34.6 C
New Delhi
Sunday 12 July 2020

नेपाल को नहीं बनने देंगे पाकिस्तान — प्रचंड

नेपाल में चीन की चाल को विपक्ष ने अच्छी तरह समझ लिया है। प्रचंड ने कहा, ''हमने सुना है कि सत्ता में बने रहने के लिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान या बांग्लादेश मॉडल पर काम चल रहा है

नेपाल में चीन पर फिदा ओली सरकार के खिलाफ विपक्ष लगातार हमलावर हो गया है। चीन ने नेपाल के 10 बड़े जगहों पर कब्जा किया है। इसमें एक गांव के 72 परिवार भी रहते हैं। विपक्ष ने लगातार चीन पर ओली सरकार की मेहरबानी को लेकर निशाना साधा है।

नेपाल की सत्ताधारी कम्युनिस्ट पार्टी में उठापटक चरम पर है। पार्टी की स्टैंडिंग कमिटी की बैठक में प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली का राजनीतिक भविष्य तय होने जा रहा है। पार्टी के विरोधी खेमे के रुख को देखकर यह तय माना जा रहा है कि ओली से पार्टी अध्यक्ष या प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा ले लिया जाएगा। ऐसा भी हो सकता है कि चीन के करीबी ओली की दोनों ही पदों से विदाई हो जाए।

पार्टी के दोनों अध्यक्षों केपी ओली और पुष्प कमल दहल ने एक दूसरे पर जमकर निशाना साधा था। ओली स्टैंडिंग कमिटी में अल्पमत में हैं, लेकिन आरोप उनपर अधिक हैं। एक रिपोर्ट में कहा गया है स्टैंडिंग कमिटी में विरोधी खेमे के दो सदस्यों के मुताबिक, ओली से प्रधानमंत्री का पद छोड़ने को कहा जाएगा।

इसे भी पढ़े: Nepal opposition demands land back from China

नेपाल में चीन की चाल को विपक्ष ने अच्छी तरह समझ लिया है। प्रचंड ने कहा, ”हमने सुना है कि सत्ता में बने रहने के लिए पाकिस्तान, अफगानिस्तान या बांग्लादेश मॉडल पर काम चल रहा है। लेकिन इस तरह के प्रयास सफल नहीं होंगे। भ्रष्टाचार के नाम पर कोई हमें जेल में नहीं डाल सकता है। देश को सेना की मदद से चलाना आसान नहीं है और ना ही पार्टी को तोड़कर विपक्ष के साथ सरकार चलाना संभव है।”

केपी ओली पार्टी में पूरी तरह अलग-थलग पड़ चुके हैं। यह भी हो सकता है कि उनसे कहा जाए कि पार्टी अध्यक्ष या प्रधानमंत्री के पद में से उन्हें कोई एक छोड़ना होगा। विकल्प मिलने पर ओली पार्टी अध्यक्ष का पद छोड़ना चाहेंगे। इसके अलावा उन्होंने एक अन्य विकल्प के तहत वह कैबिनेट में बदलाव का प्रस्ताव रख सकते हैं जिसमें प्रचंड खेमे के नेताओं को अधिक पद दिए जाएंगे। लेकिन विरोधी खेमा इसमें दिलचस्पी नहीं दिखा रहा है।

इसे भी पढ़े: China occupies Nepal village, Oli govt silent on move

अपने खिलाफ बने माहौल को देखते हुए प्रधानमंत्री ओली ने गुरुवार को प्रचंड को अपने निवास पर बुलाया और शर्मिंदगी से बचने के लिए उन्होंने समझौते पर पहुंचने की कोशिश की। दहल ने साफ कर दिया है कि वह या उनके खेमे के लोग अपने रुख में बदलाव नहीं करेंगे।

Follow Sirf News on social media:

%d bloggers like this: