा अध्यक्ष श्रीधरन पिल्लई से इस घटना के संबंध में कहा कि यह पाकिस्तान का झंडा नहीं था बल्कि एक IUML ध्वज था जिसका इस्तेमाल किया गया। उन्होंने यह भी कहा कि उन्हें यह बताया गया था कि कांग्रेस आला कमान ने अपने कार्यकर्ताओं को अभियान के लिए हरी झंडी दिखाने से परहेज करने की सलाह दी थी।

पिल्लई ने एक घटना को भी याद किया जब पूर्व प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू मुस्लिम समुदाय के खिलाफ खड़े थे। उन्होंने कहा, “एक बार केरल के एक मुस्लिम पार्टी के नेता भाषण दे रहे थे; उन्होंने एक मुस्लिम टोपी पहनी और नेहरू ने उन्हें इसे हटाने के लिए कहा। वर्षों बाद कांग्रेस उसी समुदाय से समर्थन मांग रही है!”

पिल्लई ने यह भी कहा कि लोग वायनाड निर्वाचन क्षेत्र के वोटर सभी सात सीटों पर कांग्रेस के खिलाफ हैं। निर्वाचन क्षेत्र में ये विधानसभा के इलाके आते हैं — वायनाड जिले में तीन (सुल्तान बातरी, कालपेट्टा, मंतववदी), तीन मलप्पुरम (नीलम्बुर, वंदूर, एरनाड) में और एक कोड़ीकोड (तिरुवमबडी) में। “यह एकमात्र कारण है कि राहुल मुस्लिम पार्टी से मदद चाहते हैं क्योंकि वायनाड में रहने वाले अधिकांश लोग मुस्लिम हैं,” पिल्लई ने कहा।

एक पखवाड़े से अधिक चले अटकलों के बाद 31 मार्च को कांग्रेस ने घोषणा की कि राहुल गांधी उत्तर प्रदेश में अमेठी के अलावा वायनाड से भी अपनी किस्मत आजमाएंगे।