भारत की आबादी जल्द चीन से ज़्यादा होगी

0
300

नई दिल्ली — महज़ सात सालों में भारत चीन को पछाड़ कर दुनिया की सबसे ज़्यादा आबादी वाला देश बन जाएगा। हालांकि देश में परिवार नियोजन के अथक प्रयास लगातार जारी हैं।

विश्व जनसंख्या दिवस 11 जुलाई के उपलक्ष्य में संयुक्त राष्ट्र की ओर से जारी ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि वर्ष 2024 में भारत जनसंख्या के लिहाज़ से चीन से आगे निकल जाएगा।

फ़िलहाल चीन की आबादी एक अरब 40 करोड़ है जबकि भारत की एक अरब 30 करोड़ है। जनसंख्या विस्फोट के ख़तरों को भांपते हुए ही इस बार विश्व जनसंख्या दिवस का विषय “परिवार नियोजन — लोगों का सशक्तिकरण और देशों का विकास” रखा गया है।

नई नीति के तहत देश में सबसे ज्यादा करीब तीन प्रतिशत की प्रजनन दर वाले सात राज्यों के 146 जिलों को चिह्नित करके वहां लोगों को परिवार नियोजन के लिए प्रोत्साहित करने के वास्ते कई कार्यक्रम शुरु किए गए हैं।

इन राज्यों में प्रजनन दर 2025 तक घटाकर 2.1 प्रतिशत पर लाने का लक्ष्य रखा गया है। अभियान के तहत उन कारणों का बारीकी से पता भी लगाया जा रहा है जो जनसंख्या वृद्धि की वजह बन रहे हैं।

इनमें परिवार नियोजन सुविधाओं का अभाव, पर्याप्त चिकित्सा केन्द्रों और वहां डाक्टरों और चिकित्साकर्मियों की कमी तथा ढांचागत सुविधाओं का अभाव जैसे कारणों के समाधान के लिए ठोस नीति पर काम हो रहा है।

इस बीच, परिवार नियोजन जागरूकता अभियान के तहत कई नई पहल भी की गई है।
ग्राम पंचायतों में हर जगह परिवार नियोजन से संबंधित सुविधाएं देने की तैयारी की गई है। इस महत्वाकांक्षी अभियान में विश्व स्वास्थ्य संगठन और कई निजी संस्थायें भी सहयोग कर रही हैं।