फिल्म बाहुबली से प्रेरित होगी इस बार की ‘लवकुश रामलीला’

0
नई दिल्ली – दिल्ली के लाल किले पर होने वाली देशभर में मशहूर रामलीला ‘लव कुश रामलीला’ 21 सितम्बर से शुरू होकर 1 अक्टूबर तक चलेगी। 11 दिन के आयोजन में रामलीला के अलग-अलग किरदारों को अलग-अलग कलाकार निभाएंगे। रामलीला कमेटी के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने बताया कि लीला के मंचन इस बार कई मायनों में यादगार साबित होगी।
राजधानी में रामलीला का इतिहास बहुत पुराना है। अशोक अग्रवाल बताते हैं कि रामलीला बहुत पहले से होती आयी है। लेकिन मुगल शासक औरंगजेब ने 17वीं सदी में रामलीला पर प्रतिबंध लगा दिया था। हालांकि बाद में उसके उत्तराधिकारियों को कर्ज देकर फिर से इसकी शुरुआत लाला सीताराम ने करवाई थी। अशोक बताते हैं कि लाला सीताराम ने कर्ज के लिए शर्त रखी कि अगर वह कर्ज देगा तो वह अपनी हवेली में रामलीला का आयोजन करेगा। अशोक बताते हैं कि दिल्ली की बड़ी रामलीलाओं में शामिल लव-कुश रामलीला का इतिहास चालीस वर्ष पुराना है। यह पहले पुरानी दिल्ली स्टेशन के समीप हुआ करती थी। 1989 में यह लाल किला मैदान में शुरू हुई। इन रामलीलाओं को जगह दिलाने में कांग्रेस के पूर्व सांसद जयप्रकाश अग्रवाल के पिता का अहम योगदान माना जाता है।
अशोक पुरानी बातों के आधार पर बताते हैं कि भारत के प्रथम राष्ट्रपति राजेंद्र प्रसाद, प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू श्री धार्मिक लीला कमेटी की लीला को देखने पहुंचे थे। आज भी राजनीतिक हस्ती विजयादशमी के दिन रामलीला देखने पहुंचते हैं। अशोक कहते हैं कि हमने इस साल भी राम लीला के आयोजन में कोई कमी नहीं छोड़ी है। हम इस बार इस रामलीला के सेट से लेकर उसके डायलॉग तक हर स्तर पर हमने काफी मेहनत की है। हम आपको विश्वास दिलाते हैं कि हमारे द्वारा इस बार की मंचन प्रस्तुति कहीं भी टीवी से कम नहीं होने वाला है। हर बार की तरह बॉलीवुड से लेकर सभी बड़े-बड़े राजनीतिक दलों के लोग इस बार की रामलीला में मुख्य किरदार निभा रहे हैं। रामलीला समिति के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल ने बताया कि इस साल रामलीला का आयोजन पिछले कुछ सालों की तुलना में काफी बड़ा होगा। जहां राजनेता विजय सांपला रामलीला का अहम हिस्सा होंगे और निशाद राज का किरदार निभाएंगे। वहीं दिल्ली बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष और भाजपा सांसद मनोज तिवारी इस बार अंगद के रोल में नजर आएंगे।
लव-कुश रामलीला समिति के अध्यक्ष अशोक अग्रवाल का कहना है कि इस बार की रामलीला ज्यादा वैभव और आश्चर्यजनक दृश्यों से भरी होगी। हमारी कोशिश है कि त्रेता युग का माहौल दिखाया जाए। हमने उसी को ध्यान में रखकर पूरी तैयारी की है। दिल्ली से 600 और मुम्बई से 60 कलाकार अबकी बार रामलीला में मौजूद होंगे। जिनकी ड्रेस मुम्बई से तैयार करवाई जाएगी। वहीं जब अहिल्या उद्धार होगा, तो पत्थर ही रेशमी कॉस्ट्यूम में बदल जाएगा और वाटिका के फूल अपने आप खिल उठेंगे। अग्रवाल का कहना है कि हम तकनीक के मामले में पीछे हटने वाले नहीं हैं। रामलीला में बॉलीवुड फिल्म बाहुबली के सेट से भी कुछ चीजें सीखकर अपने सेट पर पेश की जाएगी । फिल्म बाहुबली जैसे भव्य दृश्यों के उपयोग से रामलीला के सेट को अंतरराष्ट्रीय मंच पर और सम्मानजन स्थान दिलवाने का पूरा प्रयास किया गया है ।
रामलीला के आयोजन को लेकर काफी रोमांचित लगे मनोज तिवारी कहते हैं कि रामलीला तभी सफल मानी जायेगी जब घर-घर में लोगों के मन मे राम के प्रेरणा वाक्य बैठ जाएंगे । तिवारी ने कहा हर साल रामलीला होती और हर साल लगभग कुछ वैसी ही रामलीला प्रस्तुत की जाती है लेकिन लोगों की रुचि रामलीला से खत्म नहीं हो रही है। जिसका कारण है कि हमारी संस्कृति, हमारी सभ्यता इतनी पुरानी है कि इसको कोई चाह कर भी मिटा नहीं सकता। खुद के रोल के बारे में बताते हुए मनोज तिवारी ने कहा कि मैं रामलीला को लेकर काफी उत्साहित हूं। खुद के रोल को लेकर बताते हैं कि मैं अपने गांव में भी रामलीला का चरित्र निभाता रहा हूं| ये मुझे पुराने दिनों में लेकर चला जाता है। तिवारी कहते हैं कि इस बार की रामलीला में मैं अंगद का रोल निभा रहा हूं। जो मुझे ये बताता है कि अपने इरादे को मैं कैसे दृढ़ रखा जा सकता है। 
बॉलीवुड फिल्मों और धारावाहिकों में अभिनय के जरिए अपनी पहचान बनाने वाले अभिनेता अमन वर्मा पहली बार इस रामलीला का हिस्सा होंगे। उन्होंने कहा कि रामलीला में किरदार निभाने को काफी उत्साहित हैं। इस बार के मंचन में वर्मा भगवान राम के भाई भरत की भूमिका में देखे जाएंगे। उनका कहना है कि मेरे लिये यह पहला मौका है जब इतने बड़े मंच पर, हजारों लोगों के सामने मुझे प्रदर्शन करने का मौका मिलेगा, जिसे लेकर मैं काफी उत्साहित हूं।
रामलीला के मुख्य किरदार के रूप में असरानी अहिरावण, अमन वर्मा भरत, प्रेरणा द्विवेदी मंदोदरी, शोभा विजेंद्र अहिल्या, जितेंद्र ‘साबू’ विभीषण और अनुपम श्याम ओझा गुरु वशिष्ठ का किरदार निभाएंगे। गायक अनूप जलोटा केवट, शंकर साहनी, मनोज तिवारी अंगद और अभिनेता रजा मुराद, सुरेंद्र पाल, मुकेश ऋषि, जगदीश कालीरमन,रविकिशन के अलावा अभिनेत्री शीबा, अमिता नांगिया, मानिनी मिश्रा पहले ही रामलीला में प्रमुख पात्रों के रूप में जुड़ चुके हैं। 
Previous articleCPM invites Pakistan’s communist party for conference
Next article1857 के योद्धा की समाधि को लोगों ने मान लिया मज़ार

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.