26.4 C
New Delhi
Wednesday 23 October 2019
Views Articles ऊर्जा — मोदी ला रहे अमेरिका से वैकल्पिक स्रोत...

ऊर्जा — मोदी ला रहे अमेरिका से वैकल्पिक स्रोत की सौग़ात

ह्यूस्टन आना और ऊर्जा पर बात नहीं करना असंभव है! प्रमुख ऊर्जा क्षेत्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ अद्भुत बातचीत हुई — प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

-

- Advertisment -

राज्य-संचालित पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड द्वारा टेल्यूरियन इंक के अमेरिकी गल्फ कोस्ट प्रोजेक्ट में निवेश करने की अपनी योजना की घोषणा होते ही हुए ऊर्जा ने भारत-अमेरिका के द्विपक्षीय संबंधों में नए पुल के रूप में अपनी जगह बना ली है।

भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमेरिका की सप्ताह भर की यात्रा के दौरान आयोजित सीईओ वार्ता में नई दिल्ली में वाशिंगटन के बीच रक्षा साझेदारी के साथ-साथ एलएनजी की घोषणा महत्वपूर्ण थी। भारत के पेट्रोलियम सचिव एमएम कुट्टी का होटल पोस्ट ओक में आयोजित ऊर्जा सम्मलेन के दौरान प्रधानमंत्री मोदी के साथ उपस्थित होना भारत-अमेरिका संबंधों में ऊर्जा सुरक्षा के महत्व को रेखांकित करता है।

दुनिया के सबसे पुराने और सबसे बड़े लोकतंत्रों के बीच संबंध हाल में तनावग्रस्त हो गए जब दोनों देशों के बीच आयात होने वाले सामान पर शुल्क बढ़ाने की होड़ लग गई।

ह्यूस्टन वैश्विक ऊर्जा राजधानी है जिसे “हाउडी मोदी” कार्यक्रम के लिए चुना गया था। यह शहर उत्तरी अमेरिका में भारत के ऊर्जा सुरक्षा प्रयासों के केंद्र के रूप में उभरा है। टेक्सस के गवर्नर ग्रेगरी वेन एबॉट ने जब पिछले साल नई दिल्ली का दौरा किया था तब अपने राज्य में भारत द्वारा पूंजी-निवेश का आग्रह किया था।

भारत अमेरिका से तरल प्राकृतिक गैस (एलएनजी) और कच्चे तेल की सोर्सिंग कर रहा है जब कि भारतीय कंपनियों ने अमेरिकी शेल गैस में $ 4 बिलियन का निवेश किया है।

अगले 25 वर्षों में भारत की ऊर्जा मांग प्रति वर्ष 4.2% बढ़ने की गणना को ध्यान में रख अमेरिका के साथ LNG का 9 मिलियन मेट्रिक टन प्रति वर्ष (mmtpa) अनुबंध किया गया है जिससे यह US LNG का छठा सबसे बड़ा ख़रीदार बन गया है।

देश के सबसे बड़े रिफ़ाइनर इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन इससे पहले नॉर्वे के इक्विनोर एएसए और अल्जीरिया की राज्य ऊर्जा कंपनी सोनटैर्च से 2019-20 अवधि के लिए कच्चे तेल के कुल 4.6 मिलियन टन के दो टर्म कॉन्ट्रैक्ट में शामिल हो चुका है।

प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी सप्ताह भर की लंबी यात्रा शुरू करने के लिए अपनी पहली बैठक में अन्य लोगों के अलावा एक्सॉनमोबिल, बीपी पीएलसी, चेनियर एनर्जी, डोमिनियन एनर्जी और टोटल एसए जैसे 17 बड़ी-बड़ी ऊर्जा कंपनियों के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों से मुलाकात की।

ऊर्जा सीईओ की बैठक का उल्लेख करते हुए पीएम मोदी ने रविवार को अपने भाषण में कहा कि हर कोई कॉर्पोरेट करों को कम करने के भारत के क़दम के बारे में उत्साहित था। आर्थिक मंदी को उलटने और भारत को एक आकर्षक निवेश गंतव्य बनाने के साहसिक क़दम में एनडीए सरकार ने शुक्रवार को घरेलू निर्माताओं द्वारा भुगतान किए गए कॉरपोरेट कर की दरों में 1.45 लाख करोड़ रुपये की कटौती की थी — जिससे देश एशिया में सबसे कम कर वसूलने वाले देशों की क़तार में खड़ा हो गया।

मोदी ने कहा कि वैश्विक व्यापार में एक सकारात्मक संदेश गया है।

ऊर्जा सुरक्षा मामले में अमेरिकी राज्य टेक्सस का महत्त्व

भारत का टेक्सस और अमेरिका के साथ एक नई ऊर्जा संरचना स्थापित करना इस तरह की पहली कोशिश नहीं है। सन 2015 में अमेरिकी तेल निर्यात पर चार दशक के प्रतिबंध के बाद अमेरिका से भारत में कच्चे तेल का पहला शिपमेंट अक्टूबर 2017 में ओडिशा पहुँचा। इसके अलावा ह्यूस्टन-स्थित चेनियर एनर्जी (Cheniere Energy) का पहला दीर्घकालिक एलएनजी अमेरिकी कार्गो पिछले साल 31 मार्च को महाराष्ट्र के दाभोल टर्मिनल पर पहुंचा था।

“ह्यूस्टन आना और ऊर्जा पर बात नहीं करना असंभव है! प्रमुख ऊर्जा क्षेत्र के मुख्य कार्यकारी अधिकारियों के साथ अद्भुत बातचीत हुई। हमने ऊर्जा क्षेत्र में अवसरों को उपयोग में लाने के तरीकों पर चर्चा की,” प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा।

टेल्यूरियन ने लुइसियाना के लेक चार्ल्स के पास अपने प्रस्तावित एलएनजी टर्मिनल में हिस्सेदारी के लिए भारत की पेट्रोनेट एलएनजी लिमिटेड के साथ $ 750 करोड़ के समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं जो कि विदेशों में शिपिंग शेल गैस के लिए अमेरिका में सबसे बड़े विदेशी निवेशों में से एक हो सकता है। भारत दुनिया का चौथा सबसे बड़ा एलएनजी आयातक है।

रविवार को अपने भाषण में राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा कि अमेरिका ऊर्जा का सबसे बड़ा उत्पादक है और प्रस्तावित पेट्रोनेट-टेल्यूरियन सौदे के लिए संदर्भित है।

पेट्रोनेट 28 बिलियन डॉलर के बहाव वाले एलएनजी टर्मिनल में 18% इक्विटी हिस्सेदारी के लिए $ 250 करोड़ खर्च करेगा, जो परियोजना में अब तक की सबसे बड़ी होल्डिंग है। प्रतिवर्ष 50 लाख टन गैस की खरीद पर बातचीत जारी है।

भारत के तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने एक ट्वीट में कहा, “ह्यूस्टन में हस्ताक्षरित एमओयू भारत-अमेरिका सामरिक ऊर्जा भागीदारी के तहत व्यापक ऊर्जा सहयोग का हिस्सा है जो हमारे ऊर्जा व्यापार और निवेश संबंधों को और गहरा करेगा।”

ह्यूस्टन की बैठक इस वर्ष मोदी और ट्रम्प के बीच तीसरी बैठक थी और पहली बार किसी अमेरिकी राष्ट्रपति ने अमेरिका में भारतीय समुदाय द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया।

भारत और अमेरिका ने पिछले साल अप्रैल में नई दिल्ली में शुरू की गई अपनी ऊर्जा भागीदारी को और मज़बूत करने की योजना बनाई है। यह भागीदारी केवल व्यापार जगत से ताल्लुक़ नहीं रखता बल्कि ये समझौते दोनों देशों के प्रगाढ़ होते संबंधों का एक रणनैतिक हिस्सा हैं। सामरिक ऊर्जा साझेदारी के तहत चार कार्य समूह बनाए गए हैं — तेल और गैस, शक्ति और ऊर्जा दक्षता, नवीकरणीय ऊर्जा और सतत विकास।

दिलचस्प बात यह है कि भारत भी अमेरिका को एक विश्वसनीय और दीर्घकालिक ऊर्जा साझेदार के रूप में देखता है। नई दिल्ली और बीजिंग भी कच्चे तेल की ख़रीद के लिए सामूहिक रूप से सौदेबाजी करने के लिए खरीदारों का समूह बनाने के लिए तैयार हैं। एशियाई पड़ोसियों के बीच बढ़ती व्यस्तता को देखते हुए, यह अमेरिकी ऊर्जा सचिव रिक पेरी ने अप्रैल 2018 में नई दिल्ली में आयोजित अमेरिकी-इंडिया स्ट्रेटेजिक एनर्जी पार्टनरशिप की उद्घाटन बैठक के दौरान अमेरिका को एक पसंदीदा ऊर्जा भागीदार के रूप में प्रस्तुत किया था।

सऊदी अरामको की उत्पादन सुविधाओं पर ड्रोन हमलों की पृष्ठभूमि में भारत के लिए अपनी कच्चे तेल की आपूर्ति की रणनीति पर पुनर्विचार करने का अवकाश है। हमले से वैश्विक कच्चे तेल की आपूर्ति में सबसे बड़ा व्यवधान पैदा किया है। एनडीए (NDA) सरकार भी ईरान के प्रतिबंधों से ऊर्जा आयात के मुद्दे पर डॉनल्ड ट्रम्प प्रशासन के साथ बातचीत कर रही है।

अमेरिकी विदेश मंत्री माइकल रिचर्ड पोम्पिओ ने भारत को कच्चे तेल की पर्याप्त आपूर्ति का वादा किया है। भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल आयातक है — ऐसे में मोदी सरकार नागरिकों को वैश्विक क़ीमतों में बढ़ोतरी से बचाने की कोशिश कर रही है।

अमेरिका और चीन के बाद ग्रीनहाउस गैसों का सबसे बड़ा उत्सर्जक भारत अब गैस-आधारित अर्थव्यवस्था पर ज़ोर दे रहा है और 2020 तक 1 करोड़ घरों को प्राकृतिक गैस से जोड़ने की योजना बना रहा है। सन 2030 तक भारत की कार्बन उत्सर्जन को 2005 के अपने स्तर से 33-35% कम करने की योजना है। यह सन 2015 में पेरिस में 195 देशों द्वारा जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन के अंतर्गत भारत की प्रतिबद्धताओं में शामिल है।

टेल्यूरियन के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी मेग जेंटल ने एक बयान में कहा कि प्राकृतिक गैस का उपयोग बढ़ना भारत के लिए अपने वातावरण को स्वच्छ रखते हुए प्रचंड आर्थिक वृद्धि के साथ $ 5 ट्रिलियन (50 खरब) अर्थव्यवस्था के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में सहायक सिद्ध होगा।

Subscribe to our newsletter

You will get all our latest news and articles via email when you subscribe

The email despatches will be non-commercial in nature
Disputes, if any, subject to jurisdiction in New Delhi
Surajit Dasgupta
Surajit Dasgupta
The founder of सिर्फ़ News has been a science correspondent in The Statesman, senior editor in The Pioneer, special correspondent in Money Life and columnist in various newspapers and magazines, writing in English as well as Hindi. He was the national affairs editor of Swarajya, 2014-16. He worked with Hindusthan Samachar in 2017. He was the first chief editor of Sirf News and is now back at the helm after a stint as the desk head of MyNation of the Asianet group. He is a mathematician by training with interests in academic pursuits of science, linguistics and history. He advocates individual liberty and a free market in a manner that is politically feasible. His hobbies include Hindi film music and classical poetry in Bengali, English, French, Hindi and Urdu.

Leave a Reply

Opinion

Aaditya Thackeray, Shiv Sena’s Existential Gambit

With leaders deserting Shiv Sena or debilitated with age, the party's footprint shrinking and Uddhav lacking Balasaheb's charisma, Aaditya had to step in to maintain the dynasty that has mostly been betrayed when politicians not from the Thackeray family were trusted

Karva Chauth: Faith, legend behind viewing the moon through a sieve

The legend and Karva Chauth rituals vary across Rajasthan, Uttar Pradesh, Himachal Pradesh, Madhya Pradesh, Haryana, Punjab, Delhi and, in south India, Andhra Pradesh

Pakistan-Occupied Kashmir, Here We Come!

Study Wuhan and Mamallapuram in the backdrop of the fact that things are not quite working out in China-Pakistan economic relations, notwithstanding the urge of the communist state to contain India and that of the Islamic state to challenge it

Slowdown Has Reasons Other Than GST, Demonetisation

When all economic sectors decline, the mood of the market turns sombre, turning investors all the more reluctant to pump in money; the interdependence of industries means that the slowdown suffered by one would affect many

Where China & India, Resisting & Improving Democracy, Meet

What you see in Hong Kong is China resisting democracy; what you see in Kashmir is India promoting it; a reasonably capitalist China does not offer freedom politically but India, held back at times by the choice of the people, is still opening up; there could be a point of convergence as the two nations move in opposite directions
- Advertisement -

Elsewhere

Kartarpur Corridor: Govt yields under Sikh pilgrim pressure

However, India would ask for amendment of the Kartarpur Corridor agreement with Pakistan at any time as per the situation, said the MEA

Kamlesh Tiwari murder: Rashid, Faizan, Mohsin tough nuts to crack

While police suspect Rashid Ahmad Khurshid Ahmad Pathan to be the main conspirator, he managed to delete all photos and videos from his mobile phone before it was seized; now he claims he has nothing to do with the conspiracy to kill the former Hindu Mahasabha leader

Abhijit Banerjee emerges from meeting with PM satisfied

One could derive that sense from the way the joint winner of this year's Nobel Prize for economics narrated how Prime Minister Narendra Modi explained to him his governance model

Love jihad did not spare even a BJP leader’s daughter?

While former BJP MLA Surendra Nath Singh accuses Congress MLA Arif Masood of engineering 'love jihad', the latter, as well as 26-year-old Bharti, denies the charge

Muslim moulding-of-relief affidavit leaked before reaching SC

Just a query from the CJI and no further action against the petitioners is yet another instance after Rajeev Dhavan's act of tearing a map submitted by one of the Hindu parties where the Supreme Court was seen treating the Muslim side with kid-gloves

You might also likeRELATED
Recommended to you

%d bloggers like this: