रांची—प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) का शुभारंभ कर दिया है। उन्होंने रांची से देशवासियों को इस योजना की सौगात दी है।

 

योजना का शुभारंभ करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि समाज की आखिरी पंक्ति में खड़े व्यक्ति को, गरीब से भी गरीब को इलाज मिले, स्वास्थ्य की बेहतर सुविधा मिले, आज इस विजन के साथ बहुत बड़ा कदम उठाया गया है। आयुष्मान भारत के संकल्प के साथ प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना आज से लागू हो रही है।

उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया में सरकारी रुपये से इतनी बड़ी योजना किसी भी देश में नहीं चल रही है। देश के 50 करोड़ से ज्यादा भाई-बहनों को 5 लाख रुपए तक का हेल्थ-एश्योरेंस देने वाली ये दुनिया की सबसे बड़ी योजना है। इस योजना के लाभार्थियों की संख्या पूरे यूरोपियन यूनियन की कुल आबादी के बराबर है।

पीएम मोदी ने कहा आयुष्मान भारत योजना से दो महापुरुषों का नाता जुड़ा है। अप्रैल में जब योजना का पहला चरण शुरु हुआ था तो उस दिन बाबा साहेब अंबेडकर का जन्मदिन था। अब इसी कड़ी में, प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, दीन दयाल उपाध्याय जी के जन्मदिवस से दो दिन पहले शुरु हुई है

इस योजना के तहत प्रत्येक परिवार को सालाना पांच लाख रुपये तक का स्वास्थ्य बीमा मुहैया कराया जाएगा। योजना से दस करोड़ से अधिक परिवार लाभान्वित होंगे।  पीएम मोदी ने रांची में दो मेडिकल कालेजों एवं दस वेलनेस केन्द्रों का भी उद्घाटन व शिलान्यास किया।

लाभार्थियों की मदद के लिए प्रधानमंत्री जन आरोग्य मित्रों की तैनाती होगी। इन्हें कौशल विकास मंत्रालय द्वारा प्रशिक्षण दिया जा रहा है। अब तक 3,519 को प्रशिक्षित किया जा चुका है। इन्हें विभिन्न स्तरों पर प्रशिक्षित किया जा रहा है। पैनल में शामिल हर अस्पताल में एक आरोग्य मित्र की तैनाती होगी। योजना में शामिल लोगों की सूची पहले ही सार्वजनिक की जा चुकी है। लाभार्थी को अपना पहचान पत्र लेकर आना है। नेशनल हेल्थ एजेंसी द्वारा तैयार पोर्टल पर लाभार्थियों का ब्योरा है। अस्पताल जाने पर उसे वेबसाइट में नाम की पुष्टि करानी है और इलाज शुरू हो जाएगा। इसके लिए बाकायदा एक लाभार्थी पहचान प्रणाली तैयार की गई है।

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र सरकार के आयुष्मान भारत बीमा कार्यक्रम की महत्ता और फायदों के बारे में झारखंड के लाभार्थियों को दो पृष्ठ का खास पत्र भेजा है। एक अधिकारी ने बताया कि सरकार देश भर के 10.74 करोड़ लाभार्थियों को इसी तरह के पत्र भेजेगी।

उन्होंने कहा, झारखंड के 57 लाख परिवारों को रविवार की सुबह यह पत्र मिल सकता है। प्रधानमंत्री मोदी द्वारा खास रूप से भेजे गए पत्र में कहा गया है, मुझे उम्मीद है कि आपको खर्च एवं परेशानियों की चिंता किए बिना उचित उपचार प्राप्त होगा।

उन्होंने कहा ‘‘कुछ लोग इसे मोदीकेयर कहते हैं, कुछ इसे गरीबों के लिए चलाई जाने वाली एक योजना कहते हैं। निश्चित रूप से यह गरीबों के लिए लाभकारी योजना है।’’ प्रधानमंत्री ने इस योजना को लागू करने में अहम भूमिका निभाने के लिए विशेषज्ञों के दल को बधाई भी दी।