9.8 C
New York
Thursday 2 December 2021

Buy now

Ad

HomePoliticsIndiaबद्रीनाथ धाम में पढ़ी गई नमाज़; पुलिस के अनुसार कुछ ग़लत नहीं...

बद्रीनाथ धाम में पढ़ी गई नमाज़; पुलिस के अनुसार कुछ ग़लत नहीं हुआ

पुलिस के अनुसार मुसलमानों ने बिना लाउडस्पीकर, मौलवी की अनुपस्थिति में, बंद कमरों में कोविड नियमों का पालन करते हुए बद्रीनाथ में नमाज़ अदा की

|

इतिहास में पहली बार ईद के अवसर पर हिंदुओं के पवित्र तीर्थ स्थलों में से भगवान बद्री विशाल के धाम में कुछ मुसलमानों द्वारा नमाज़ अदा की गई जिसके बाद बद्रीनाथ धाम के तीर्थ कपाल पुरोहित, ब्राह्मण व हिन्दू समाज में भारी आक्रोश है।

विश्व हिंदू परिषद, हिंदू जागरण मंच और बजरंग दल ने बद्रीनाथ धाम में मुसलमानों पर ईद की नमाज़ पढ़ने का आरोप लगाया है। विहिप ने इस मुआमले पर चमोली ज़िले के प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज को ज्ञापन सौंपकर कार्रवाई की मांग भी की।

सोशल मीडिया पर 21 जुलाई को इस तरह की ख़बरें वायरल हो रही थी। बद्रीनाथ धाम में आस्था पथ नामक संस्था की पार्किंग का निर्माण कार्य चल रहा है जहाँ कार्यरत मुसलमान मज़दूरों ने 21 तारीख़ को बद्रीनाथ धाम में ईद की नमाज़ अदा की पर बद्रीनाथ धाम के पुरोहित ईद की नमाज़ पढ़े जाने से काफ़ी नाराज़ हैं।

यहाँ धार्मिक आस्था को चोट पहुँचाने का विषय तो है ही, साथ ही प्रशासनिक मुद्दा यह है कि बद्रीनाथ धाम में मुसलमानों ने कोरोनावायरस लॉकडाउन के दौरान लोगों के इकठ्ठा होने पर मनाही की अवहेलना करते हुए नमाज़ अदा की। चारधाम यात्रा स्थगित है, लेकिन फिर भी कुछ मुसलमान वहाँ गए और बद्रीनाथ धाम में ईद की नमाज़ पढ़ी।

इस समय विद्यार्थी परिषद, हिन्दू जागरण मंच और बीजेपी के कार्यकर्ता बद्रीनाथ धाम में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।

तीर्थ पुरोहितों का कहना है कि बद्रीनाथ धाम में नमाज़ अदा होना हिंदू मान्यताओं और परंपराओं को ठेस पहुँचाता है। स्थानीय विनोद नवानी और ब्रह्म कपाल तीर्थ पुरोहित संघ के अध्यक्ष उमेश सती का कहना है कि बद्रीनाथ धाम में मुसलमानों द्वारा नमाज़ पढ़ा जाना अच्छा संकेत नहीं है। उन्होंने कहा कि बद्रीनाथ धाम हिंदुओं का पवित्र तीर्थ स्थल है और धाम में इस प्रकार की गतिविधियाँ मर्यादा को भंग करती है।

विहिप के अध्यक्ष राकेश चंद्र मैठाणी, हरि प्रसाद ममगाईं, देवी प्रसाद देवली, राठौर, अतुल शाह, शंभु प्रसाद पंत, हर्ष प्रसाद चमोली और वेद प्रकाश भट्ट की ओर से एक ज्ञापन चमोली ज़िले के प्रभारी मंत्री सतपाल महाराज को दिया गया। ज्ञापन के माध्यम से बद्रीनाथ धाम में नमाज़ पढ़ने का विरोध किया है।

लेकिन चमोली पुलिस के अनुसार ईद के मौक़े पर चंद मुसलमानों ने बिना लाउडस्पीकर, मौलवी की अनुपस्थिति में और बंद कमरों में कोविड नियमों का पालन करते हुए बद्रीनाथ में नमाज़ अदा की है। इन आरोपों की जांच के आदेश दिए गए हैं।

पुलिस ने संवाददाताओं को कहा कि यदि नियमों का उल्लंघन हुआ है तो डीएम एक्ट के तहत कार्रवाई की जाएगी। चमोली पुलिस ने जनता से अपील की है कि बिना सत्यता जाने इस प्रकार के ‘भ्रामक’ संदेश सोशल मीडिया पर न डालें।

Sirf News needs to recruit journalists in large numbers to increase the volume of its reports and articles to at least 100 a day, which will make us mainstream, which is necessary to challenge the anti-India discourse by established media houses. Besides there are monthly liabilities like the subscription fees of news agencies, the cost of a dedicated server, office maintenance, marketing expenses, etc. Donation is our only source of income. Please serve the cause of the nation by donating generously.

Support pro-India journalism by donating

via UPI to surajit.dasgupta@icici or

via PayTM to 9650444033@paytm

via Phone Pe to 9650444033@ibl

via Google Pay to dasgupta.surajit@okicici

2 #Omicron Variant cases detected in #Karnataka: One of them is a doctor and his 5 contacts test positive for #Covid, says Karnataka Health Minister @mla_sudhakar

@Smita_Sharma @Suraj_Suresh16 @MoHFW_INDIA @BSBommai #PeoplesEditor

Kerala CM Pinarayi Vijayan writes to counterpart in Tamil Nadu to not open Mullaperiyar dam during night; says such a step should be taken during day time and after sufficient warning

ये दिल्ली का बादल है. इसकी गलती ये थी कि ये Musl!m लड़की से प्यार करता था. इसको मार दिया गया.

प्यार-मोहब्बत के ठेकेदार चुप क्यों ?
#HangBadalKillers

Read further:

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Now

Columns

[prisna-google-website-translator]
%d bloggers like this: