राष्ट्रपति चुनाव में आम सहमति के लिए भाजपा नेताओं की विपक्ष के नेताओं से भेंट

0
राष्ट्रपति

सोनिया गांधी से मिलने पहुँचे राजनाथ, वेंकैया

नई दिल्ली — राष्ट्रपति चुनाव में उम्मीदवार पर आम सहमति बनाने को लेकर केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू 10 जनपथ पर सोनिया गांधी से मुलाकात करने पहुंचे। इसके बाद दोनों मंत्री दोपहर 3:15 पर सीपीआईएम नेता सीताराम येचुरी से एकेजी भवन में मुलाकात करेंगे।

राष्ट्रपति पद के चुनाव के लिए भारतीय जनता पार्टी अपने उम्मीदवार का ऐलान करने से पहले प्रत्येक दल से आम सहमति बनाने के लिए बात कर रही है। इसके लिए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा बनाई गई कमेटी ने बड़ी पार्टियों से बात करनी शुरू कर भी दी है। वहीं क्षेत्रीय दलों को मनाने की जिम्मेदारी एनडीए के घटक दलों के दूसरे नेताओं को दी गई है।

हालांकि, इसके लिए शाह द्वारा बनाई गई 3-सदस्यीय कमेटी अपना काम तो कर ही रही है पर सूत्रों के मुताबिक इस कमेटी को मदद करने के लिए कई नेताओं को महत्वपूर्ण जिम्मेदारी दी गई है। इसके तहत केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी को महाराष्ट्र के नेताओं में आम सहमति बनाने की जिम्मेदारी दी गई है। 18 जून को भाजपा अध्यक्ष की शिवसेना प्रमुख से मुलाकात से पहले बातचीत का खाका गडकरी ही तैयार करेंगें। गडकरी की कोशिश शिवसेना नेताओं की नाराजगी दूर करने की होगी। वहीं गडकरी को एनसीपी तक भी भाजपा की बात पहुंचाने की जिम्मेदारी दी गयी है। भाजपा को उम्मीद है कि वो जब एनसीपी से किसानों के लिए आने वाले दिनों में कुछ कल्याणकारी योजनाओं की घोषणा का वादा करेगी तो इससे उसके रुख में नरमी अवश्य आएगी।

दूसरी ओर, भाजपा राष्ट्रीय महासचिव मुरलीधर राव को एआईडीएमके के दोनों धड़ों से बात करने की जिम्मेदारी दी गयी है। बिखराव के दौर से गुजर रही अन्ना द्रमुक के दोनों धड़ों के पास सिवाय भाजपा के समर्थन के अलावा कोई चारा नहीं है क्योंकि डीएमके पहले ही साफ कर चुका है कि विपक्ष के धड़े में वो है।

पीएम के निर्णय के साथ है टीडीपी — चंद्रबाबू नायडू

एनडीए के सहयोगी चंद्रबाबू नायडू को टीएमसी और बीजेडी से बात करने की जिम्मेदारी दी गयी है। नायडू एनडीए संयोजक भी रहे हैं और मौजूदा दौर में एक आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री लिहाजा उनकी बात इन दोनों दूसरे मुख्यमंत्री तक प्रभावी ढंग से पहुंचेगी। केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली बिहार मुख्यमंत्री और जद यू प्रमुख नितीश कुमार से बात करेंगे।

इसी सिलसिले में वेंकैया नायडू ने गुरुवार शाम एनसीपी प्रमुख शरद पवार और आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री व टीडीपी प्रमुख एन चंद्रबाबू नायडू से बातचीत की।

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर वेंकैया नायडू से बातचीत के बात चंद्रबाबू नायडू ने कहा, ‘पीएम के निर्णय के साथ है टीडीपी।’

दूसरी ओर कांग्रेस पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि राष्ट्रपति चुनाव में आम राय पर सहमति बनाने के लिए केंद्र सरकार को प्रयास करना चाहिए| पार्टी का मानना है कि ऐसा उम्मीदवार बनाया जाए जिस पर किसी दल को एतराज नहीं हो।

राज्यसभा में विपक्ष के उपनेता और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने गुरुवार को कहा शीर्ष पद पर बैठने वाले व्यक्ति को लेकर सबकी सहमति का होना ज्यादा बेहतर है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि सरकार जिस तरह के संकेत दे रही है उससे लगता नहीं है कि वह राष्ट्रहित में सोच रही है।

शुक्रवार सुबह होने वाली इस बैठक के बाद आमराय बनने के उम्मीद लगाई जा रही। इसके साथ ही सब की नजर इस बात पर होगी कि इन अहम बैठकों में सरकार की ओर से किसी उम्मीदवार का नाम सुझाया जाता है या नहीं।

सरकार की ओर से कुछ विपक्षी दलों से संपर्क साधा जा चुका है लेकिन अभी तक उम्मीदवार के रुप में कोई नाम सामने नहीं आया है। प्रमुख विपक्षी दल राष्ट्रपति चुनाव को लेकर एकजुट हो चुके हैं तथा स्पष्ट कर चुके हैं कि सरकार की ओर से कोई नाम सामने आने पर वे अपनी रणनीति को अंतिम रूप देंगे।

कांग्रेस का हाथ भाजपा के साथ नहीं

वेंकैया नायडू ने गुरुवार को एनसीपी प्रमुख शरद पवार से भी बातचीत की।

दूसरी ओर कांग्रेस पहले ही स्पष्ट कर चुकी है कि राष्ट्रपति चुनाव में आम राय पर सहमति बनाने के लिए केंद्र सरकार को पहल करनी चाहिए। पार्टी का मानना है कि ऐसा उम्मीदवार बनाया जाए जिसके नाम पर किसी दल को एह्तिराज़ नहीं हो।

राज्यसभा में विपक्ष के उपनेता और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने गुरुवार को कहा शीर्ष पद पर बैठने वाले व्यक्ति को लेकर सबकी सहमति का होना ज्यादा बेहतर है। हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि सरकार जिस तरह के संकेत दे रही है उससे लगता नहीं है कि वह राष्ट्रहित में सोच रही है।

दरअसल भाजपा की समिति कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से शुक्रवार को मुलाकात करेगी। इस बैठक के बाद आमराय बनने की उम्मीद लगाई जा रही। इसके साथ ही सब की नजर इस बात पर होगी कि इन अहम बैठकों में सरकार की ओर से किसी उम्मीदवार का नाम सुझाया जाता है या नहीं।

फिलहाल शरद पवार और चंद्रबाबू नायडू से बातचीत के बाद अब गृहमंत्री राजनाथ सिंह और केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू इस मामले पर मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी और सोनिया गांधी से शुक्रवार को मुलाकात कर सकते हैं।

सरकार की ओर से कुछ विपक्षी दलों से संपर्क साधा जा चुका है लेकिन अभी तक उम्मीदवार के रुप में कोई नाम सामने नहीं आया है। उदा प्रमुख विपक्षी दल राष्ट्रपति चुनाव को लेकर एकजुट हो चुके हैं| वे स्पष्ट कर चुके हैं कि सरकार की ओर से कोई नाम सामने आने पर वे अपनी रणनीति को अंतिम रुप देंगे।

Previous articleविजय माल्या के प्रत्यार्पण मुआमले में देर नहीं की गई — सीबीआई
Next articleएअर इंडिया को निजी हाथों में सौंपने के प्रस्ताव पर स्वामी ने उठाये सवाल