19 C
New Delhi
Tuesday 19 November 2019
India महाराणा प्रताप महान थे, अकबर नहीं—योगी

महाराणा प्रताप महान थे, अकबर नहीं—योगी

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पत्रिका ‘अवध प्रहरी’ के विशेषांक का विमोचन भी किया

-

- Advertisment -

Subscribe to our newsletter

You will get all our latest news and articles via email when you subscribe

The email despatches will be non-commercial in nature
Disputes, if any, subject to jurisdiction in New Delhi
लखनऊ— उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मुगल बादशाह अकबर के बजाय राजपूत शासक महाराणा प्रताप को महान करार देते हुए कहा है कि महाराणा ने उस वक्त की सबसे बड़ी सैन्य ताकत के सामने जिस शौर्य और पराक्रम का परिचय दिया था, उसका उदाहरण बिरले ही मिलता है।
मुख्यमंत्री ने महाराणा प्रताप की जयन्ती पर कल आयोजित एक कार्यक्रम में कहा ‘‘हल्दीघाटी के युद्ध में कौन जीता, कौन हारा यह महत्वपूर्ण नहीं है। महत्वपूर्ण यह है कि अपनी सेना के साथ उस समय की सबसे बड़ी ताकत के सामने जूझते हुए महाराणा प्रताप ने जिस शौर्य और पराक्रम का परिचय दिया था, इतिहास में इस प्रकार के उदाहरण बिरले ही मिलते हैं।’’

उन्होंने कहा, ‘‘यही नहीं, वह लड़ाई एक दिन की नहीं थी। वह युद्ध कई वर्षों तक अरावली की पहाड़ियों में लड़ा गया और अंततः अपने सभी दुर्ग और किलों को वापस जीत करके महाराणा प्रताप ने यह बात साबित की थी कि महान अकबर नहीं, बल्कि महान राणा प्रताप ही हैं, जिन्होंने अपने शौर्य और पराक्रम के बल पर उस कालखण्ड में भी भारत के सम्मान और स्वाभिमान की रक्षा की थी।’’

योगी ने कहा, ‘‘जरा सोचिये अगर महाराणा प्रताप ने अकबर की अधीनता स्वीकार कर ली होती तो क्या आज हम मेवाड़ के उस राजवंश को राष्ट्रीय स्वाभिमान के प्रतीक के रूप में इस तरह का सम्मान देते। वही बात आज के परिप्रेक्ष्य में हम सब पर भी लागू होती है। जब हम अपने उस तनिक से स्वार्थ के लिये अपने समाज, अपने धर्म, अपनी संस्कृति और अपने राष्ट्र के साथ कभी-कभी इस प्रकार की छेड़छाड़ करने लगते हैं, जिससे अपूरणीय क्षति की सम्भावना बनी रहती है।’’

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की पत्रिका ‘अवध प्रहरी’ के विशेषांक का विमोचन भी किया।

Leave a Reply

Opinion

Anil Ambani: From Status Of Tycoon To Insolvency

Study the career of Anil Ambani, and you will get a classic case of decisions you ought not take as a businessman and time you better utilise

तवलीन सिंह, यह कैसा स्वाभिमान?

‘जिस मोदी सरकार का पांच साल सपोर्ट किया उसी ने मेरे बेटे को देश निकाला दे दिया,’ तवलीन सिंह ने लिखा। क्या आपने किसी क़ीमत के बदले समर्थन किया?

Rafale: One Embarrassment, One Snub For Opposition

Supreme Court accepts Rahul Gandhi's apology for attributing to it his allegation, rejects the review petition challenging the Rafale verdict

Guru Nanak Jayanti: What First Sikh Guru Taught

While Guru Nanak urged people to 'nām japo, kirat karo, vand chhako', he stood for several values while he also fought various social evils

Muhammed Who Inconvenienced Muslims

Archaeologist KK Muhammed had earlier got on the nerves of the leftist intelligentsia for exposing their nexus with Islamic extremists
- Advertisement -

Elsewhere

Owaisi takes on Banerjee as ‘secular’ lobby splits like 2002

Reacting to West Bengal Chief Minister Mamata Banerjee's flagging of the issue of "minority bigotry", All India...

Rahul Gandhi’s absence exposes funny AI of cameras in LS

When Congress MP K Suresh spoke from the seat designated to Rahul Gandhi, the Lok Sabha LED screen flashed a misrepresentative caption

Bharat Ratna to Savarkar needs no recommendation: Govt

BJP manifesto for Maharashtra had pledged to recommend Bharat Ratna for Savarkar to the Centre if it could form government in the State

JNU students hold Delhi to ransom; police turn ingenious to disperse the mob

Police have rubbished reports that said the cops had unleashed lathi-charge on JNU students and said the men in khaki were just persuasive

Ayyappa devotee in Sabarimala: I’m 9, will wait for 41 years

The agitation over women's entry into the shrine of Lord Ayyappa has witnessed several ironies in the past one year; here are 5 glaring ones

You might also likeRELATED
Recommended to you

For fearless journalism

%d bloggers like this: