Wednesday 8 February 2023
- Advertisement -
Economyस्विस बैंकों में भारतीयों के जमा कालाधन में 50 प्रतिशत की वृद्धि

स्विस बैंकों में भारतीयों के जमा कालाधन में 50 प्रतिशत की वृद्धि

वर्ष 2016 में भारतीयों द्वारा जमा काले धन में 25% की गिरावट आई थी और कुल जमा राशि घटकर 4,500 करोड़ रुपये तक पहुंच गई थी

जिनेवा/नई दिल्ली— भारत में कालेधन पर काबू पाने के लिए भले ही अभियान चलाए जाते रहे हैं, लेकिन यह भी हकीकत है कि साल 2017 में स्विस बैंकों में भारतीयों के धन 50% अधिक जमा हुए हैं, जबकि पाकिस्तानियों के जमा धन में 21% की गिरावट आई है। यह जानकारी शुक्रवार को मीडिया रिपोर्ट से मिली। रिपोर्ट के मुताबिक, स्विस बैंकों में भारतीयों की जमा धन राशि 7,000 करोड़ रुपये तक पहुंच गई है। हालांकि इसके पहले इसमें लगातार तीन साल तक गिरावट आई थी। वैसे यहां के बैंकों में दुनिया के सभी विदेशी ग्राहकों का जमा काला धन साल 2017 में 3% बढ़कर 100 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया।

इस दौरान पाकिस्तानियों के जमा काले धन में 21% की गिरावट आई है, फिर भी स्विस बैंकों में काला धन रखने में वे भारतीयों से आगे हैं। अब भी उनके 7700 करोड़ रुपये यहां के बैंकों में हैं। उल्लेखनीय है कि साल 2016 में भारतीयों द्वारा जमा काले धन में 25% की गिरावट आई थी और कुल जमा घटकर 4,500 करोड़ रुपये तक पहुंच गया था।

कांग्रेस ने स्विस बैंकों में भारतीय नागरिकों द्वारा रखे जाने वाले धन में 50% की बढ़ोतरी पर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा और कहा कि ‘अच्छे दिन जुमले बन गए।’ पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ‘प्रधानमंत्री मोदी जी, भारत का रुपया तो कमजोर होकर एक डॉलर के मुकाबले 69.10 रुपये हो गया। वादा था, एक डॉलर को 40 रुपये करने का।’

प्रवक्ता ने यह भी कहा, ‘स्विस बैंकों में काला धन 50% बढ़कर 7000 करोड़ रुपये हो गया है। वादा था विदेशी बैंकों से 100 दिनों में 80 लाख करोड़ रुपये वापस लाने का।’ सुरजेवाला ने भाजपा सरकार पर तंज कसते हुए कहा, ‘जुमले बने अच्छे दिन, कहां गए वो सच्चे दिन?’ उल्लेखनीय है कि स्विट्जरलैंड के केंद्रीय बैंक के ताजा आंकड़ों के अनुसार भारतीयों द्वारा स्विस बैंक खातों में रखा गया धन वर्ष 2017 में 50% से अधिक बढ़कर 7000 करोड़ रुपये (1.01 अरब डॉलर) हो गया है।

वर्ष 2016 में भारतीयों द्वारा जमा काले धन में 25% की गिरावट आई थी और कुल जमा राशि घटकर 4,500 करोड़ रुपये तक पहुंच गई थी। स्विस बैंक खातों में रखे भारतीयों के धन में वर्ष 2011 में इसमें 12%, वर्ष 2013 में 43%, वर्ष 2017 में इसमें 50.2% की वृद्धि हुई। इससे पहले वर्ष 2004 में यह धन 56% बढ़ा था। यह आंकड़ा इसलिए भी चौंकाता है कि क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी सरकार आने के बाद लगातार 3 साल कालेधन में कमी आई थी। लेकिन 2016 में नोटबंदी का फैसले के बाद इसमें अचानक बढ़ोतरी हुई। स्विस बैंक ने जो आंकड़े जारी किए हैं वह 2017 के हैं और नोटबंदी 8 नवंबर, 2016 को लागू हुई थी। तब इसे कालेधन के खिलाफ सबसे बड़ी ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ बताया गया था।

Click/tap on a tag for more on the subject

Related

Of late

More like this

[prisna-google-website-translator]