नई दिल्ली—अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आईएमएफ) ने भारत में जन्मीं अर्थशास्त्री गीता गोपीनाथ को मुख्य अर्थशास्त्री नियुक्त किया है। आईएमएफ ने एक बयान के अनुसार गोपीनाथ मारीस ओब्स्टफील्ड का स्थान लेंगी। ओब्स्टफील्ड 2018 के अंत में सेवानिवृत्त होंगे।

आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टीन लेगार्ड ने कहा, ‘‘गोपीनाथ दुनिया की बेहतरीन अर्थशास्त्रियों में से एक है…उनके पास उम्दा शैक्षणिक योग्यता के साथ व्यापक अंतरराष्ट्रीय अनुभव भी है।’’

गोपीनाथ ने दिल्ली विश्वविद्यालय से बीए और दिल्ली स्कूल आफ एकोनामिक्स तथा यूनिवर्सिटी आफ वाशिंगटन से एमए की डिग्री हासिल की। उसके बाद उन्होंने अर्थशास्त्र में पीएचडी की डिग्री प्रिंसटन विश्विद्यालय से 2001 में प्राप्त की।

गीता गोपीनाथ (जन्म ८ दिसंबर, १९७१) हार्वर्ड विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र विभाग में प्राध्यापक और केरल के मुख्यमंत्री के वित्तीय सलाहकार हैं। उन्होंने सभी मुद्राओं के मूल्य निर्धारण और यूरोप में संप्रभु ऋण चूक पर काम किया है।

गीता के पिता टी.वी. गोपीनाथ केरल के कन्नूर जिले के किसान और उद्यमी हैं। उन्होंने स्नातक की डिग्री लेडी श्रीराम कॉलेज, दिल्ली विश्वविद्यालय (१९९२) से प्राप्त की और फिर उन्होंने वाशिंगटन विश्वविद्यालय (१९९६) से एम.ए. की। २००१, उन्होंने प्रिंसटन विश्वविद्यालय से पीएचडी पूरी की।

फ़िलहाल वह हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्राध्यापक हैं। वह फेडरल रिजर्व बैंक ऑफ न्यू यॉर्क के सलाहकार भी हैं। केरल की वामपंथी सरकार द्वारा २१ जुलाई २०१६ को उन्हें केरल के मुख्यमंत्री का वित्तीय सलाहकार नियुक्त किया गया था।