Thursday 9 December 2021
- Advertisement -
HomeEntertainmentरावण की बहन शूर्पणखा का श्राप बना उसकी मृत्यु का कारण

रावण की बहन शूर्पणखा का श्राप बना उसकी मृत्यु का कारण

रावण हर राज्य को जीतकर अपने राज्य में मिलाना चाहता था, इस कारण रावण ने कालकेय के राज्य पर चढ़ाई कर दी थी

दूरदर्शन पर रामायण का प्रसारण अपने अंतिम शरण पर है, ऐसे में 80-90 दशक के इन टीवी सीरियल्स की बदौलत दूरदर्शन ने टीआरपी का एक नया रिकॉर्ड बनाया। रामायण में राम-रावण के युद्ध का एपिसोड प्रसारित किया गया था, जिसमें श्रीराम ने रावण का अंत कर दिया। वाल्मिकी रचित रामायण की बात करें, तो इसमें सीता हरण के अलावा रावण की मृत्यु के कई कारणों का उल्लेख किया गया है। इसमें से एक कारण है रावण की बहन शूर्पणखा का श्राप, जिसकी वजह से रावण ने सीता का हरण किया था। रावणवध के बाद अब उत्तर रामायण का प्रसारण हो रहा हैं।

शूर्पणखा राजा कालकेय के सेनापति से करती थी प्रेम
कहा जाता है कि विद्युतजिव्ह राजा कालकेय का सेनापति था। रावण हर राज्य को जीतकर अपने राज्य में मिलाना चाहता था, इस कारण लंकेश ने कालकेय के राज्य पर चढ़ाई कर दी थी। कालकेय का वध करने के बाद लंकेश ने विद्युतजिव्ह का भी वध कर दिया। कहा जाता है कि लंकेश यह बात नहीं जानता था कि उसकी बहन कालकेय सेनापति विद्युतजिव्ह से प्रेम करती है, इस वजह से लंकेश ने उसका भी वध कर दिया। जबकि कई पौराणिक कहानियों में माना जाता है कि लंकेश जानता था कि उसकी बहन को विद्युतजिव्ह से प्रेम है, इस कारण उसने उस योद्धा की हत्या कर दी।

शूर्पणखा को जब अपने भाई के इस कृत्य के बारे में पता चला तो वो क्रोध और दुख के मारे विलाप करने लगी और उसने दुखी मन से रावण को श्राप दिया कि मेरे कारण ही तुम्हारा सर्वनाश होगा और जैसा कि हम सभी जानते हैं कि सीता हरण में शूर्पणखा ने सबसे मुख्य भूमिका निभाई थी। माना जाता है कि शूर्पणखा जानती थी कि राम भगवान विष्णु का रूप है। लंकेश को सीता हरण के लिए उकसाकर रावण की बहन ने अपने श्राप को सिद्ध किया।

89 views

Sirf News needs to recruit journalists in large numbers to increase the volume of its reports and articles to at least 100 a day, which will make us mainstream, which is necessary to challenge the anti-India discourse by established media houses. Besides there are monthly liabilities like the subscription fees of news agencies, the cost of a dedicated server, office maintenance, marketing expenses, etc. Donation is our only source of income. Please serve the cause of the nation by donating generously.

Support pro-India journalism by donating

via UPI to surajit.dasgupta@icici or

via PayTM to 9650444033@paytm

via Phone Pe to 9650444033@ibl

via Google Pay to dasgupta.surajit@okicici

Why Aren't Thousands of Gigabytes of Abusive Images Removed from the Web? https://www.spiegel.de/international/world/sexual-violence-against-children-why-aren-t-thousands-of-gigabytes-of-abusive-images-removed-from-the-web-a-99f36312-8054-479b-8d7c-ff86679daa45

Brazen move to openly legitimize manufactured consent. What is stopping the self-appointed guardians of a new moral code choose journalists who can further the causes the US believes are ‘appropriate’ for other nations? These scribes won’t be ‘independent’ after all, will they? https://twitter.com/cnni/status/1468686900605210628

CNN International@cnni

The US will provide new funding to protect reporters targeted because of their work and support independent international journalism, Secretary of State Antony Blinken said Monday at the opening of the virtual Summit for Democracy.
https://cnn.it/33hmAPb

Ahead of the #SummitforDemocracy, I announced @USAID’s new Combating Transnational Corruption Grand Challenge, which will engage partners & problem-solvers from around the globe, utilizing every tool at our disposal to fight transnational corruption. More: https://www.usaid.gov/news-information/speeches/dec-7-2021-administrator-power-summit-democracy-event-all-hands-on-deck

Some 10y ago I have concluded that hysterical bellicosity of liberals ("permanent war for permanent peace") cannot be explained by ideology but rather by psychology and self-interest.

1 Need to convince others of own virtue by permanently finding the objects of evil and vice which then justify hatred,
2 Lack of responsibility: while wars go on, they can continue w/ dinner parties, vacation, children's exhibitions etc. as before.

Read further:

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Now

Columns

[prisna-google-website-translator]
%d bloggers like this: