7 मार्च से शनि और मंगल की युक्ति भारत और पुरे विश्व के लिए अशुभ होगी। यह स्थिति 2 मई तक रहेगी।

इस दौरान देश और विदेश में भारी नुक़सान एवं मानहानि की संभावना है। ज़मीनी यातायात और हवाई यातायात में भी नुक़सान हो सकता है। आतंकवादी गतिविधियां तेज हो सकती हैं। उससे भारी हानि का सामना करना पड़ेगा।

भारत के आठवें भाव में यह युक्ति धनु राशि में हो रही है जिसके कारण देश में उपद्रव एवं आतंकवादी गतिविधियाँ बढ़ जाएंगी, जिसके कारण काफ़ी भयावह परिस्थितियों का सामना करना पद सकता है। प्राकृतिक आपदाएं — जैसे भूकंप भी — आने की संभावनाएं तीब्र हैं। देश में जहाँ-जहाँ सरकार जिसकी है वहां पर उसका विरोध तेज़ी से होगा और चुनाव में भी उसका नुक़सान होगा।