Citizenship

नई दिल्ली — गृह मंत्रालय ने आखिरकार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की कथित दोहरी नागरिकता के खिलाफ सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा दायर तीन साल पुरानी शिकायत पर कार्रवाई की है।

एमएचए के विदेशी विभाग ने राहुल गांधी को एक पत्र भेजा है जिसमें उनसे जवाब तलब किया गया है। यदि राहुल गांधी को दोषी पाया जाता है तो भारतीय संविधान के अनुच्छेद 9 के तहत उनकी भारतीय नागरिकता रद्द करने का प्रावधान है।

कांग्रेस अध्यक्ष को 14 दिनों के भीतर जवाब देना होगा।

“महोदय, मुझे यह कहने के लिए निर्देशित किया गया है कि इस मंत्रालय को माननीय सांसद डॉ० सुब्रमण्यम स्वामी से एक अभिवेदन मिला है जिसमें यह सामने आया है कि बैक ऑप्स लिमिटेड नामक एक कंपनी यूनाइटेड किंगडम में वर्ष 2003 में 51 साउथगेट स्ट्रीट, विंचेस्टर, हैम्पशायर S023 9EH के पते पर पंजीकृत हुई थी और यह कि आप उक्त कंपनी के निदेशक और सचिव में से एक थे,” गृह मंत्रालय ने स्वामी की शिकायत को स्वीकार करते हुए कहा।

“यह शिकायत में सामने आया है कि 10/10/2005 और 31/10/2006 को दायर कंपनी के वार्षिक रिटर्न में आपकी जन्म तिथि 19/06/1970 दी गई है और (दस्तावेज़ में) आपने अपनी राष्ट्रीयता घोषित की थी ब्रिटिश के रूप में। इसके अलावा उपरोक्त कंपनी के 17/02/2009 के विघटन आवेदन में आपकी राष्ट्रीयता को ब्रिटिश के रूप में उल्लेख किया गया है। डॉ० सुब्रमण्यम स्वामी के पत्र की एक प्रति माननीय सांसद के साथ अनुलग्नक के साथ संलग्न है। गृह मंत्रालय ने राहुल गांधी को भेजे पत्र में कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष से अनुरोध है कि इस संचार की प्राप्ति के एक पखवाड़े के भीतर इस मंत्रालय को इस मामले में तथ्यात्मक स्थिति को सूचित करें।”

आम चुनाव-सम्बंधित प्रमुख ख़बरों के लिए इस पृष्ठ पर पधारें।