Saturday 16 January 2021
- Advertisement -

आयुर्वैज्ञानिक नैतिकता का खुला उल्लंघन

- Advertisement -
Politics India आयुर्वैज्ञानिक नैतिकता का खुला उल्लंघन

लीगंज निवासी सुरेश चन्द्र शुक्ला की हेपटाइटिस-सी से पीड़ित पत्नी ममता शुक्ला की संजय गाँधी पोस्टग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज़ (एस जी पी जी आई या संजय गाँधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान), लखनऊ में हो रहे इलाज के दौरान मृत्यु हो गई।

शुक्ला ने इसके लिए गैस्ट्रोइंटेरोलोजी विभाग के डॉ विवेक आनंद सारस्वत और डॉ श्रीजीत वेणुगोपाल को दोषी ठहराते हुए उनके विरुद्ध पी जी आई थाने पर मुक़दमा दर्ज करवाया है। प्रारंभिक सूचना रपट (FIR) के अनुसार इन चिकित्सकों ने उनकी पत्नी को प्रयोग के तौर पर जान-बूझ कर ट्रायल ड्रग थाइमोसीन अल्फा-1 इंजेक्शन — जिससे हड्डी का कैंसर होने की काफी सम्भावना रहती है और जिसेसेंट्रल ड्रग स्टैण्डर्ड कण्ट्रोल आर्गेनाइजेशन मात्र हेपटाइटिस बीरोगियों के लिए अनुमन्य करता है — दिया जो उनकी मौत का कारण बना।

शुक्ला ने इस सम्बन्ध में 11 अप्रैल 2014 को कोड ऑफ़ मेडिकल एथिक्स (आयुर्विज्ञान नीति संहिता) 2002 के अनुच्छेद 1.3.2. — जिसमें रोगी अथवा इसके अधिकृत तीमारदार को 72 घंटे में वांछित मेडिकल रिकॉर्ड दिए जाने का प्रावधान है — के तहत अपनी पत्नी के इलाजसे जुड़े समस्त मेडिकल रिकॉर्ड मांगे। इस कोड के अनुच्छेद 7.2 में निर्धारित अवधि में रिकॉर्ड नहीं देना कदाचरण माना गया है। शुक्ला ने उसी समय आरटीआई (सूचना अधिकार) में भी ये अभिलेख मांगे।

एस जी पी जी आई द्वारा अब तक यह रिकॉर्ड एथिक्स कोड अथवा आरटीआई में देने से स्पष्ट आनाकानी किये जाने पर शुक्ला ने एक्टिविस्ट (प्रतिभागी) नूतन ठाकुर के पति अमिताभ ठाकुर से संपर्क किया जिन्होंने संस्थान के निदेशक आर के शर्मा को पत्र लिख कर 72 घंटे में सूचना दिए जाने और ऐसा नहीं होने पर निदेशक और अन्य सम्बंधित चिकित्सकों के विरुद्ध एथिक्स कोड के अनुच्छेद 8 के तहत मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया (भारतीय आयुर्विज्ञान परिषद्) में जाने की बात कही है।

यह हाल श्रेष्ठ कहे जाने वाले मेडिकल संस्थान का है!

- Advertisement -
Surajit Dasgupta
Surajit Dasgupta
The founder of Sirf News has been a science correspondent in The Statesman, senior editor in The Pioneer, special correspondent in Money Life and columnist in various newspapers and magazines, writing in English as well as Hindi. He was the national affairs editor of Swarajya, 2014-16. He worked with Hindusthan Samachar in 2017. He was the first chief editor of Sirf News and is now back at the helm after a stint as the desk head of MyNation of the Asianet group. He is a mathematician by training with interests in academic pursuits of science, linguistics and history. He advocates individual liberty and a free market in a manner that is politically feasible. His hobbies include Hindi film music and classical poetry in Bengali, English, French, Hindi and Urdu.

Views

- Advertisement -

Related news

- Advertisement -

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: