Tuesday 20 October 2020

पीड़िता से गैंगरेप के बाद हैवानों ने काट दी थी जीभ, 15 दिनों के बाद हार गई ज़िंदगी से जंग

पीड़िता पिछले दो हफ्ते से अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कालेज में भर्ती थी; हालत में सुधार न होने पर उसे दिल्‍ली के सफ़दरजंग अस्पताल में भर्ती कराया गया था

यूपी के हाथरस में गैंगरेप की शिकार लड़की ने सफ़दरजंग हॉस्पिटल में दम तोड़ दिया। 19 वर्षीय लड़की के साथ 14 सितम्‍बर को हाथरस के चंदपा थाना क्षेत्र के एक गांव में दरिंदगी हुई थी। वहशियों की दरिंदगी की शिकार पीड़िता की हड्डी तोड़ दी गई। दरिंदों ने उसकी जीभ भी काट दी थी। पीड़िता पिछले दो सप्ताह अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कालेज में भर्ती थी। वहां हालत में कोई सुधार नहीं होने पर उसे दिल्‍ली के सफ़दरजंग हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था।

इस मामले में चार अभियुक्तों को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया है। शुरुआत में पुलिस की कार्रवाई पर सवाल भी उठे। चौथे आरोपी को पुलिस ने 26 सितंबर को ही गिरफ्तार किया था। 26 सितंबर को कोतवाली इंचार्ज को लाइन हाज़िर भी किया गया। घटना के बाद 19 सितम्‍बर को पीड़िता का बयान लेने कार्यवाहक सीओ सादाबाद महिला आरक्षियों संग अलीगढ़ के जेएन मेडिकल कॉलेज गए तो युवती की हालत कुछ ठीक नहीं थी। पीड़िता इशारों-इशारों में ख़ुद पर हमले और बदतमीज़ी किए जाने की बातें ही बता सकी ― जिस पर हमले के साथ-साथ 20 सितंबर को छेडख़ानी की धारा बढ़ाई गई। सीओ सादाबाद मामले में 21 सितंबर को बयान दर्ज करने पहुंचे तो उस समय भी परिवार ने बता दिया कि उनकी बेटी की हालत ठीक नहीं है। सीओ 22 सितंबर को फिर महिला आरक्षी संग पहुंच कर पीड़िता का बयान दर्ज किया, जिसमें उसने इशारों-इशारों में अपने साथ हुई दरिंदगी को बयां किया। इसके बाद मुक़द्दमे में सामूहिक दुष्कर्म की धाराओं की बढ़ोतरी कर चारों अभियुक्तों को जेल भेजा गया।

पीड़िता की जाति पर हो रही सियासत

कई राजनीतिक दलों के लोगों ने जेएन मेडिकल कॉलेज पहुंचकर पीड़िता से मिलने के साथ जमकर हंगामा किया था। भीम आर्मी संस्थापक चंद्रशेखर रावण ने 27 सितंबर को अलीगढ़ में भर्ती युवती से मिलने आने व बाद में गांव आने की घोषणा की। 27 सितंबर को ही बसपा प्रमुख मायावती ने भी ट्वीट किया। उन्होंने प्रदेश में महिलाओं पर हो रहे अत्याचार की बात कही। इस घटना को शर्मनाक बताया। यूपी सरकार से जांच की मांग की।

इस पर हाथरस पुलिस ने मायावती को जवाब दिया। अब तक कोई कार्रवाई का ब्योरा भी बताया। एससीएसटी एक्ट के तहत मुआवजे के लिए संबंधित विभाग को रिपोर्ट दे दी है। फास्ट ट्रैक कोर्ट में मुकदमा चलाने के लिए कार्यवाही की जाएगी। पुलिस क्षेत्राधिकारी को जल्द से संकलित कर विवेचना पूर्ण करने को कहा गया है। यहां यह भी काबिलेगौर है कि सफ़ाई कर्मचारी आयोग की सदस्य मंजू दिलेर, हाथरस सांसद राजवीर दिलेर भी गांव का दौरा कर चुके हैं। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय लल्लू ने भी एक पूर्व मंत्री की अगुवाई में यहां प्रतिनिधिमंडल भेजा था।

You may be interested in...

All