मनोहर गोपालकृष्ण प्रभु पर्रिकर नहीं रहे

फरवरी 2018 में पर्रिकर के अग्नाशय के कैंसर का पता चला था; उन्होंने अमेरिकी अस्पतालों, दिल्ली के एम्स व मुंबई और गोवा में इलाज कराया

0
129
Manohar Parrikar मनोहर पर्रिकर

पणजी — गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने रविवार 17 मार्च को राज्य की राजधानी में अपने आवास पर अंतिम सांस ली।

इससे पहले गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर को ट्विटर पर उनके कार्यालय द्वारा “अत्यंत गंभीर” घोषित किया गया था।

फरवरी में पर्रिकर को पणजी के पास गोवा मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था हालांकि उन्हें 26 फरवरी को चिकित्सालय से छुट्टी दे दी गई थी।

उन्हें फरवरी 2018 में अग्नाशय संबंधी बीमारी का पता चला था। जब से उनके कैंसर का पता चला था, पर्रिकर ने अमेरिकी अस्पतालों, दिल्ली के एम्स और मुंबई और गोवा के अस्पतालों में इलाज कराया।

जब दिसंबर 2018 में पर्रिकर काम पर लौटे और कहा कि वह एक “जानलेवा बीमारी” से जूझ रहे थे, उन्होंने यह नहीं बताया कि यह कैंसर था। इसके बजाय उन्होंने सभी को आश्वासन दिया कि वे अपनी आखिरी सांस तक काम करते रहेंगे

30 जनवरी को उन्होंने राज्य विधानसभा में नाक में एक ट्यूब लगी हालत में गोवा बजट पेश किया। उस दिन के बाद से कांग्रेस मांग उठानी शुरू की कि भाजपा सरकार को खारिज कर दिया जाए।

कांग्रेस ने मुख्यमंत्री के काम करने की क्षमता पर संदेह किया। इसने सत्तारूढ़ भाजपा पर राज्य सरकार की रक्षा के लिए एक बीमार व्यक्ति को “परेड” करवाने का आरोप लगाया।

बीजेपी विधायक फ्रांसिस डिसूजा की मौत के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने की मांग करते हुए सरकार बनाने का दावा राज्यपाल मृदुला सिन्हा के समक्ष पेश किया।

अपने राज्य की राजनीति से अप्रभावित पर्रिकर ने कुछ दिनों बाद संकेत दिया कि वह आगामी लोकसभा चुनाव के प्रचार अभियान में सक्रिय भूमिका निभाएंगे। “मैं एक बड़ा भाषण नहीं दूंगा। मैंने यह भाषण चुनाव के प्रचार के लिए बचा रखा है,” पर्रिकर ने पार्टी प्रमुख अमित शाह की अध्यक्षता में भाजपा कार्यकर्ताओं की एक बैठक में कहा।

कल शनिवार को एक बैठक में राज्य भाजपा ने सहमति व्यक्त की थी कि पर्रिकर उनके नेता बने रहेंगे। इस फैसले में उनके सहयोगियों का समर्थन था। पर नियति को यही मंज़ूर ​​था कि मनोहर गोपालकृष्ण प्रभु पर्रिकर केवल आज रविवार तक उनके नेता बने रह सकते हैं।

पर्रिकर का व्यक्तिगत जीवन

मनोहर पर्रिकर का जन्म गोवा के मापुसा में हुआ था। वह मडगांव-स्थित लोयोला हाई स्कूल गए और मराठी में अपनी माध्यमिक शिक्षा पूरी की। उन्होंने 1978 में IIT बॉम्बे से धातुविज्ञान की इंजीनियरिंग शिक्षा में स्नातक किया।

पर्रिकर एक भारतीय राज्य के विधायक के रूप में सेवा करने वाले पहले IIT के पूर्व छात्र थे। उन्हें 2001 में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान – बॉम्बे द्वारा प्रतिष्ठित पूर्व छात्र पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।

पर्रिकर की पत्नी मेधा की 2001 में मृत्यु हो गई थी। वे अपने पीछे दो बेटे छोड़ गए हैं — उत्पल जो एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग स्नातक हैं और अभिजात जो एक व्यवसायी हैं।