इस्लामाबाद—विदेशी मुद्रा संकट से जूझ रहे पाकिस्तान को चालू खाते के घाटे से निपटने के लिए नौ अरब डालर की आवश्यकता है। इसके लिये फिलहाल अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पास जाने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है। देश के नये वित्त मंत्री असद उमर ने आज यह कहा।

 

पाकिस्तान इस समय मुश्किल आर्थिक दौर से गुजर रहा है। पिछले दस साल के दौरान उसका कुल कर्ज 28,000 अरब रुपये पर पहुंच चुका है। पाकिस्तान तहरीक-ए- इंसाफ पार्टी के नेतृत्व वाली नई सरकार के समक्ष देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाने की चुनौती है।

पाकिस्तान के आम चुनाव के बाद सत्ता में आई नई सरकार को 12 अरब डालर की तुरंत जरूरत है।

पाकिस्तान संसद के उच्च सदन में सवालों का जवाब देते हुये उमर ने कहा, ‘‘बजट के मुताबिक हमें 9 अरब डालर की जरूरत है …. लेकिन हम इसकी जड़ में जाकर समस्या का समाधान करना चाहते हैं कि जिसकी वजह से हमें 9 अरब डालर का कर्ज लेने को मजबूर होना पड़ रहा है।’’

उन्होंने कहा कि देश की अर्थव्यवस्था में सुधार लाने के जो उपाय किये जा रहे हैं उनका दो से तीन साल में फल मिलने लगेगा। इस बीच देश उधार लेगा।

वित्त मंत्री ने कहा कि सरकार फासले को पूरा करने के लिये एक योजना पर काम कर रही है। उन्होंने कहा कि मौजूदा स्थिति से निपटने के लिये आईएमएफ के पास जाने का अभी निर्णय नहीं किया गया है। उन्होंने कहा कि देश में कर आधार को बेहतर बनाने के लिये कर सुधार रणनीति को सबके सामने रखा जायेगा।