33.9 C
New Delhi
Tuesday 2 June 2020

चक्रवाती तूफ़ान फ़ानी का सामना करने को सरकारी तंत्र तैयार

प्रधानमंत्री फ़ानी की गतिविधियों की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं और आईएमडी द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार निर्देश जारी कर चुके हैं

in

on

नई दिल्ली — भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि चक्रवात फ़ानी सोमवार शाम को गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल गया और यह उड़ीसा तट की ओर बढ़ रहा है।

अधिकारियों ने कहा कि यह बुधवार तक अत्यंत गंभीर चक्रवात का रूप ले सकता है। इसके बाद सरकार को राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल और भारतीय तटरक्षक बल के इंतज़ाम हाई अलर्ट की स्थिति में हैं।

अपने 9 बजे के बुलेटिन में आईएमडी के चक्रवात चेतावनी विभाग ने कहा कि यह तूफान वर्तमान में श्रीलंका में त्रिंकोमली के पूर्व-उत्तर पूर्व में 620 किमी, चेन्नई के 770 किमी-पूर्व-दक्षिणपूर्व और मछलीपट्टनम से 900 किमी दक्षिण-दक्षिणपूर्व में है।

बंगाल के दक्षिण-पूर्वी खाड़ी पर चक्रवाती तूफ़ान फ़ानी पिछले छह घंटों में लगभग 16 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार से उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा और एक गंभीर चक्रवाती तूफान में बदल गया।

इसकी अगले 24 घंटों के दौरान बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान और बाद के 24 घंटों के दौरान एक अत्यंत गंभीर चक्रवाती तूफान में तीव्र गति से परिवर्तित होने की संभावना है। बुलेटिन में कहा गया है कि 1 मई की शाम तक तूफ़ान की उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की बहुत संभावना है और इसके बाद उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर फिर से आंधी चलेगी।

आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए देश की शीर्ष संस्था नेशनल क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी (NCMC) ने सोमवार को चक्रवात फ़ानी से उत्पन्न स्थिति का जायज़ा लिया और राज्य सरकारों को तूफान का सामना करने के लिए केंद्र सरकार से हर प्रकार की सहायता का आश्वासन दिया।

गृह मंत्रालय ने कहा कि एनडीआरएफ और भारतीय तटरक्षक बल को हाई अलर्ट पर रखा गया है और मछुआरों को समुद्र में फ़िलहाल न जाने की सलाह डी गई है क्योंकि चक्रवात फ़ानी से “बहुत भयंकर तूफ़ान” की आशंका है।

चक्रवाती तूफ़ान की हवा की गति 80-90 किलोमीटर प्रति घंटा होती है और 100 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से हवा चलती है। “अत्यंत भयंकर चक्रवाती तूफ़ान” में हवा की गति 170-180 किमी प्रति घंटे तक जाती है और 195 किमी प्रति घंटे की गति प्राप्त कर सकती है।

गुरुवार को उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश और दक्षिणी तटीय उड़ीसा में कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा होने की संभावना है।

तटीय उड़ीसा और उत्तरी तटीय आंध्र प्रदेश के निकटवर्ती ज़िलों में गुरुवार से अलग-अलग स्थानों पर “भारी से बहुत भारी वर्षा” के साथ वर्षा की संभावना बढ़ सकती है।

कई स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश के आसार हैं। आईएमडी ने कहा कि पश्चिम बंगाल के कुछ तटीय जिलों में शुक्रवार से बारिश की संभावना है।

एनसीएमसी ने यहां कैबिनेट सचिव पी के सिन्हा की अध्यक्षता में बैठक की और हालात का जायज़ा लिया। मुख्य सचिव व तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल के प्रमुख सचिव वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से बैठक में शामिल हुए। बैठक में केंद्रीय मंत्रालयों और संबंधित एजेंसियों के वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हुए।

एनडीआरएफ और भारतीय तटरक्षक राज्य सरकारों के साथ समन्वय कर रहे हैं। गृह मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि गृह मंत्रालय ने राज्य सरकारों को राज्य आपदा प्रतिक्रिया कोष (एसडीआरएफ) की पहली क़िस्त जारी करने का आश्वासन दिया है।

बैठक के दौरान सभी राज्य सरकारों के अधिकारियों ने चक्रवाती तूफ़ान से उत्पन्न किसी भी उभरती स्थिति से निपटने के लिए अपनी पूरी तैयारी की पुष्टि की।

इसके अलावा राज्य सरकार ने इस बात पर प्रकाश डाला कि प्रजनन के मौसम के कारण 14 जून तक समुद्र में मछली पकड़ने पर प्रतिबंध है। राज्य सरकारों को इस प्रतिबंध को प्रभावी ढंग से लागू करने की सलाह दी गई थी।

IMD के अनुसार, तमिलनाडु और आंध्र प्रदेश के ऊपर चक्रवात के भूस्खलन की सम्भावना कम है हालांकि ओडिशा में भूस्खलन की संभावना पर निरंतर निगरानी रखी जा रही है।

मछुआरों को समुद्र में न जाने और समुद्र में जा चुके लोगों को तट पर लौटने के लिए 25 अप्रैल से नियमित चेतावनी जारी की गई है।

आईएमडी संबंधित राज्यों को नवीनतम पूर्वानुमान के साथ तीन घंटे के बुलेटिन जारी कर रहा है। बयान में कहा गया है कि गृह मंत्रालय भी राज्य सरकारों और संबंधित केंद्रीय एजेंसियों के लगातार संपर्क में है।

एनसीएमसी की बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा निर्देश जारी करने के बाद हुई। प्रधानमंत्री स्थिति की बारीकी से निगरानी कर रहे हैं। हालात का जायज़ा लेने के लिए एनसीएमसी आज मंगलवार फिर बैठक करेगी।

1,209,635FansLike
180,029FollowersFollow
513,209SubscribersSubscribe

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

For fearless journalism

%d bloggers like this: