31 C
New Delhi
Sunday 5 July 2020

विनिवेश का लक्ष्य पूरा करने में विफल केंद्र—कांग्रेस

नियमों के हिसाब से एक कंपनी में एलआईसी 15% से अधिक पैसा निवेश नहीं कर सकती जिसे अब 50% तक कर दिया गया है

नई दिल्ली— कांग्रेस ने केंद्र पर निशाना हुए विनिवेश का लक्ष्य पूरा करने में विफल करार देते हुए भारतीय जीवन बीमा निगम के 38 करोड़ पॉलिसीधारकों का पैसे बैंक (आईडीबीआई) में लगाने को सबसे बड़ा स्कैम बताया है।

कांग्रेस प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने शनिवार को संवाददाता सम्मेलन आयोजित कर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधते हुए कहा कला धन वापस लाने का दावा करने वाली मोदी सरकार ने नोटबंदी के माध्यम से काले धन को सफेद किया। उन्होंने कहा,’ वित्तमंत्री किसको बचाने का प्रयास कर रहे हैं।

स्विस बैंक में भारतीयों के खातों में पैसों में 50 प्रतिशत की वृद्धि की खबरों के बाद हम ये फिर से पूछना चाहते हैं कि देश असली वित्त मंत्री कौन है? सरकार काला धन छुपाने वाले इन जमाखोरों को आम लोगों की कीमत पर क्यों बचा रही है? क्या प्रधानमंत्री और वित्त मंत्री इस बात का जवाब देंगे कि वो अपने सूट-बूट वाले विदेशी बैंक खाताधारक दोस्तों को क्यों बचा रहे हैं? ‘ वहीं प्रो. गौरव वल्लभ ने कहा कि का लक्ष्य पूरी तरह से विफल हो चुका है।

अब वित्तीय चालबाजी से अपनी नाकामी को ढंकने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने केंद्र पर आरोप लगाते हुए विनिवेश का लक्ष्य पूरी तरह से विफल हो चुका है। अब वित्तीय चालबाजी से अपनी नाकामी को ढंकने की कोशिश की जा रही है। उन्होंने कहा कि 38 करोड़ देशवासियों के एलआईसी के पैसे का इस्तेमाल कर, उन्हें रिस्क पर लाकर खड़ा कर दिया है।

अब एलआईसी को आईडीबीआई बैंक में पैसे लगाने को बोला जा रहा है। नियमों के हिसाब से एक कंपनी में एलआईसी 15% से अधिक पैसा निवेश नहीं कर सकती जिसे अब 50% तक कर दिया गया है। आईडीबीआई बैंक के आर्थिक हालात बेहद खराब हैं।

उन्होंने कहा कि देश मे 16 और बैंकों आर्थिक हालत खराब है क्या वहां भी एलआईसी को आम जनता के धन निवेश करने को बोला जाएगा। केंद्र ने नोटबंदी में जिस तरह से आरबीआई के नियमों को दरकिनार किया था अब सेबी और ऐडा के नियमों की भी धज्जियां उड़ा रही है।

Follow Sirf News on social media:

For fearless journalism

%d bloggers like this: