मुंबई ― पुलवामा हमले के बाद भारत आगामी आईसीसी विश्व कप में पाकिस्तान से खेलेगा या नहीं, इस पर अटकलें जारी हैं। नृशंस हमले के बाद दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों ने इसे और खराब कर दिया है।

पिछले गुरुवार को 40 से अधिक भारतीय अर्धसैनिक बल के जवान शहीद हो गए थे जब पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले में आतंकियों ने विस्फोटक से लदी एसयूवी से हमला किया था। पाकिस्तान स्थित आतंकवादी गिरोह जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली थी।

इसके बाद से नरेंद्र मोदी सरकार ने हर संभावित क्षेत्र से पाकिस्तान का बहिष्कार करने के लिए एक अंतरराष्ट्रीय अभियान चला रही है जिससे अब क्रिकेट भी अछूता नहीं रहेगा।

भारत में अधिकांश लोग अब चाहते हैं कि हमारी टीम आने वाले विश्व कप में पाकिस्तान का बहिष्कार करे। इस भावना को क्रिकेट के कुछ बड़े नामों जैसे हरभजन सिंह, आईपीएल के चेयरमैन राजीव शुक्ला और अन्य लोगों ने समर्थन दिया है।

कहानी ने अब एक नया मोड़ ले लिया है।

अभी-अभी मिली मीडिया रिपोर्टों से पता चलता है कि भारत अब पाकिस्तान-विश्व कप पर नजर गड़ाए हुए है। क्रिकेट प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष विनोद राय ने बीसीसीआई के सीईओ राहुल जौहरी को आईसीसी को पत्र लिखकर आतंकवादियों को शरण देने के लिए विश्व कप से पाकिस्तान पर प्रतिबंध लगाने का अनुरोध किया है।

यदि पाकिस्तान प्रतिबंधित नहीं होता तो भारत खुद को वर्ल्ड कप से वापस लेने पर विचार कर सकता है।

हाल ही में हुए आतंकी हमले के बाद राय ने जोहरी को भारत में मौजूदा मनोदशा से अवगत कराने के लिए भी कहा था। अगले हफ्ते दुबई में होने वाली आईसीसी की त्रैमासिक बैठकों के दौरान तस्वीर स्पष्ट होने की संभावना है।

मुद्दे पर आईसीसी का रुख़

जबकि मुआमला अब गंभीर रूप ले रहा है, आईसीसी के सीईओ डेविड रिचर्डसन ने कहा है कि बीसीसीआई या पीसीबी की ओर से अभी तक इस पर कुछ भी नहीं सुना गया। उन्होंने आगे कहा कि आईसीसी अंतिम निर्णय लेने से पहले स्थिति पर अपनी नज़र टिकाए रखेगा।

“हमने अभी तक बोर्डों को नहीं लिखा है,” रिचर्डसन ने ईएसपीएनक्रिकइन्फो को बताया। “हमारी संवेदना उन लोगों के साथ है जो घटना से प्रभावित हुए। और हम बीसीसीआई और पीसीबी सहित हमारे सदस्यों के साथ स्थिति की निगरानी कर रहे हैं। निश्चित रूप से पाकिस्तान-भारत मैच सहित किसी भी विश्व कप के मैच के बारे में फ़िलहाल ऐसा कोई संकेत नहीं है कि यह टाइम टेबल के मुताबिक़ नहीं खेला जाएगा। लेकिन हम स्थिति पर निगरानी बनाए रखेंगे,” उन्होंने आगे कहा।