3.8 C
New York
Sunday 28 November 2021

Buy now

Ad

HomePoliticsIndiaकेरल में राष्ट्रपति शासन लागू करने के हालात — संघ

केरल में राष्ट्रपति शासन लागू करने के हालात — संघ

|

नई दिल्ली केरल में हो रहे संघ कार्यकर्ताओं की हत्या और जानलेवा हमलों की बढ़ती घटनाओं से चिंतित राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) ने वाम-शासित राज्य में संवैधानिक व्यवस्था ध्वस्त होने का आरोप लगाते हुए उच्चतम और उच्च न्यायालय की निगरानी में उक्त घटनाओं की जांच कराये जाने की मांग की है। साथ ही संघ ने माना कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू करने की स्थिति उत्पन्न हो गई है।

संघ के सहसरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने शुक्रवार को यहां आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन में राज्य में संघ कार्यकर्ताओं पर हो रहे जानलेवा हमलों और उनकी हत्या की घटना की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि जब भी केरल में कम्युनिस्ट सरकार आती है संघ कार्यकर्ताओं पर हमले बढ़ जाते हैं। उन्होंने कहा कि केरल में पिछले 13 माह में 14 हत्याएं हुई हैं। उन्होंने पी विजयन की अगुवाई वाली राज्य सरकार से आग्रह किया कि वह सूबे में वामपंथी तालिबान को रोकने के लिए सख्त कदम उठाये।

संघ के सहसरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले ने संघ के स्वयंसेवकों पर हो रहे हमलों को राज्य समर्थित करार देते हुए कहा कि उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय की सुपरविजन में इन मामलों की जांच होनी चाहिए। उन्होंने सवालिया लहजे में कहा कि क्या केरल में राष्ट्रवादी संगठन के कार्यकर्ताओं को काम करने का अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा कि 13 महीने में 14 हत्याएं हुई। ऐसी राज्य समर्थित हत्याओं को देखकर क्या देश चुप रहेगा।

होसबोले ने कहा कि केरल में संघ कार्यकर्ताओं की हत्या का सिलसिला थम नहीं रहा। हमने राष्ट्रपति को भी पत्र लिखा, गृहमंत्री से भी मिले। उन्होंने गृहमंत्री राजनाथ द्वारा हमलों के संबंध में केरल के मुख्यमंत्री से बातचीत के कदम की सराहना की। उन्होंने कहा कि संघ ने अक्टूबर 2016 में अपनी अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में केरल में सीपीएम द्वारा संघ के स्वयंसेवकों पर हो रहे हमलों के संबंध में एक प्रस्ताव पारित किया था। इस वर्ष फरवरी और मार्च में स्वयंसेवकों ने कई नागरिक संगठनों के साथ संयुक्त रूप से दिल्ली के जंतर-मंतर से लेकर पूरे देश में 200 से अधिक स्थानों पर प्रदर्शन किया।

Sirf News needs to recruit journalists in large numbers to increase the volume of its reports and articles to at least 100 a day, which will make us mainstream, which is necessary to challenge the anti-India discourse by established media houses. Besides there are monthly liabilities like the subscription fees of news agencies, the cost of a dedicated server, office maintenance, marketing expenses, etc. Donation is our only source of income. Please serve the cause of the nation by donating generously.

Support pro-India journalism by donating via UPI to surajit.dasgupta@icici

Pakistan's drones carry explosives, while Indian ones carry life-saving vaccines, medicines, says Union Minister Jitendra Singh

Read @ANI Story | https://www.aninews.in/news/national/general-news/pakistans-drones-carry-explosives-while-indian-ones-carry-life-saving-vaccines-medicines-says-union-minister-jitendra-singh20211128015742/

It’s hard to do nothing, but travel bans are likely to cause more harm than good. They will keep people apart, impact livelihoods, and disincentivize future transparency about findings. Meanwhile the variant has unfortunately probably already spread far and wide.

Centre's bid to curb crypto … Bill to regulate on the table.

Why does crypto need curbs? Should India just ban crypto? Find out from the best experts.

@Subhashgarg1960 & @DrArunaSharma6 join Rahul Shivshankar on CONVERSE INDIA @ 6:30pm.

#CryptoCurbs

“In Haryana, overall, the vaccination rate is 90%. But, in Nuh it is very low. Recently, the PM had expressed concern and spoken to the DC here," said Haryana Chief Minister Manohar Lal Khattar.

https://bit.ly/3DUqI4V

Read further:

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Now

Columns

[prisna-google-website-translator]