गैर इरादतन हत्या मामले में सिद्धू की अपील पर सुनवाई पूरी, फैसला सुरक्षित

निचली अदालत ने सिद्धू को बरी कर दिया था, लेकिन पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने उन्हें 3 साल की सजा दी थी

0
61

नई दिल्ली— गैर इरादतन हत्या मामले में पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की अपील पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी हो गई है। जस्टिस चेलमेश्वर की अध्यक्षता वाली बेंच ने सभी पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया है।

सिद्धू के वकील ने ये दावा किया कि 1988 में गुरनाम की मौत की वजह सिद्धू का घूंसा नहीं, बल्कि दिल का दौरा थी। निचली अदालत ने सिद्धू को बरी कर दिया था, लेकिन पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट ने उन्हें 3 साल की सजा दी थी ।

सिद्धू की तरफ से कहा गया था कि इस मामले में कोई भी गवाह खुद से सामने नहीं आया। जिन भी गवाहों के बयान दर्ज किए गए हैं उनको पुलिस सामने लाई थी। गवाहों के बयान विरोधाभासी हैं। सिद्धू के वकील ने चश्मदीद गवाह की सच्चाई पर सवाल उठाए। गुरनाम के भतीजे ने कहा था कि पुलिस ने उनकी कार को तुरंत कब्ज़े में लिया था। पर जांच अधिकारी इससे मना कर चुके हैं।

सुप्रीम कोर्ट में पंजाब सरकार ने सिद्धू को निर्दोष साबित किए जाने का विरोध किया था और सिद्धू को सजा दिए जाने की मांग की थी।

1988 में रोडरेज के झगड़े में सिद्धू ने गुरनाम सिंह नामक व्यक्ति को सिर पर घूंसा मारा था जिसके बाद उनकी मौत हो गई थी।

हिन्दुस्थान समाचार