Monday 18 January 2021
- Advertisement -

ऑस्ट्रेलिया की कोयला खान में अरबों डॉलर का निवेश करेगा अडानी समूह

- Advertisement -
Economy ऑस्ट्रेलिया की कोयला खान में अरबों डॉलर का निवेश करेगा अडानी समूह

नई दिल्ली/मुंबई — अडानी समूह ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड राज्य में स्थित कारमाइकेल कोयला खान परियोजना में निवेश करेगा। मंगलवार को अडानी समूह के प्रमुख गौतम अडानी ने इस निवेश को मंजूरी दे दी। इसके साथ ही अडानी समूह ऑस्ट्रेलिया में किसी भारतीय कंपनी द्वारा सबसे बड़ा निवेश होगा।

कंपनी सूत्रों के मुताबिक 21.7 अरब डॉलर की इस कोयला खान परियोजना को लेकर पर्यावरण पर काम करनेवाले स्वयंसेवी संगठन लंबे समय से विरोध कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि इन संगठनों का आरोप है कि अडानी की इस परियोजना से ग्रेट बैरियर रीफ और उसके पारिस्थितिकी तंत्र को नुकसान पहुंचेगा। मंगलवार को क्वींसलैंड की अदालत ने इस परियोजना को लेकर चल रहे केस में अडानी समूह के पक्ष में अपना फैसला सुनाया। इस फैसले के बाद अडानी समूह के प्रमुख गौतम अडानी से कहा कि इस परियोजना को लेकर हमारे विरोध में खड़े स्वयंसेवी संगठनों ने हर जगह हमारा विरोध किया, वो बैंकों के बाहर, हमारे कार्यालयों के बाहर, सड़कों पर, हर जगह हमारा विरोध करते रहे। लेकिन हम इस परियोजना को लेकर प्रतिबध्द हैं। वहीं क्वींसलैंड प्रीमियर ने इस पर प्रसन्नता जताते हुए कहा कि इस परियोजना से सीधे तौर पर 10 हजार रोजगार अवसर पैदा होंगें। जिससे इस क्षेत्र के विकास में मदद मिलेगी।

कारमाइकेल कोयला खान ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड राज्य के गैलिली बेसिन में स्थित है। इस परियोजना में कोयला खान, रेल लाइन्स और एक बंदरगाह का निर्माण प्रस्तावित है। आरोप है कि इस परियोजना में खान से निकली लाखों टन मिट्टी ग्रेट बैरियर रीफ के पारिस्थिकी तंत्र को प्रदुषित करेगी। साथ ही इस परियोजना के लिए बंदरगाह विकसित करने से रीफ को नुकसान होगा।

बताते चले कि अडानी समूह ने 2010 ऑस्ट्रेलिया के इस प्रोजेक्ट पर काम शुरु किया था, लेकिन स्वयंसेवी संगठनों के विरोध के चलते इस प्रोजेक्ट में लगातार देरी होती गई। अब अदालत के फैसले के बाद सितंबर, 2017 से इस परियोजना पर काम शुरु होने की संभावना है। बताया जा रहा है कि इस कोयला खान परियोजना से मिलने वाले कोयले को भारत भी भेजा जाएगा।

- Advertisement -

Views

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: