Thursday 3 December 2020
- Advertisement -

Is Rhea or somebody else the real culprit of Sushant, asks senior lawyer

- Advertisement -
Entertainment Is Rhea or somebody else the real culprit of Sushant, asks senior...

इस साक्षात्कार का हिन्दी भावांतरण अंग्रेज़ी मूलपाठ के बाद मुद्रित है

In the wake of the apparent effort of Mumbai Police to pin the blame for actor Sushant Singh Rajput’s mysterious death, even as Bihar Police has added a twist to the tale- Supreme Court lawyer Amitabh Sinha has expressed an apprehension that small-time starlet Rhea Chakraborty, whose only claim to fame was her alleged association with the dead actor, faces a threat to her life. “Rhea may be killed while the incident might be passed off as another suicide, with commentators alleging that ‘media trial’ and the Indian society at large was responsible for it,” Sinha said.

Rhea is not the story

Elaborating on his apprehension, the senior lawyer, who is also an avid student of history and a public commentator, recalled the evolution of Bollywood from its inception right from the Jawaharlal Nehru era. He pointed out how initially the communists had virtually controlled the narrative here too, as in the fields of education and news media to demolish Indian pride- Nehru’s main objective. Subsequently, Sinha said, the Muslim mafia, from Haji Mastan to Dawood Ibrahim, took over.

The senior lawyer recounted the change in the rank and file of the dyed-in-the-wool communist union Indian People’s Theatre Association (IPTA, established 1943), the Bombay chapter of which has always seen a predominance of Hindu bashers and pro-Muslim members: filmmakers, music directors, directors, actors, lyricists, etc.

“The storyline of films changed in this phase. A criminal was perforce a Hindu sporting a tilak who would indulge in all sort of nefarious activities from smuggling to murder to rape, while the Muslim character in the film would be a devout namazi and law-abiding citizen,” Sinha pointed out.

“It was an elaborate conspiracy by the jihadi gang, which took over the reins from communists who ran the union called IPTA to dominate Indian cinema that is a flagbearer of our social trends,” the senior lawyer said. He added that the cabal he refers to as the “jihadi gang” was wary of a reversal of their hegemony in the industry.

“Their reign is over,” the senior lawyer said, “as they can read the writing on the wall that the renaissance of Indianness has started and a no-nonsense government has taken over the reins in Delhi.”

Senior lawyer Amitabh Sinha suspects Muslim mafia of Bollywood got Sushant Singh Rajput murdered
Amitabh Sinha

Sinha stressed the fact that the 1990s were also the period when scores of criminal cases linking Bollywood to the gangs of Dawood Ibrahim and others had surfaced. “Several actors- dhimmis from other communities included, would be at the beck and call of the D-gang,” the senior lawyer said.

Sinha explained that a characteristic feature of this jihadi clique is religious misogyny, where they cannot stand bold women. Under their scheme of things, however, they manipulate Hindus to be ashamed of their traditions and orient Hindu girls to embrace love jihad through films like PK and several others. When their own women folk turn modern, Sinha said, they are suppressed, marginalised, discredited and even murdered. Saying so, Sinha recalls the alleged suicide/murder of Jiah Khan.

“The world knows what kind of a character Salman is. The only eyewitness who could have ensured that the accused in the hit-and-run case gets his just deserts was found lying abandoned in a street,” the senior lawyer said. He alleged that the mafia had induced tuberculosis into constable Ravindra Patil who died subsequently in a hospital of the disease.

Salman Khan does have criminal antecedents, much as he has not been punished by law so far. “The investigative agencies were probing his underworld connections like that with Abu Salem that were exposed during the making of the film Chori Chori Chupke Chupke,” Sinha said.

Excerpts from an alleged conversation between Salman Khan and Aishwarya Rai where the former is pressuring the latter to participate in a show organised by the gangster following the release of Chori Chori Chupke Chupke.

The senior lawyer said that by holding shows for public consumption like Ganesh Puja, Salman Khan tries to cover up his sinister whereabouts.

“Salman is the kingpin of this mafia operating in India working at the behest of the international gang,” Sinha alleged. He accused Salman of recruiting Sooraj Pancholi, Aditya Pancholi and Zareena Wahab’s son, to bump off this modern, bold Muslim actress Jiah Khan.

Explaining the choice of Sooraj Pancholi to man their dominion, Sinha said that the jihadi gang carefully picks characters with Hindu-sounding names but who are Muslim by character and practice, who do the bidding of the mafia.

“Sooraj is Hindu by name but actually a Wahabi,” Sinha said, adding that Mahesh Bhatt, whom Mumbai Police has questioned in connection with the Sushant case, is another character of the type.

“Sanjay Dutt, you may recall, was a similar choice,” the senior lawyer said, “who had a Muslim mother just like Sooraj and Mahesh, and who joined the mafia via Muslim contacts.”

The senior lawyer said a host of production houses and their owners like Karan Johar or the Aditya Chopra are hand-in-glove with the jihadi gang. “Who does not know the intense relationship between Karan Johar and Shah Rukh Khan or Karan Johar and controversial Pakistani actor Fawad Khan,” the senior lawyer added.

“Hiring Muslims with Hindu-sounding names and dhimmis to do their bidding is the typical modus operandi of the criminal jihadi gang,” Sinha said.

“By antagonising Sooraj Pancholi, Sushant Singh Rajput earned the wrath of Khan,” Sinha said. “That other guy you all have seen bullying Sushant, Imtiaz Khatri, is from the same jihadi mafia,” he added.

Indeed, barely three days after Sushant’s mysterious death, a video of late Jiah Khan’s mother, Rabia Amin, surfaced online where she urged Bollywood to “wake up” and “demolish bullying”.

Ostensibly a suicide, Jiah’s mother, Rabia Amin has independently hired British forensics expert Jason Payne-James, who concluded in a 20th September, 2016 report that Khan’s hanging was staged and the marks on her face and neck indicated it was not suicide, but murder.

Rubia said that years ago, the cops had told her that Salman Khan had told them to keep off actor Sooraj Pancholi, who was being interrogated regarding the late actress’s death case back then.

“How was Sushant threatening this jihadi gang?” Sirf News asked Amitabh Sinha. “This is a guy who had come to the industry with an unputdownable Bihari mindset. With his superior intellect that explored astrophysics, astrology and Sanskrit alike, his personality was a challenge thrown at the presentable characters that the jihadi gang keeps on the forefront to impress young and other impressionable minds,” the senior lawyer said.

“They tried to appropriate him, but the young, talented Bihari just wouldn’t toe their line,” said Sinha, adding, “And so Shah Rukh and Saif gang up together at an award function and heckle him as they had done earlier with Neil Nitin Mukesh.” Karan Johar served the gang here again when he mocked Sushant via Sonam Kapoor in his infamously superficial Koffee with Karan show.

The senior lawyer said that while the Khans and their apologists tried to brush off the allegation of harassment by saying what is spoken at award functions are “scripted jokes”, “movie lovers have seen that a person who is targeted on stage does not get new projects thereafter”. Case in point again, Neil Nitin Mukesh — a talented actor who went into oblivion when he stood up for himself and humiliated the Khans right back. As have been targeted many others- singers Arijit, Abhishek, Sonu Nigam and actors like Kangana Ranaut.

Sushant was kicked out of a number of good projects abruptly and mischievously after the episode, Sinha said. “Sushant had taken on Sooraj at a party for the latter’s involvement with his ex-manager Disha Salian and subsequently dumping her after she allegedly got pregnant,”the senior lawyer said.

Sinha, citing Sushant’s family friend Smita, said that the actor had shared with his sister that he was facing a threat to his life after the passing away of Disha Salian.

The interview then moves on to the ongoing probe into the affairs of Rhea Chakraborty.

“Who is Rhea Chakraborty?” Sinha asked, adding that the “small fry” or “pawn” could be murdered to prevent the big fish from getting exposed. The senior lawyer said while Rhea might have done something dubious, which the Enforcement Directorate will probe and find out, she is a mere subplot in the narrative.

What is confirmed is that this starlet was looking for a house to move in along with Sushant but she did not want high security in the apartment. A real estate broker surfaced on 31 July and told a national television channel that Rhea had approached him with such an awkward request. “This is a clear indication that the jihadi gang needed an opportunity where their henchmen could carry out a clean operation to eliminate Sushant,” Sinha said.

But now that Rhea is under the radar of law-enforcement agencies, one which is under the local government and may have compromised professional integrity, the senior lawyer said, “Rhea faces a clear threat to her life. And it is imperative that to save her and not lose an important link in this investigation, She should be arrested immediately and put in the safe custody of the CBI or ED and away from Mumbai.”

The senior lawyer is concerned that harping on the allegation of nepotism in the film trade would embolden the theory of suicide of Sushant. Sinha suspects Sushant Singh Rajput was murdered in cold blood.

Legal opinion

Asked for his expert opinion as a senior lawyer as to whether a CBI inquiry could be imposed on a state, Sinha said, “Of course, but the way somebody went straight up to the Supreme Court was the wrong way of doing it. Maybe someone from that very jihadi gang did it to deliberately get the case dismissed by the apex court, and create a clear case of res judicata.”

“And yet, the Supreme Court did not quite dismiss the case. It asked for seeking a legal remedy in the right forum, which is the Bombay High Court,” Sinha said. “It is only in the event that a petitioner does not get relief from the state high court that he must move the highest court of the country,” the senior lawyer explained.

“We cannot expect an impartial probe by Mumbai Police because of their connections with the film mafia. The role of Chief minister Uddhav Thackeray’s son and state minister Aaditya is fishy. It is alleged that he was present in both the parties where Sushant got into trouble. The needle of suspicion is sharper now when it flummoxes the mind that the police commissioner of Mumbai goes to discuss the Sushant case with Aaditya Thackeray — a minister of tourism and environment? Now the case must be taken away from the Mumbai Police,” Sinha said, sighing over what has become of the Shiv Sena, a party founded by Bal Thackeray, whose grandson is now shockingly a part of the jihadi gang of Bollywood.

On the macro issue of the nation and society, Sinha is an optimist though. He said, “Just as it was unthinkable until some years ago that the reign of the Congress in national politics would come to an end, the jihadi cabal’s vice-like grip on the film industry will end too.”

Till then, Sinha adds, “We have to be on our watch. In their moment of desperate decline, they will go to any extent.”

Co-interviewer: Siddharth Raghvendra Raghuvanshi

सुप्रीम कोर्ट के वकील अमिताभ सिन्हा कहते हैं कि रिया चक्रवर्ती पर सारा ध्यान केंद्रित करके हम कहीं सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय मौत की जाँच में बॉलीवुड के जिहादी गिरोह की साजिश की अनदेखी तो नहीं कर रहे…

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय मौत के मामले में मुंबई पुलिस का एक अनजानी सी अदाकारा रिया चक्रवर्ती, जिसकी पहचान उसकी अदाकारी के बजाय मृत अभिनेता के साथ उसके कथित संबंधों को लेकर ही ज्यादा रही है, को दोषी ठहराने की कोशिशें और बिहार पुलिस द्वारा इस कहानी में एक मोड़ जोड़ देने से, सुप्रीम कोर्ट के वकील अमिताभ सिन्हा रिया की जान को लेकर खतरे की आशंका जताते हैं. सिन्हा ने कहा, “रिया की हत्या हो सकती है और इसे भी एक आत्महत्या दिखाया जा सकता है. टिप्पणीकार बड़ी सरलता से ‘मीडिया ट्रायल’ और वृहत रूप में भारतीय समाज को इसके लिए जिम्मेदार ठहरा सकते हैं.”

रिया तो बस एक मोहरा है

अपनी आशंका की वजहें बताते हुए वरिष्ठ वकील, जो इतिहास के एक उत्साही छात्र और एक समालोचक भी हैं, ने बॉलीवुड के जवाहरलाल नेहरू के युग से लेकर अब तक के सफर को रेखांकित किया. उन्होंने बताया कि भारतीय गर्व को मटियामेट करने की नीयत से कम्युनिस्टों ने किस प्रकार शिक्षा और समाचार माध्यमों की तरह ही, शुरुआत में बॉलीवुड के कथ्य को भी पूरी तरह अपने नियंत्रण में रखा क्योंकि नेहरू ऐसा ही चाहते थे. सिन्हा कहते हैं कि उसके बाद, हाजी मस्तान से लेकर दाऊद इब्राहिम तक, बॉलीवुड मुस्लिम माफियाओं की गिरफ्त में रहा है.

वरिष्ठ वकील इंडियन पीपुल्स थिएटर एसोसिएशन (इप्टा, 1943 में शुरू) के कर्ता-धर्ताओं द्वारा इस संगठन को कम्युनिस्ट रंग में रंगने की कोशिशों को याद करते हुए बताते हैं कि इप्टा के बॉम्बे चैप्टर में हमेशा हिंदुओं का माखौल उड़ाने वालों और मुस्लिम समर्थक फिल्म निर्माताओं, संगीत निर्देशकों, फिल्म निर्देशक, अभिनेताओं, गीतकारों आदि का ही दबदबा रहा.

सिन्हा कहते हैं, “इस दौर में फिल्मों का कथ्य बदल गया. फिल्म की कहानी में अपराधी एक तिलक लगाने वाला हिंदू ही होगा जो तस्करी से लेकर बलात्कार तक सभी तरह के घृणित कार्यों में लिप्त होगा, जबकि फिल्म का मुस्लिम चरित्र एक धर्मनिष्ठ नमाजी और कानून का पालन करने वाला नागरिक होगा.”

वरिष्ठ वकील कहते हैं, “यह उस जिहादी गिरोह की रची एक बड़ी साजिश थी जिसने इसकी बागडोर उन कम्युनिस्टों के बाद संभाली थी, जो हमारे सामाजिक रुझानों को दिशा देने वाले भारतीय सिनेमा पर हावी होने के लिए इप्टा नामक संगठन चलाया करते थे.” उन्होंने कहा कि “जिहादी गिरोह” से उनका आशय जिन षड़यंत्रकारियों से है, वे आज उद्योग में अपने वर्चस्व के खत्म होने को लेकर आशंकित हैं.

वरिष्ठ वकील ने कहा, “वे समझ चुके हैं कि अब उनकी हुकूमत खत्म हो चुकी है और भारतीयता का पुनर्जागरण शुरू हो गया है क्योंकि दिल्ली में अब एक ऐसी सरकार है जो उनकी बकवास को कतई बर्दाश्त नहीं करेगी.”

सिन्हा 1990 के दौर को भी याद करते हैं जब दाऊद इब्राहिम और अन्य गिरोहों के साथ बॉलीवुड के आपराधिक साठगांठ के मामले अक्सर सुनने को मिल जाते थे. वरिष्ठ वकील ने कहा, “बहुत से अभिनेता, जिनमें मुसलमानों के रहमोकरम पर आश्रित अन्य समुदायों के लोग भी शामिल थे, डी-गैंग के इशारे पर नाचा करते थे.”

सिन्हा ने बताया कि यह जिहादी गुट अपनी एक धार्मिक कुप्रथा को आगे बढ़ाता है. उसे अपने धर्म की साहसी महिलाएं फूटी आँखों नहीं सुहातीं. हालांकि, हिंदुओं को अपनी परंपराओं पर शर्मिंदा महसूस कराने और हिंदू लड़कियों को लव जिहाद में फंसाने की अपनी सुनियोजित चाल के तहत, पीके और उसी तरह की कई अन्य फिल्मों के जरिए वे हिंदुओं की आस्था से जुड़े विषयों को तोड़—मरोड़कर मनमाने ढंग से परोसते हैं. सिन्हा कहते हैं कि जब उनकी अपनी औरतें आधुनिक होने लगती हैं तो उन्हें दबाया जाता है, हाशिए पर धकेल दिया जाता, उनके काम का श्रेय नहीं दिया जाता और यहां तक ​​कि उनकी हत्या भी कर दी गई है. सिन्हा जिया खान की कथित आत्महत्या/हत्या की घटना का स्मरण कराते हैं.

सिन्हा कहते हैं, “दुनिया जानती है कि सलमान किस तरह के किरदार हैं. हिट-एंड-रन मामले का एकमात्र चश्मदीद गवाह जो आरोपी के करतूतों की सजा सुनिश्चित करा सकता था, वह सड़क पर लाचार हालत में पाया गया था.” उन्होंने आरोप लगाया कि माफिया ने कांस्टेबल रवींद्र पाटिल को तपेदिक का रोगी बना दिया और बाद में उसी बीमारी के कारण अस्पताल में उनकी मृत्यु हो गई.

सलमान खान की आपराधिक प्रवृति इसलिए भी बढ़ी है, क्योंकि कानून ने उन्हें अब तक दंडित नहीं किया है. सिन्हा ने कहा, “जांच एजेंसियां ​​अबू सलेम के साथ उनके अंडरवर्ल्ड के साथ रिश्तों की पड़ताल कर रही थीं, जो फिल्म चोरी चोरी चुपके चुपके के निर्माण के दौरान उजागर हुए थे.”

वरिष्ठ वकील ने कहा कि गणेश पूजा जैसे दिखावे करके, सलमान खान अपने प्रपंच पर पर्दा डालने की भरपूर कोशिश करते हैं.

सिन्हा आरोप लगाते हैं, “अंतरराष्ट्रीय गिरोह के इशारे पर काम करने वाले इस माफिया का सरगना कोई और नहीं, सलमान ही हैं.” उन्होंने आरोप लगाया कि एक आधुनिक और साहसी मुस्लिम अभिनेत्री जिया खान को मारने के लिए सलमान ने आदित्य पंचोली और ज़रीना वहाब के बेटे सूरज पंचोली को काम पर लगाया था.

आखिर सूरज पंचोली ही क्यों, सिन्हा ने इस रहस्य का खुलासा करते हुए बताया कि जिहादी गिरोह बहुत होशियारी के साथ अपने काम के लिए ऐसे लोगों को चुनता है जिनके नाम तो हिंदुओं जैसे होते हैं, लेकिन वे दरअसल इस्लाम को मानने वाले ऐसे लोग होते हैं जो गोपनीय तरीके से माफिया का सौंपा काम करते हैं.

सिन्हा ने बताया, “सूरज नाम से तो हिंदू लगता है, लेकिन वास्तव में वह एक वहाबी है.” उसी तरह महेश भट्ट भी माफिया के हाथ का एक खिलौना हैं जिनसे मुंबई पुलिस ने सुशांत मामले में पूछताछ की है. वरिष्ठ वकील ने कहा, “उसी तरह संजय दत्त, भी माफिया की पसंद थे जिनकी सूरज और महेश की तरह, मां मुस्लिम थीं और जो मुस्लिम संपर्कों के माध्यम से वे माफिया में शामिल हो गए.”

वरिष्ठ वकील ने कहा कि बहुत से प्रोडक्शन हाउस और करण जौहर या आदित्य चोपड़ा जैसे उनके मालिकों की इस जिहादी गिरोह के साथ मिलीभगत है. वरिष्ठ वकील ने कहा, “करण जौहर और शाहरुख खान या करण जौहर और विवादास्पद पाकिस्तानी अभिनेता फवाद खान के बीच करीबी संबंध किससे छुपे हैं.”

सिन्हा ने बताया, ”हिंदू नाम रखने वाले मुसलमानों और मुसलमानों की सरपरस्ती में अपना वजूद सुरक्षित देखने वालों को फिल्मों में काम देना इस आपराधिक जिहादी गिरोह की एक खास चाल है. सूरज पंचोली का विरोध करके, सुशांत सिंह राजपूत ने इस खान गैंग को नाराज कर लिया. एक अन्य शख्स इम्तियाज खत्री, जिसे आप सबने सुशांत को धमकाते हुए देखा है, उसी जिहादी माफिया से ताल्लुक रखता है.”

दरअसल, सुशांत की रहस्यमयी मौत के तीन दिन बाद, दिवंगत जिया खान की मां राबिया अमीन का एक वीडियो सामने आया, जिसमें उन्होंने बॉलीवुड को “जागने” और “दादागिरी को खत्म करने” का आग्रह किया.

हालांकि जिया की मौत एक आत्महत्या जैसी दिखती थी पर जिया की मां राबिया अमीन का दिल इसे मानने को तैयार न था. लिहाजा उन्होंने स्वतंत्र रूप से एक ब्रिटिश फोरेंसिक विशेषज्ञ जेसन पाएने-जेम्स की सेवाएं लीं जो 20 सितंबर 2016 की अपनी रिपोर्ट में इस निष्कर्ष पर पहुंचे थे कि जिया खान को फांसी पर लटकाया गया था. उनके चेहरे और गर्दन पर मौजूद निशान इस बात का इशारा करते थे कि जिया ने आत्महत्या नहीं की थी, बल्कि उनकी हत्या हुई थी. दिवंगत अभिनेत्री की मौत के मामले में पूछताछ कर रहे पुलिस अधिकारियों को भी कई साल पहले राबिया ने बताया था कि सलमान खान उन्हें अभिनेता सूरज पंचोली को इस मामले से दूर रखने का दबाव बना रहे हैं.  

सिर्फ न्यूज द्वारा यह पूछे जाने पर कि “सुशांत से इस जिहादी गिरोह को क्या खतरा महसूस हो रहा था?” अमिताभ सिन्हा ने बताया, “वह एक ऐसे व्यक्ति थे जिसने किसी से रत्तीभर भी नहीं डरने वाली बिहारी मानसिकता के साथ फिल्म उद्योग में कदम रखा था. खगोल भौतिकी, ज्योतिष और संस्कृत पर पकड़ रखने वाले कुशाग्र सुशांत का व्यक्तित्व उन सुघर मासूम दिखने वाले चेहरों के लिए एक बड़ी चुनौती साबित हो रहा था जिन्हें युवाओं और आसानी से प्रभावित हो जाने लोगों को बरगलाने की नीयत से ही जिहादी गिरोह आगे बढ़ाता है.”  

सिन्हा ने कहा, “उन्होंने सुशांत को भी अपने गिरोह में शामिल करने की कोशिश की लेकिन यह युवा प्रतिभाशाली बिहारी उनकी चाल को समझ गया था और घुटने नहीं टेके. सुशांत को हतोत्साहित करने के लिए एक पुरस्कार समारोह में शाहरुख और सैफ ने एक साथ मिलकर उन पर तीखे सवाल दागे जैसा कि वे पहले नील नितिन मुकेश के साथ कर चुके थे.” उसके बाद करण जौहर ने भी उस गैंग को खुश करने के लिए अपने बदनाम सतही कार्यक्रम कॉफी विद करण शो में सोनम कपूर के माध्यम से सुशांत की खिल्ली उड़ाई.

वरिष्ठ वकील ने बताया कि खान और उनके चापलूसों ने यह कहते हुए सुशांत के उत्पीड़न के आरोपों से पल्ला झाड़ने की कोशिश की कि पुरस्कार समारोहों में जो बोला जाता है, वह सब “स्क्रिप्टेड जोक” या पहले से लिखी गई बातें होती हैं लेकिन “फिल्मप्रेमी इस बात से भलीभांति अवगत हैं कि जिस व्यक्ति को भी स्टेज पर निशाना बनाया जाता है, उसे प्रोजेक्ट्स मिलने बंद हो जाते हैं.” नील नितिन मुकेश इसकी मिसाल हैं. इस प्रतिभाशाली अभिनेता ने पलटकर इन खानों का ही मजाक उड़ा दिया था और इस वजह से उन्हें गुमनामी में जाना पड़ा. कुछ ऐसा ही गायक अरिजीत, अभिषेक, सोनू निगम और कंगना रनौत जैसे कलाकारों के साथ भी हो चुका है.

सिन्हा ने बताया कि इस प्रकरण के बाद सुशांत को अचानक और शैतानीपूर्ण ढंग से कई अच्छे प्रोजेक्ट्स से बाहर कर दिया गया. वरिष्ठ वकील ने कहा, “एक पार्टी में सुशांत की अपनी पूर्व मैनेजर दिशा सालियान को लेकर सूरज पंचोली के साथ कुछ कहासुनी हो गई थी. बताया जाता है कि जब दिशा गर्भवती हो गई तो सूरज ने उससे किनारा कर लिया और यह बात सुशांत को खटकी थी.”

सुशांत की पारिवारिक मित्र स्मिता के हवाले से सिन्हा ने बताया कि अभिनेता ने अपनी बहन से कहा था कि दिशा सालियान की मौत के बाद वह अपनी जान पर भी खतरा महसूस कर रहे हैं.

साक्षात्कार में सिन्हा ने इसके बाद रिया चक्रवर्ती और उनकी जांच के मुद्दे पर भी अपनी राय रखी.

सिन्हा पूछते हैं कि “रिया चक्रवर्ती आखिर कौन है?” एक “छोटी मछली” या “मोहरा” जिसकी बड़ी मछली का खेल खुलने से रोकने के लिए कभी भी बली दी जा सकती है. वे कहते हैं कि हो सकता है कि रिया ने कुछ ऐसा किया हो जो उन्हें संदेह के घेरे में ला खड़ा करता है और प्रवर्तन निदेशालय उसका पता भी लगा लेगा लेकिन रिया इस पूरी कथा का मात्र एक छोटा सा हिस्सा हैं.

एक बात जिसकी पुष्टि हो चुकी है कि रिया, सुशांत के साथ रहने के लिए एक घर की तलाश में थीं लेकिन वह उस अपार्टमेंट में बहुत चाक-चौबंद सुरक्षा इंतजाम नहीं चाहती थीं. 31 जुलाई को एक रियल एस्टेट ब्रोकर सामने आया और एक राष्ट्रीय टेलीविजन चैनल को बताया कि रिया ने उनसे इस तरह के अजीब अनुरोध के साथ संपर्क किया था. सिन्हा ने कहा, “यह एक स्पष्ट संकेत है कि जिहादी गिरोह को एक ऐसे मौके की तलाश थी, जब उसके गुर्गे बहुत सफाई से सुशांत को खत्म कर सकें.”

अब जबकि रिया कानून-प्रवर्तन एजेंसियों की निगाह में आ चुकी हैं, जो स्थानीय सरकार के अधीन हैं और पेशेवर ईमानदारी से समझौता कर सकती हैं, वरिष्ठ वकील कहते हैं, “रिया की जान पर खतरा साफ दिखता है. उन्हें बचाना जरूरी है ताकि इस जांच की एक महत्वपूर्ण कड़ी खत्म न होने पाए. उन्हें तुरंत गिरफ्तार करके सीबीआई या ईडी की सुरक्षित हिरासत में और मुंबई से दूर रखा जाए.”

वरिष्ठ वकील चिंतित हैं कि फिल्म कारोबार में भाई-भतीजावाद के आरोपों को ज्यादा तूल देने से सुशांत द्वारा आत्महत्या की कहानी को बल मिल जाएगा. सिन्हा को लगता है कि एक सुनियोजित साजिश के तहत सुशांत सिंह राजपूत की हत्या की गई थी.

कानूनी पक्ष

एक वरिष्ठ वकील के रूप में सिन्हा से पूछा गया कि क्या किसी राज्य को सीबीआई जांच के लिए बाध्य किया जा सकता है, तो उनका उत्तर था, “बेशक. लेकिन जिस तरह से किसी ने सर्वोच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है, वह तरीका गलत था. हो सकता है कि उसी जिहादी गिरोह के किसी व्यक्ति ने जानबूझकर और इस सोच के साथ ऐसा किया हो कि शीर्ष अदालत से यदि मामला खारिज हो जाए तो इसे अधिकार क्षेत्र की कानूनी बहस का एक स्पष्ट मामला बनाया जा सके.”

सिन्हा कहते हैं, “सुप्रीम कोर्ट ने मामले को खारिज नहीं किया. इसने कानूनी उपाय के लिए सही मंच पर जाने को कहा जो कि बॉम्बे हाईकोर्ट है. सुप्रीम कोर्ट के इस सुझाव की वरिष्ठ वकील इस प्रकार व्याख्या करते हैं, “जब एक याचिकाकर्ता को राज्य उच्च न्यायालय से राहत नहीं मिलती, तब उसे देश की सर्वोच्च अदालत में जाना चाहिए.”

शिवसेना के संस्थापक बाल ठाकरे का पोता अब बॉलीवुड के जिहादी गिरोह का एक हिस्सा है, इस बात पर अफसोस जताते हुए सिन्हा ने कहा, “फिल्म माफिया के साथ मुंबई पुलिस के दोस्ताना रिश्तों के मद्देनजर हम मुंबई पुलिस से इस मामले की निष्पक्ष जांच की उम्मीद नहीं कर सकते. मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और राज्य के मंत्री आदित्य ठाकरे की भूमिका भी संदेह के घेरे में है. आरोप है कि वे उन दोनों पार्टियों में मौजूद थे जहां सुशांत का विवाद हुआ था. क्या संदेह तब और नहीं गहराता जब यह सुनने में आता है कि मुंबई के पुलिस कमिश्नर ने सुशांत मामले पर आदित्य ठाकरे के साथ चर्चा की, जो कि राज्य के पर्यटन और पर्यावरण मंत्री हैं? अब इस मामले की जांच मुंबई पुलिस के हाथ में नहीं होनी चाहिए.” सिन्हा राष्ट्र और समाज को लेकर आशावादी दिखते हैं. उन्होंने कहा, “कुछ साल पहले कोई कल्पना कर सकता था कि राष्ट्रीय राजनीति से कांग्रेस लगभग समाप्त हो जाएगी? फिल्म उद्योग में अंदर तक पैठ बना चुके जेहादियों का वजूद भी जल्द ही खत्म हो जाएगा. तब तक हमें बहुत चौकन्ना रहना होगा. हताशा में वे किसी भी हद तक जा सकते हैं.”

- Advertisement -
Ganesh Shenoy
Ganesh Shenoyhttps://www.sirfnews.com/
Media commentator and political thinker

Views

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -
%d bloggers like this: