प्रधानमंत्री को परेशान करने के कारण आईएएस मोहम्मद मोहसिन निलंबित

कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी मोहम्मद मोहसिन को 16 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी की चुनावी रैली के दौरान एसपीजी-सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए संबलपुर के दौरे पर भेजा गया था

0
61
अधिकारी निलंबित

भुवनेश्वर में एक अधिकारी ने बताया कि प्रधानमंत्री के हेलिकॉप्टर की निलंबित अधिकारी द्वारा जाँच संबलपुर में किए गए चुनाव आयोग के दिशानिर्देशों के अनुसार नहीं थी क्योंकि एसपीजी सुरक्षा को ऐसी जाँच से छूट है

भुवनेश्वर | चुनाव आयोग ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की एसपीजी सुरक्षा के संबंध में “कर्तव्यपालन में चूक” के आरोप में ओडिशा में एक उच्च पदस्थ चुनाव पर्यवेक्षक को निलंबित कर दिया है।

चुनाव आयोग के एक आदेश के अनुसार, कर्नाटक कैडर के आईएएस अधिकारी मोहम्मद मोहसिन को 16 अप्रैल को प्रधानमंत्री मोदी की चुनावी रैली के दौरान एसपीजी-सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए संबलपुर के दौरे पर भेजा गया था।

चुनाव आयोग ने जिला कलेक्टर और पुलिस उपमहानिरीक्षक द्वारा प्रस्तुत एक रिपोर्ट के आधार पर संबलपुर के सामान्य पर्यवेक्षक के खिलाफ कार्रवाई की।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मोहसिन की “हरकतों” की वजह से उन्हें लगभग 15 मिनट तक रोक कर रखा गया था। अधिकारी ने कथित तौर पर नियमों के उल्लंघन का कारण बताते हुए पीएम के हेलिकॉप्टर की जाँच में काफ़ी वक़्त ज़ाया किया।

भुवनेश्वर में एक अधिकारी ने कहा, “प्रधानमंत्री के हेलिकॉप्टर की जाँच संबलपुर में किए गए चुनाव आयोग के दिशानिर्देशों के अनुसार नहीं थी क्योंकि एसपीजी सुरक्षा को ऐसी जाँच से छूट है।”

निलंबित अधिकारी ने कथित तौर पर नियमों के उल्लंघन का कारण बताते हुए पीएम के हेलिकॉप्टर की जाँच में काफ़ी वक़्त ज़ाया किया जब कि इसकी आवश्यकता नहीं थी। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मोहसिन की ‘हरकतों’ की वजह से उन्हें लगभग 15 मिनट तक रोक कर रखा गया था।

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के हेलीकॉप्टर की मंगलवार को राउरकेला में चुनाव आयोग के उड़नदस्ते के कर्मियों ने भी जाँच की।

सूत्रों ने बताया कि मंगलवार को संबलपुर में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के हेलिकॉप्टर पर एक उड़नदस्ते ने इस तरह की जांच की।

आम चुनाव-सम्बंधित प्रमुख ख़बरों के लिए इस पृष्ठ पर पधारें।