Wednesday 28 October 2020

मुहर्रम का जुलूस या दंगे की तैयारी?

क्या यह मुहर्रम का जुलूस है? शायद हाँ। पर यहाँ ‘या हुसैन’ का नारा लगाते मुसलमान स्वयं को घायल नहीं कर रहे हैं बल्कि नंगी तलवार, बरछी, भाले, कटार… यहाँ तक कि बेसबॉल बैट की खुले आम नुमाइश हो रही है। इसके पीछे उद्देश्य हिंदुओं और शेष ग़ैर-मुस्लिम समाज को डराने के अलावा क्या हो सकता है?

एक दिन ऐसी ही भीड़ आपके गाँव, शहरों, घरों और कालोनियों तक पहुँचेंगे। क्या आप इनसे मुक़ाबले के लिए तैयार है?

जाति और सम्प्रदाय से ऊपर उठकर राष्ट्रहित में हिन्दुत्व के लिए एकत्रित हो जाने के अलावा आपके पास कोई चारा नहीं है। दुनिया बदल रही है। आप भी धर्म की रक्षा के लिए प्रतिबद्ध हो जाइए।

You may be interested in...

All