Tuesday 25 January 2022
- Advertisement -

अब टैक्स अदा करने के लिए कंप्यूटर से करें सीधी बात — ‘फ़ेसलेस ई-ऐसेसमेंट’ योजना शुरू

मौजूदा व्यवस्था में करदाता और विभाग के बीच व्यक्तिगत बातचीत होती है जहां टैक्स अधिकारियों की ओर से कुछ अवांछनीय प्रश्न अक्सर पूछे जाते हैं

कराधान सुधार की दिशा में एक बड़ी पहल के रूप में आयकर (इनकम टैक्स) विभाग ने सोमवार को एक आँकलन अधिकारी और एक करदाता के बीच इंटरफेस को खत्म करने के लिए एक नई ई-मूल्यांकन योजना शुरू की। इसकी शुरुआत के लिए राजस्व सचिव अजय भूषण पांडे द्वारा आधिकारिक रूप से लॉन्च किए गए राष्ट्रीय ई-आँकलन केंद्र (NeAC) के तहत 58,322 आयकर मामलों का चयन किया गया है।

यह योजना वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा शुरू की जानी थी, लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के साथ बैठकों सहित उनकी अन्य आधिकारिक व्यस्तताओं के कारण योजना औपचारिक रूप से पहले शुरू नहीं हो सकी।

करदाता की सहजता और सुविधा को बेहतर बनाने के उद्देश्य से की गई पहल को रिकॉर्ड समय में हासिल किया गया है। राजस्व विभाग ने कहा कि योजना आयकर आँकलन प्रणाली में मानव इंटरफ़ेस को समाप्त करके कराधान में “प्रतिमान बदलाव” लाएगी। “इससे करदाता की आसानी और सुविधा में सुधार होगा,” उन्होंने कहा।

NeAC ने देश भर में ई-मूल्यांकन योजना की सुविधा प्रदान की जिससे करदाताओं को लाभ हुआ। करदाताओं के लिए अनुपालन में आसानी, टैक्स प्रणाली में पारदर्शिता और दक्षता, कार्यात्मक विशेषज्ञता, मूल्यांकन की गुणवत्ता में सुधार, जोखिम-आधारित और फोकस्ड दृष्टिकोण, बेहतर निगरानी और मामलों का त्वरित निपटान योजना की प्रमुख विशेषताएं हैं।

योजना के कार्यान्वयन के लिए I-T विभाग के कुल 2,686 अधिकारियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। पहले चरण में टैक्स विभाग ने फ़ेसलेस ई-आँकलन योजना 2019 के तहत जांच के लिए 58,322 मामलों का चयन किया है और मूल्यांकन वर्ष 2018-19 के मामलों के लिए 30 सितंबर से पहले ई-नोटिस दिए गए हैं।

पांडे ने कहा कि नेक की शुरूआत के साथ, आयकर विभाग मूल्यांकन प्रक्रिया में अधिक दक्षता, पारदर्शिता और जवाबदेही प्रदान करने के लिए फेसलेस ई-मूल्यांकन की शुरुआत करके अपने काम में प्रतिमान बदलाव करेगा।

करदाताओं को अपने पंजीकृत ई-फाइलिंग खातों और ई-मेल की जांच करने की सलाह दी गई है और 15 दिनों के भीतर जवाब देने का अनुरोध किया गया है।

टैक्स विभाग को उम्मीद है कि करदाताओं के लिए अनुपालन में आसानी के साथ, मामलों को तेजी से निपटाया जाएगा।

बाद में पत्रकारों से बात करते हुए, पांडे ने कहा, “जिस किसी का भी मामला जांच के लिए चुना जाएगा, वह सभी दस्तावेजों को ऑनलाइन दर्ज कर सकेगा। अब जो अधिकारी मामले का आँकलन करने जा रहा है, उसे भी random यानि अनियमित तरीक़े से चुना जाएगा।” उन्होंने बताया कि संवीक्षा के लिए चुने गए मामलों की संख्या कुछ मानदंडों पर आधारित है जिनमें ऐसे मामले भी शामिल हैं जिनमें गंभीर विसंगतियां हैं।

जब पूछा गया कि क्या सरकार व्यक्तिगत आयकर में छूट प्रदान करेगी तो राजस्व सचिव ने कहा, “मुझे यह पता नहीं है।”

अपने जुलाई के बजट भाषण में सीतारमण ने फेसलेस मूल्यांकन योजना की घोषणा की थी।

आयकर विभाग में जांच की मौजूदा व्यवस्था में करदाता और विभाग के बीच उच्च स्तर की व्यक्तिगत बातचीत शामिल होती है जहां टैक्स अधिकारियों की ओर से कुछ अवांछनीय प्रश्न पूछे जाते हैं। इसे खत्म करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक मोड में ‘फ़ेसलेस’ मूल्यांकन की योजना चरणबद्ध तरीके से शुरू की जाएगी जिसमें कोई मानव इंटरफ़ेस शामिल नहीं होगा।

प्रधानमंत्री के मार्गदर्शन में NeAC की स्थापना बेहतर करदाता सेवा के बड़े उद्देश्यों, ‘डिजिटल इंडिया’ के करदाताओं की शिकायतों को कम करने और व्यापार करने में आसानी को बढ़ावा देने के लिए एक “महत्वपूर्ण कदम” है, टैक्स विभाग ने कहा। NeAC एक स्वतंत्र कार्यालय होगा जो ई-मूल्यांकन योजना के काम को देखेगा जो हाल ही में आयकरदाताओं के लिए फ़ेसलेस ई-मूल्यांकन के लिए अधिसूचित किया गया है।

आयकर के मुख्य आयुक्त के नेतृत्व में दिल्ली में एक NeAC होगा। दिल्ली, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, अहमदाबाद, पुणे, बेंगलुरु और हैदराबाद में आठ क्षेत्रीय ई-आँकलन केंद्र (आरएसी) हैं जिनमें मूल्यांकन इकाई, समीक्षा इकाई, तकनीकी इकाई और सत्यापन इकाइयां शामिल होंगी। प्रत्येक आरएसी मुख्य आयटैक्स आयुक्त की अध्यक्षता में होगा।

ई-मूल्यांकन योजना 2019 को 12 सितंबर को अधिसूचित किया गया था।

Get in Touch

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
spot_img

Related Articles

Editorial

Get in Touch

7,493FansLike
2,450FollowersFollow
0SubscribersSubscribe

Columns

0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x
[prisna-google-website-translator]
%d bloggers like this: