नई दिल्ली— कांग्रेस नेता व पूर्व केन्द्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद के सुर इन दिनों बदले हुए हैं। अलीगढ़ विश्वविद्यालय में उन्होंने जो बयान दिया, उससे कांग्रेस बैकफुट पर आ गई है और भाजपा उसके दामन पर पड़े खून के धब्बों को गिनाने में लगी है। हाल फिलहाल के दिनों में यह दूसरा मौका है जब सलमान खुर्शीद ने कांग्रेस के सुर से अलग अपनी राय जताई है। इससे पहले वे सर्वोच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लाने के विरोध में अपनी राय व्यक्त कर चुके हैं।

मंगलवार को अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय में उन्होंने एक सवाल के जवाब में स्वीकार किया कि कांग्रेस के दामन पर मुसलमानों के खून के धब्बे लगे हैं। हांलाकि इस मुद्दे पर कांग्रेस को घिरता देख उन्होंने तुरंत ही सफाई भी दे दी कि यह उनकी निजी राय है।
दरअसल अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के सालाना जलसे में सलमान खुर्शीद बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए थे। उस दौरान एक छात्र ने सलमान खुर्शीद से दंगों और बाबरी मस्जिद पर सवाल किया। उस छात्र ने सवाल पूछा कि कांग्रेस के राज में ही हाशिमपुरा, मलियाना, मुज़फ्फरनगर आदि में मुसलमानों का नरसंहार हुआ। इसके अलावा कांग्रेस की हुकूमत के दौरान ही बाबरी मस्जिद में मूर्तियां रखी गईं, फिर ताला खोला गया और उसके बाद बाबरी मस्जिद की शहादत हुई। इन सारी घटनाओं का हवाला देते हुए उस छात्र ने सलमान खुर्शीद से पूछा कि कांग्रेस के दामन पर मुसलमानों के खून के जो धब्बे हैं, इन धब्बों को आप किन अल्फ़ाज़ों से धोएंगे? हालांकि यह सवाल करने के दौरान आयोजकों ने उस छात्र को रोकने की कोशिश की,लेकिन श्री खुर्शीद ने उसे पूछने की इजाजत दी।

इसके बाद सवाल का जवाब हुए श्री खुर्शीद ने कहा कि हालांकि यह एक राजनीतिक प्रश्न है, लेकिन उठाया गया है तो मैं इसका जवाब दूंगा। सवाल का जवाब हुए श्री खुर्शीद ने कहा कि ‘मुझे यह स्वीकार करने में कोई हर्ज नहीं है कि कांग्रेस के दामन पर खून के धब्बे हैं। इसी वजह से आप हमसे कह रहे हैं। अब आप पर कोई वार करे तो उसे हमें बढ़कर रोकना चाहिए| हम ये धब्बे दिखाएंगे कि तुम समझो कि ये धब्बे अब तुम पर न लगें। तुम वार इन पर करोगे तो धब्बे तुम पर लगेंगे। हमारे इतिहास से आप कुछ सीखें-समझें। आप अपना हश्र ऐसा न करें कि आज से 10 साल बाद कोई एएमयू आए तो आप जैसा सवाल पूछने वाला कोई न मिले।’

सलमान खुर्शीद की इस स्वीकारोक्ति के बाद भाजपा की ओर से मुख़्तार अब्बास नकवी ने कांग्रेस के काल में मुसलमानों के साथ हुए अत्याचारों की फेहरिस्त गिनाते हुए कहा कि मोदी सरकार में मुसलमान न केवल महफूज है बल्कि देश की तरक्की में हमसफर बन रहे हैं। श्री नकवी ने कहा कि भिवंडी से लेकर भागलपुर तक और मेरठ से मलियाना तक कांग्रेस और कांग्रेस के सूरमाओं ने निर्दोष लोगों की हत्याओं को अपनी आंखों से देखा है।

सलमान खुर्शीद के बयान के बाद लोग कांग्रेस की मुस्लिमपरस्त राजनीति और उस दौरान दंगों को इतिहास को खंगालने व सामने लाने लगे हैं। इसके बावजूद सलमान खुर्शीद का कहना है कि उन्होंने जो कहा वह आगे भी कहते रहेंगे।

हिन्दुस्थान समाचार