Saturday 28 November 2020
- Advertisement -

मुंगेर गोलीकांड — झूठा निकला लिपि सिंह का दावा

लिपि सिंह ने कहा था भीड़ में शामिल असामाजिक तत्वों ने फायरिंग की। लेकिन सीआईएसएफ ने अपनी रिपोर्ट में ये कहीं नहीं लिखा है कि भीड़ की तरफ से फायरिंग की गई

- Advertisement -
Crime मुंगेर गोलीकांड — झूठा निकला लिपि सिंह का दावा

बिहार के मुंगेर जिले में देवी मां की प्रतिमा विसर्जन करने जा रहे लोगों पर पुलिस ने फायरिंग की थी। इस पर जिले की तत्कालीन पुलिस कप्तान एसपी लिपि सिंह ने झूठ बोला था। ये बात किसी दावे के आधार पर नहीं बल्कि एक ऐसी रिपोर्ट को सामने रखकर कह रहे हैं जो सीआईएसएफ की है। इस रिपोर्ट में साफ लिखा है कि भीड़ को हटाने के लिए सबसे पहले मुंगेर पुलिस ने हवा में गोलियां चलाई थीं।

NewsDeatils490908b824ed4ecaab958f5fcd1039361603989429985

इस रिपोर्ट को ध्यान से पढ़िए। सीआईएसएफ ने 26 अक्टूबर के गोलीकांड की रिपोर्ट अगले ही दिन यानि 27 अक्टूबर को अपने अफसरों को भेज दिया था। इस रिपोर्ट में साफ लिखा है कि ‘मुंगेर कोतवाली थाना के आग्रह पर सीआईएसएफ की एक टुकड़ी को मूर्ति विसर्जन जुलूस की सुरक्षा के लिए जिला स्कूल वाले कैंप से भेजा गया था। 26 अक्टूबर की रात 11:20 बजे सीआईएसएफ के 20 जवानों की टुकड़ी को तैनात किया गया। मुंगेर पुलिस ने इन 20 जवानों को 10-10 जवानों के दो ग्रुपों में बांट दिया। एक ग्रुप को एसएसबी और बिहार पुलिस के जवानों के साथ मुंगेर के दीनदयाल उपाध्याय चौक पर तैनात किया गया। 26 अक्टूबर की रात के करीब 11:45 बजे श्रद्धालुओं और पुलिस के बीच विवाद शुरू हुआ। इसके बाद कुछ लोगों ने पुलिस और सुरक्षाबलों पर पत्थरबाजी शुरू कर दी। पथराव के दौरान मुंगेर पुलिस ने सबसे पहले हवाई फायरिंग की। फायरिंग के बाद भीड़ और ज्यादा आक्रोशित हो गई और पथराव भी तेज हो गया। हालात को बेकाबू होते देख सीआईएसएफ के हेड कांस्टेबल एम गंगैया ने अपनी इंसास राइफल से 13 राउंड गोलियां हवा में दागीं। फायरिंग के बाद आक्रोशित लोगों की भीड़ तितर-बितर हो गई। इसके बाद सीआईएसएफ, एसएसबी और लोकल पुलिस के जवान अपने कैंप में सुरक्षित वापस लौट गए।’

लिपि सिंह ने कहा था कि पुलिस ने फायरिंग नहीं की

एसपी लिपि सिंह ने 27 अक्टूबर को मीडिया के कैमरे पर कहा था कि भीड़ में शामिल असामाजिक तत्वों ने फायरिंग की थी। लिपि सिंह के मुताबिक विधानसभा चुनाव को देखते हुए प्रतिमा को तेजी से विसर्जन करने का पुलिस की ओर से बार-बार अनुरोध किया जा रहा था। इसी बीच कुछ असामाजिक तत्वों ने पुलिस पर हमला करते हुए गोलीबारी शुरू कर दी। असामाजिक तत्वों की गोली से एक युवक की मौत हुई, वहीं कई लोग घायल हो गए। इस घटना में सात थानाध्यक्ष समेत 20 पुलिसकर्मी भी घायल हुए।

लिपि सिंह ने कहा था भीड़ में शामिल असामाजिक तत्वों ने फायरिंग की। लेकिन सीआईएसएफ ने अपनी रिपोर्ट में ये कहीं नहीं लिखा है कि भीड़ की तरफ से फायरिंग की गई। रिपोर्ट में सिर्फ पथराव का जिक्र है। यानि क्या ये माना जाए कि एसपी लिपि सिंह के हाथ से जब मामला निकल गया मतलब जब कथित ‘लेडी सिंघम’ के कथित आदेश के चलते पूरा जिला प्रशासन के हाथ से निकलता दिखने लगा तो पुलिस फायरिंग न करने के झूठे दावे किए गए?

- Advertisement -

Views

Hindu Censored By Social Media Too

Since late 2017, as the social media companies got surefooted of their stranglehold over conversations in India, views of Hinduism and Sanatana Dharma have...
- Advertisement -

Interfaith Marriage Fraught With Risks Even Sans Love Jihad

Inter-faith marriages are being utilised as tools to facilitate irreversible changes to India's religious demography by the vested interests who dream of 'Abrahamising' India and finally complete their unfinished agenda

World Order Is Changing: 2+2 Takeaway

The world is reordering itself to resist Chinese moves with the US, France, Britain and allied countries moving towards military partnerships

Related news

दलित विधवा को फँसाने की कोशिश में मुसलमान युवक नाकाम

विधवा ने प्यार करने से इनकार कर दिया, तो युवक ने उसे शादी करने का प्रलोभन दिया। महिला युवक के जाल में फंस गयी। इसके बाद 15 नवंबर को युवक इस विधवा के घर पहुंच गया
- Advertisement -
%d bloggers like this: