सर्जिकल स्ट्राइक पर सियासी संग्राम

राहुल गांधी ने उस वक्त केंद्र सरकार पर खून की दलाली करने तक का आरोप लगाया था, केजरीवाल ने दो कदम आगे बढ़कर सर्जिकल स्ट्राइक की वास्तविकता पर ही सवाल खड़े कर दिए

0
50

नई दिल्ली— पाकिस्तान के खिलाफ भारतीय सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो प्रमाण ठीक 21 महीने बाद जारी किए गए। इसके साथ ही सियासी बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है। कांग्रेस ने केंद्र सरकार पर राजनीतिक फायदे के लिए वीडियो जारी करने का आरोप लगाया है। उधर, पूर्व केंद्रीय मंत्री अरूण शौरी ने भी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

अरुण शौरी ने सर्जिकल स्ट्राइक पर तंज कसते हुए इसे फर्जिकल स्ट्राइक बताया है। उल्लेखनीय है कि उरी स्थित सैन्य शिविर पर 18 सितंबर, 2016 को पाकिस्तान से आए आतंकियों ने घात लगाकर हमला किया। इस हमले में भारत के 19 जवान शहीद हो गए थे। इस हमले की प्रतिक्रिया में ठीक दस दिन बाद 28-29 सितंबर 2016 की रात को भारतीय सेना ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में घुसकर आतंकियों के ठिकानों को नष्ट कर दिया।

भारतीय सेना ने खुद इसकी घोषणा करते हुए इसे सर्जिकल स्ट्राइक नाम दिया और बताया कि उसमें पाकिस्तान में स्थित आतंकियों के लांचिंग पैड ध्वस्त कर दिए गए और उन्हें भारी हानि उठानी पड़ी। सेना द्वारा की गई सर्जिकल स्ट्राइक पर तब सरकार विरोधी राजनीतिक दलों ने कई सवाल खड़े किए थे। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उस वक्त केंद्र सरकार पर ‘खून की दलाली’ करने तक का आरोप लगाया था।

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के मुखिया अरविंद केजरीवाल ने दो कदम आगे बढ़कर सर्जिकल स्ट्राइक की वास्तविकता पर ही सवाल खड़े कर दिए। केजरीवाल ने उस वक्त इस सैन्य कार्रवाई का प्रमाण मांगा था। हालांकि, उनकी ही पार्टी के वरिष्ठ नेता व कवि कुमार विश्वास ने सेना की कार्रवाई पर सवाल उठाने को अनुचित बताया था। अब जबकि सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो सामने आ गया है तो एक बार फिर सियासी बयानबाजी तेज हो गई है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भाजपा पर सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिक लाभ लेने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा शहीदों के बलिदान का अपमान कर रही है।

कांग्रेस नेता के आरोपों को बेबुनियाद करार देते हुए केंद्रीय मंत्री व भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने आज कहा कि कांग्रेस सर्जिकल स्ट्राइक पर बयानबाजी कर आतंकियों के हौसले बुलंद करने का काम कर रही है और सेना का मनोबल तोड़ना चाहती है।

उधर, कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज की पुस्तक के विमोचन के अवसर पूर्व केंद्रीय मंत्री अरूण शौरी ने सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जिकल स्ट्राइक करार दिया। आज सर्जिकल स्ट्राइक के प्रमाण सामने आने के बाद उन्होंने कहा कि मीडिया ने उनके बयान को तोड़-मरोड़ के प्रस्तुत किया।