3.9 C
New York
Sunday 5 December 2021

Buy now

Ad

HomeViewsArticleप्रदूषण ― अब तो कुछ सोचिये

प्रदूषण ― अब तो कुछ सोचिये

भारतीय शहरों में प्रदूषण मुख्यत: औद्योगिक इकाइयों और वाहनों से होता है, औद्योगिक इकाइयां हर जगह नहीं हैं। दिल्ली और कुछेक महानगरों से उन्हें दूसरी जगह स्थानांतरित किया गया है

|

पिछले कुछ सालों से सरकार कहने लगी है कि पर्यावरण एक बड़ा मुद्दा है| जिसकी अनदेखी नहीं की जानी चाहिए। परन्तु उसकी चिंता सरकार को कितनी है इसकी पोल  विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने खोल दी है दुनिया के 15  सबसे प्रदूषित शहरों की सूची जारी की है, जिनमें 14 शहर भारत के हैं। यानी प्रदूषण फैलाने में हम दुनिया का नेतृत्व कर रहे हैं। प्रदूषित शहरों की यह लिस्ट 2016  की है, जिसमें कानपुर पहले और दिल्ली छठे नंबर पर है |
यह कितना बड़ा मजाक है की यह सब समझते हुए भी नीति-निर्माण में पर्यावरण को प्राथमिकता आज भी नहीं दी जा सकी है। पर्यावरण से जुड़े प्रतिष्ठित संस्थानों के सुझाव सिर्फ फाइलों की शोभा बढ़ा रहे हैं। विकास के नाम पर बड़े उद्योगों को कहीं कुछ भी कर डालने की छूट दी गई हैं। परोक्ष रूप से उन्हें यह आश्वासन भी दिया जाता है कि पर्यावरण का मुद्दा उनके रास्ते में रुकावट नहीं बनेगा। आलम यह है कि इस मामले में अदालती आदेशों तक पर सियासत होती है। बीते साल दिवाली पर कोर्ट ने दिल्ली में पटाखे न जलाने का आदेश दिया, लेकिन एक राजनीतिक दल ने इसे हिंदू परंपरा में हस्तक्षेप के रूप में चित्रित किया। उसके इस रुख का असर यह पड़ा कि आम लोगों ने आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए खूब पटाखे जलाए।
भारतीय शहरों में प्रदूषण मुख्यत: औद्योगिक इकाइयों और वाहनों से होता है। औद्योगिक इकाइयां हर जगह नहीं हैं। दिल्ली और कुछेक महानगरों से उन्हें दूसरी जगह स्थानांतरित किया गया है। लेकिन इससे समस्या सुलझी नहीं, क्योंकि नई जगह पर भी प्रदूषण नियंत्रण उनके अजेंडे पर नहीं था। ज्यादातर इकाइयों में वायु प्रदूषणरोधी उपाय ही नहीं किए गए हैं। द्रव और ठोस कचरे के निस्तारण की बात उनकी सोच से भी परे है, लिहाजा कोई इसे जमीन के नीचे दबा देता है, कोई सीधे नदियों के हवाले कर देता है। रहा सवाल वाहनों का तो कुछ शहरों में पेट्रोल-डीजल के बजाय गैस के इस्तेमाल को बढ़ावा दिया गया है। लेकिन इसके अपेक्षित नतीजे अभी आने बाकी हैं। महानगरों में सीएनजी पंपों पर लंबी-लंबी लाइनें लगी रहती हैं और अदालत के आदेशों के बावजूद पुरानी डीजल गाड़ियां सड़कों पर धुआं छोड़ती रहती हैं। पिछले साल सरकार ने घोषणा की थी कि 2030 से देश में बनने वाली सभी कारें केवल बैटरी से चलेंगी, लेकिन फिर उसने इस पर चुप्पी साध ली। रेलवे के विद्युतीकरण को लेकर भी सरकार के भीतर मतभेद हैं। पर्यावरण को लेकर यह टालू रवैया अब नहीं चलेगा। पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए परिवहन, ऊर्जा और नगर नियोजन नीतियों में एकरूपता और अमल में सख्ती जरूरी है।
 राकेश दुबे
2 views

Sirf News needs to recruit journalists in large numbers to increase the volume of its reports and articles to at least 100 a day, which will make us mainstream, which is necessary to challenge the anti-India discourse by established media houses. Besides there are monthly liabilities like the subscription fees of news agencies, the cost of a dedicated server, office maintenance, marketing expenses, etc. Donation is our only source of income. Please serve the cause of the nation by donating generously.

Support pro-India journalism by donating

via UPI to surajit.dasgupta@icici or

via PayTM to 9650444033@paytm

via Phone Pe to 9650444033@ibl

via Google Pay to dasgupta.surajit@okicici

Vinod Dua's parents came as refugees from Pak

Son of refugees (Dua) grew up & opposed CAA that would benefit Hindu refugees escaping Pak.

His daughter mocked Indian soldiers killed by Islamic terrorists at Pulwama.

180 degree degeneration in just 2 generations!

Supreme Court Weekly Round Up- November 29 To December 5, 2021 @nupur_0111 https://www.livelaw.in/top-stories/supreme-court-weekly-round-up-november-29-to-december-5-2021-186991

"Earlier, one had to go to Lucknow or Delhi for treatment, availability of AIIMS in Gorakhpur has facilitated effective treatment in less time that too nearby"

PM @narendramodi to inaugurate AIIMS at Gorakhpur on Dec 7th

We get you reaction of locals from #UttarPradesh

Read further:

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Now

Columns

[prisna-google-website-translator]
%d bloggers like this: