Thursday 26 November 2020
- Advertisement -
Home Videos राहुल गांधी कांग्रेस या विपक्ष का नेतृत्व करने के योग्य हैं क्या?

राहुल गांधी कांग्रेस या विपक्ष का नेतृत्व करने के योग्य हैं क्या?

राहुल गांधी ने चीन-भारत गतिरोध को लेकर प्रधानमंत्री पर फिर से साधा निशाना। “चीनियों ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया है,” उन्होंने कहा। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, “पिछले कुछ महीनों में क्या आपने प्रधानमंत्री को ‘चीन‘ शब्द बोलते हुए सुना है? आपको क्या लगता है वे इस विषय पर क्यों नहीं बोल रहे हैं? प्रधानमंत्री चीन का ज़िक्र क्यों नहीं कर रहे? इसलिए कि वे नहीं चाहते कि देश के लोगों का ध्यान इस तथ्य की ओर जाए कि चीनियों ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया है।”

राहुल गांधी ने पीएम मोदी को ‘कायर’ करार देते हुए दावा किया कि अगर उनकी सरकार होती तो 15 मिनट नहीं लगते चाइना को उठाकर फेंकने में। उनके इस दावे के बाद सोशल मीडिया खासकर ट्विटर पर अक्साई चिन ट्रेंड करने लगा है और राहुल गांधी ट्रोल हो रहे हैं।

राहुल गांधी ने मंगलवार को हरियाणा के कुरुक्षेत्र में किसान रैली को संबोधित करते हुए कहा था, “जब हमारी सरकार थी, मैं आपको गारंटी देता हूं, चाइना में इतना दम नहीं था कि वह हमारे देश में एक क़दम भी डाल दे। आज पूरी दुनिया में एक ही देश है जिसके अंदर कोई और देश की सेना आई। 1,200 वर्ग किलोमीटर ले गई और कायर प्रधानमंत्री कहता है कि इस देश की जमीन किसी ने नहीं ली। पूरी दुनिया में एक ही देश है जिसकी ज़मीन हड़पी गई, वह है हिंदुस्तान’ उन्होंने आगे कहा, “…मैं आपको बता रहा हूं कि हमारी सरकार होती न तो उठाकर फेंक देते चाइना को बाहर।…15 मिनट लगते बस।”

भाजपा ने भी उन पर हमला बोला है। यूज़र्स पूछ रहे हैं कि चीन ने अक्साई चिन को किसकी सरकार रहते हड़पा था।

अक्साई चिन जम्मू-कश्मीर का हिस्सा है लेकिन उस पर चीन का अवैध कब्जा है। जवाहर लाल नेहरू के प्रधानमंत्री रहते ड्रैगन ने उस पर अवैध कब्जा किया था।

क्या चीन से 1962 की लड़ाई में भारतीय सेना को उपयुक्त और पर्याप्त सहायता देने से हिचकिचाने वाली कांग्रेस को यह प्रश्न उठाने का अधिकार है? क्या राहुल गांधी किसी राजनैतिक रणनीति के तहत यह सवाल उठा रहे हैं? क्या इस मुद्दे को उठाने से कांग्रेस को कोई फ़ायदा हो रहा है? अगर इन तमाम सवालों का जवाब ‘नहीं’ है तो राहुल गांधी की राजनैतिक सूझबूझ पर सवाल उठाना लाज़मी है।

%d bloggers like this: