Wednesday 28 October 2020

सूरत का आदिल सलीम नूरानी यूँ करता था हिन्दुओं की भावनाओं का बिज़नस

अब यह धूर्त अपने रेस्टोरेंट का नाम कसाई थाल हलाल थाल इत्यादि नहीं रखकर अब हिंदुओं के नाम पर रखकर हिंदुओं से पैसा कमा रहे हैं

More Views

This Is Jihad, Not Love, Tanishq

The House of Tata, by showcasing an ad film of Tanishq that misleads impressionable minds into life in hell, has committed the unpardonable

सूरत का आदिल सलीम नूरानी यूँ करता था हिन्दुओं की भावनाओं का बिज़नस

अब यह धूर्त अपने रेस्टोरेंट का नाम कसाई थाल हलाल थाल इत्यादि नहीं रखकर अब हिंदुओं के नाम पर रखकर हिंदुओं से पैसा कमा रहे हैं

हाथरस ― अनजाने में ‘रिवर्स ऑनर किलिंग’

मतलब यह अनजाने में हुई 'ऑनर किलिंग' है जिसको 'गैंग रेप के बाद हत्या' बताकर उसका दोष लड़की के प्रेमी और मदद को दौड़े कुछ अन्य लड़कों पर मढ़ दिया गया
Narad
Naradhttps://www.sirfnews.com
A profile to publish the works of established writers, authors, columnists or people in positions of authority who would like to stay anonymous while expressing their views on Sirf News

सूरत में दो करोड़ के ड्रग्स के साथ जब आदिल सलीम नूरानी नाम का एक मुसलमान युवक पिछले हफ़्ते गिरफ़्तार हुआ, तब गुजरात के लोगों को पता चला कि अहमदाबाद सूरत और बड़ोदरा में जो कंसार थाल के नाम से बहुत प्रसिद्ध गुजराती रेस्टोरेंट है उसका मालिक ये आदिल सलीम नूरानी है और आप यह देख कर चौक जाएंगे कि इसके हर रेस्टोरेंट में प्रवेश करते ही आपको गणेश जी की प्रतिमा नजर आएगी आदिल सलीम नूरानी रेस्टोरेंट के अलावा सूरत के कामरेज रोड कडोदरा एरिया में पेट्रोल पंप भी है।

कंसारा गुजरात में हिंदुओं की एक जाति होती है जो पारंपरिक तरीके से अलग-अलग धातुओं को मिलाकर एक मिश्र धातु जिसे कांसा कहते हैं उस कांसे को हाथों से ही हथौड़े से पीट-पीटकर थाली बनाती है और उस थाली में भोजन करना बहुत अच्छा माना जाता है क्योंकि शास्त्रों में भी कंसार के द्वारा हाथों से बनाई गई मिश्र धातु की थाली में भोजन करना बहुत लाभप्रद बताया गया है।

कंसार एक तरह का पारंपरिक व्यंजन होता है जो पूजा पाठ में हिंदू बनाते हैं।

अब ऐसे धूर्त अपने रेस्टोरेंट का नाम ‘कसाई थाल’, ‘हलाल थाल’ इत्यादि नहीं रखकर अब हिंदुओं के नाम पर रखकर हिंदुओं से पैसा कमा रहे हैं।

आश्चर्य इस बात का कि ये मुसलमान वैसे तो मूर्ति पूजा के ख़िलाफ़ होते हैं लेकिन जब धंधे की बात आती हो या हिंदुओं को धोखा देने की बात आती हो तब यह अल तकिया अपनाकर एक छद्म आवरण पहन लेते हैं ताकि हिंदू इनके रेस्टोरेंट में खाना खाने जाए।

- Advertisement -
- Advertisement -

News

MHA declares 18 more individuals as ‘designated terrorists’ under UAPA

“These individuals are involved in various acts of terrorism from across the border and have been relentless in their nefarious efforts of destabilising the country,” the MHA said
- Advertisement -

More Articles Like This

- Advertisement -
%d bloggers like this: