22 C
New Delhi
Wednesday 13 November 2019
India Crime चिदंबरम पीठ के दर्द से परेशान, अदालत को दी...

चिदंबरम पीठ के दर्द से परेशान, अदालत को दी तकिये की अर्ज़ी

पूर्व केन्द्रीय मंत्री और INX मीडिया मामले में अभियुक्त पी चिदंबरम द्वारा अदालत को दी गई अर्ज़ी में कहा गया है कि 'कमरे के बाहर कुर्सियां ​थीं; मैं दिन भर वहीं बैठता था, अब वह भी वापस ले लिया गया है'

-

- Advertisment -

Subscribe to our newsletter

You will get all our latest news and articles via email when you subscribe

The email despatches will be non-commercial in nature
Disputes, if any, subject to jurisdiction in New Delhi

नई दिल्ली | पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने आज दिल्ली की एक अदालत को बताया कि तिहाड़ जेल में उनके लिए अब न तो कोई कुर्सी है और न ही एक भी तकिया, जहां उन्हें 5 सितंबर से जेल में क़ैद रखा गया है।

चौहत्तर वर्षीय नेता चिदंबरम के “पीठ के दर्द में निरंतर वृद्धि” की शिकायत करते हुए उनके वकीलों ने अदालत से कहा कि उनकी मेडिकल जांच के लिए भी याचिका दायर की गई है क्योंकि अदालत ने उनकी हिरासत 3 अक्टूबर तक बढ़ा दी।

चिदंबरम की गुहार में कहा गया है कि “कमरे के बाहर कुर्सियां ​थीं; मैं दिन भर वहीं बैठा रहता था, अब वह भी वापस ले लिया गया है। क्योंकि मैं इसका इस्तेमाल कर रहा था, उन्होंने इसे हटा दिया है। अब तो वार्डन भी बिना कुर्सी के हैं।” उनके वकीलों के बाद कपिल सिब्बल और अभिषेक मनु सिंघवी ने उनकी रिहाई के लिए एक मामला बनाया।

चिदंबरम के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, “उनके पास तीन दिन पहले तक एक कुर्सी थी। अब न तो कुर्सी है और न ही तकिया है।”

इसपर सरकार ने अदालत से कहा कि यह एक “छोटा मुद्दा” है और सेल में कोई कुर्सी कभी नहीं थी। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा, “यह एक छोटा मुद्दा है। इसे सनसनीखेज़ बनाने की ज़रूरत नहीं है। यह एक छोटी कुर्सी है। शुरुआत से ही उनके कमरे में कोई कुर्सी नहीं थी।”

चिदंबरम की तरफ से कहा गया कि उनकी पीठ का दर्द अब बदतर हो गया है। चिदंबरम की क़ानूनी टीम ने सुनवाई की अगली तारीख़ 3 अक्टूबर तय किए जाने का विरोध किया। उनके दूसरे वकील कपिल सिब्बल ने कहा, “कस्टडी को यंत्रवत् बढ़ाया नहीं जा सकता। कस्टडी बढ़ाने का आधार क्या है?”

सिंघवी ने विभिन्न अदालती निर्णयों का उल्लेख किया जहां कहा गया था कि हिरासत को यांत्रिक रूप से नहीं बल्कि वैध आधार पर बढ़ाया जाना चाहिए। “श्री चिदंबरम पहले ही 14 दिन की पुलिस रिमांड और 14 दिन की न्यायिक रिमांड पूरी कर चुके हैं। विस्तार का क्या कारण है?” उन्होंने पूछा।

सिब्बल ने कहा कि यदि कांग्रेस के सभी नेताओं की हिरासत बढ़ाई जा रही है तो यह कम अवधि के लिए होनी चाहिए। उन्होंने एम्स या आरएमएल अस्पताल में मेडिकल परीक्षण का भी आग्रह किया।

चिदंबरम पर देश के वित्त मंत्री के रूप में सन 2007 में कंपनी INX मीडिया को विदेशी पूँजी के लिए अनुचित व ग़ैर-क़ानूनी अनुमोदित करने का आरोप है। उनके बेटे कार्ति चिदंबरम पर प्रक्रिया को सुविधानुसार बदलने और इस प्रकार रिश्वत प्राप्त करने का आरोप है।

चिदंबरम का नाम INX के सह-संस्थापक पीटर और इंद्राणी मुखर्जी ने लिया था, जो इंद्राणी की बेटी शीना बोरा की हत्या के मामले में मुंबई की जेल में हैं। उन्होंने जाँच एजेंसियों को बताया कि चिदंबरम ने उनकी FIPB वाली अर्ज़ी को इस शर्त पर मंज़ूरी दी कि विदेशी पूँजी मिलने पर उनके बेटे कार्ति चिदंबरम को फ़ायदा हो।

चिदंबरम ने सोमवार को अपना 74 वां जन्मदिन मनाया। एक समाचार एजेंसी के अनुसार उनका स्वास्थ्य ठीक है।

इस बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री ने ‘कड़े’ क़ानून के तहत जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक़ अब्दुल्ला को हिरासत में लिए जाने सहित विभिन्न विषयों पर सरकार को निशाना बनाते हुए जेल से अपने ट्विटर टाइमलाइन को सक्रिय रखा है।

Leave a Reply

Opinion

Guru Nanak Jayanti: What First Sikh Guru Taught

While Guru Nanak urged people to 'nām japo, kirat karo, vand chhako', he stood for several values while he also fought various social evils

Muhammed Who Inconvenienced Muslims

Archaeologist KK Muhammed had earlier got on the nerves of the leftist intelligentsia for exposing their nexus with Islamic extremists

UCC Now, Rajnath Hints: Here’s How Modi Can Do It

Modi can argue in a manner to make UCC look secular and pro-Hindu at the same time, making a Muslim or Christian counterargument impossible

Tulasi: Two Stories, One Reason For Devotion

The Padma Purana, Devi Bhagavatam and Skanda Purana tell the story of Tulasi or Vrinda differently but the essence of devotion is a constant

BJP Cannot Afford Ideological Confusion

Being everything to everybody is Congress, which now faces doom. Socialism, secularism and 'sabka vishwas' are pushing BJP down the same path.
- Advertisement -

Elsewhere

Guru Nanak Jayanti: What First Sikh Guru Taught

While Guru Nanak urged people to 'nām japo, kirat karo, vand chhako', he stood for several values while he also fought various social evils

Kajal of India reaps ‘reward’ of marrying a Pakistani

The case of Kajal differs from love jihad stories: a country rather than an individual has dashed her hopes, but there is a similarity, too

Congress to help in Maha’ govt formation under 5 conditions

They just begin with not letting a Thackeray be the chief minister, but even otherwise, Congress and NCP leaders are not getting along well

Jharkhand BJP haunted by Maharashtra alliance woes?

A BJP source said that the outcome of Maharashtra affected the party's Jharkhand policy where it refused to give 'winnable' seats away

Industrial production at 8-year low in September

Most industrial groups registered negative growth rates in the period, reminiscent of 2011-12 when manufacturing had gone into a tailspin

You might also likeRELATED
Recommended to you

For fearless journalism

%d bloggers like this: