Sunday 24 January 2021
- Advertisement -

गृह मंत्रालय: अर्ध सैनिक बलों और पूर्व सैनिकों के लिए फेसबुक प्रतिबंधित

- Advertisement -
Politics India गृह मंत्रालय: अर्ध सैनिक बलों और पूर्व सैनिकों के लिए फेसबुक प्रतिबंधित

सीआरपीएफ, आईटीबीपी, बीएसएफ, सीआईएसएफ व एनएसजी जैसे अर्धसैनिक बलों के मौजूदा तथा पूर्व कर्मियों के फेसबुक इस्तेमाल पर जल्द ही पाबंदी लग सकती है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने सभी बलों को इस बारे में पत्र भेजा है। इसमें कहा है गया है कि पूर्व अर्धसैनिक भी सशस्त्र बलों के संपर्क में रहते हैं, इसलिए उनके फेसबुक इस्तेमाल पर पाबंदी होनी चाहिए।

गृह मंत्रालय ने बताया कि उसे गृह राज्य में मंत्री जी. किशन रेड्डी की ओर से अर्ध सैनिक बलों के लिए विदेशी एप का इस्तेमाल बंद करने का 9 जुलाई को ईमेल संदेश मिला है। उसी आधार पर सभी केंद्रीय अर्ध सैनिक बलों को पत्र भेजा गया है। मंत्रालय ने अर्धसैनिक बलों से 15 जुलाई तक इस संदर्भ में की गई कार्यवाही से अवगत कराने को कहा है।

अर्ध सैनिक बलों को भेजे गए संदेश में कहा गया है कि इस संबंध में उठाए गए कदमों या कार्रवाई की सूचना हार्ड और सॉफ्ट कापी के जरिये गृह मंत्रालय को 15 जुलाई तक भेज दें। इसी क्रम में एक और संदेश में कहा गया है कि सीआरपीएफ, आइटीबीपी में सभी कर्मचारियों और सशस्त्र सेनाओं के संपर्क में रहने के कारण सभी पूर्व सैनिकों के लिए यह प्रतिबंध लागू किया जाए। मेल में लिखा है कि भारत में भी फेसबुक व इंस्टाग्राम जैसे खुद के एप होने चाहिए जिनका इस्तेमाल विदेशी न कर सकें।

फेसबुक व इंस्टाग्राम जैसे 89 सोशल मीडिया प्लेटफार्म का भारतीय सेना के सदस्यों द्वारा इस्तेमाल प्रतिबंधित किए जाने की नीति को चुनौती देने वाले जम्मू-कश्मीर में तैनात लेफ्टिनेंट कर्नल पीके चौधरी को दिल्ली हाई कोर्ट ने आड़े हाथों लिया। कोर्ट ने कहा कि अगर फेसबुक से इतना ही प्यार है तो वह सेना से इस्तीफा दे दें। पीठ ने कहा कि जब मामला देश की सुरक्षा से जुड़ा हो तब ऐसी याचिका पर विचार करने का कोई कारण नहीं बनता।

पीठ ने याचिकाकर्ता से कहा कि प्रतिबंध की नीति के तहत वह अपना फेसबुक अकाउंट डिलीट करें। पीठ ने कहा कि वह दोबारा अपना फेसबुक अकाउंट बना सकते हैं। याचिका में मिलिट्री इंटेलिजेंस महानिदेशक के अलावा सेना प्रमुख को भी पक्षकार बनाया गया है। याचिकाकर्ता ने कहा कि सोशल मीडिया को प्रतिबंधित करना स्पष्ट रूप से व्यक्ति के मौलिक अधिकार का उल्लंघन है।

- Advertisement -

Views

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: