Home Economy मुंबई के मॉल्स, थियेटर्स, रेस्तराँ 27 जनवरी से चौबीसों घंटे खुले रहेंगे

मुंबई के मॉल्स, थियेटर्स, रेस्तराँ 27 जनवरी से चौबीसों घंटे खुले रहेंगे

आदित्य ठाकरे ने कहा कि मुंबई भी लन्दन की तरह रात्रिकालीन अर्थव्यवस्था विकसित कर सकती है क्योंकि हमेशा से ही यह शहर कभी सोता नहीं है

0
क़ानून कुछ भी कहे, मुंबई आख़िर कब सोती है?

महाराष्ट्र कैबिनेट ने आज मुंबई को हर रोज़ रात-दिन सक्रिय रखने के प्रस्ताव को मंजूरी देते हुए यह फ़ैसला लिया है कि 27 जनवरी से शहर के मॉल्स, फिल्म थिएटर्स, दुकानें और रेस्तरां पूरी रात खुले रह सकते हैं। राज्य के सेवा क्षेत्र व पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा कि इस फैसले से सर्विस सेक्टर में काम करने वाले मौजूदा पांच लाख लोगों के अलावा और अधिक राजस्व जुटाने और रोजगार पैदा करने में मदद मिलेगी।

लंदन की “रात की अर्थव्यवस्था” का मोल 5 बिलियन पाउंड लगाया जाता है जब कि भारत की वित्तीय और मनोरंजन राजधानी मुंबई पहले से ही “24×7 (24 घंटे और हफ़्ते के सातों दिन बिना छुट्टी के) काम करने वाला शहर” था, ठाकरे कैबिनेट बैठक के बाद पत्रकारों से बात करते हुए कहा। उन्होंने कहा, “ऐसे लोग हैं जो रात की पाली में काम करते हैं। पर्यटक भी होते हैं। रात 10 बजे के बाद भोजन के लिए वे कहाँ जाएंगे? लोग रात में भी भोजन कर सकते हैं, खरीदारी कर सकते हैं और फिल्में देख सकते हैं।”

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के पुत्र ने कहा कि रात में दुकानें, मॉल और भोजनालयों को खुला रखना अनिवार्य नहीं था। “केवल वे जो महसूस करते हैं कि वे अच्छा व्यवसाय कर सकते हैं, वे रात भर अपने प्रतिष्ठान खोल सकते हैं।”

पहले चरण में गैर-आवासीय क्षेत्रों में स्थित मॉल और मिल परिसर में दुकानों, भोजनालयों और थिएटरों को खुला रहने दिया जाएगा।

“एनसीपीए के पास बांद्रा-कुर्ला कॉम्प्लेक्स और नरीमन पॉइंट में खाद्य अस्पतालों के लिए एक लेन खोली जाएगी। खाद्य निरीक्षक उन पर निगरानी रखेंगे। यदि ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, डेसीबल सीमा और कानून और व्यवस्था के नियमों का उल्लंघन किया गया तो व्यवसाय पर आजीवन प्रतिबंध जैसी कार्रवाई हो सकती है,” शिवसेना नेता ने कहा। उन्होंने कहा कि इस कदम का मतलब पुलिस बल के लिए कम तनाव भी होगा क्योंकि उन्हें दुकानों और प्रतिष्ठानों को बंद रखने की जरूरत नहीं होगी। उन्होंने कहा कि निर्णय लेते समय आबकारी नियमों को नहीं छुआ गया और पब और बार आम तौर पर 1:30 बजे बंद हो जाएंगे।

NO COMMENTS

Leave a Reply

For fearless journalism